मौत बन कर गिरी आकाशीय बिजली, चार जिलों में 11 लोगों की मौत, दर्जनभर से ज्यादा घायल

0
9

बिहार में आंधी – पानी के साथ वज्रपात से दरभंगा और खगड़िया जिलों में पांच लोगों की मौत हो गयी. दरभंगा जिले के दो थाना क्षेत्रों में शुक्रवार की सुबह अलग-अलग पांच स्थानों पर आकाशीय बिजली गिरने से चार लोगों की मौत हो गयी. बताया जाता है कि कुशेश्वरस्थान और बिरौल थाना क्षेत्र में शुक्रवार की सुबह वज्रपात से अलग-अलग स्थानों पर चार लोगों की मौत हो गयी. कुशेश्वरस्थान थाना क्षेत्र में चार तथा बिरौल में एक व्यक्ति की मौत की पुष्टि हुई है. वहीं, खगड़िया में मवेशी चराने के दौरान बिजली गिरने से एक युवक की मौत हो गयी.

कुशेश्वरस्थान के कुबोटन गांव के हरिलाल यादव का 55 वर्षीय पुत्र महादेव यादव गांव के बाहर शौच करने जाते समय वज्रपात का शिकार बन गया. दुबहा गांव के रूपलाल यादव का 55 वर्षीय पुत्र मदन यादव, बिरौल थाना क्षेत्र के नौडेगा बलहा गांव निवासी साधुशरण यादव का पुत्र 35 वर्षीय पुत्र हरेराम यादव तथा विलट राम का 34 वर्षीय पुत्र जनार्दन राम की भी मौत वज्रपात से हो गयी. घटना सुबह करीब सात बजे की है. हरेराम व जनार्दन ट्रैक्टर चालक था. बारिश को देखते हुए प्राथमिकी विद्यालय बैरो बथनाहा, कुशेश्वरस्थान के बाहर दोनों खड़े हो गये थे. उधर, बिरौल में मवेशी चराने निकले बिंदे यादव वज्रपात की चपेट में आने से गंभीर रूप से जख्मी हो गया. कुशेश्वरस्थान के सीओ कृष्ण कुमार सिंह व थानाध्यक्ष राशिद परवेज ने घटना की पुष्टि की है.

 सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल के बलवाहाट ओपी क्षेत्र के करूआ गांव में शुक्रवार को वज्रपात से दो बच्चों की मौत हो गयी. वहीं, एक बच्चा गंभीर रूप से झुलस गया. घायल बच्चे का सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है. तीनों बच्चे 10 वर्षीया मनीषा कुमारी, आठ वर्षीय अंकित कुमार और छह वर्षीय अविनाश कुमार एक ही परिवार के हैं. तीनों बच्चे शुक्रवार की सुबह घर से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर स्थित बगीचे में आम चुनने गये थे. इसी तरह करीब छह बजे वज्रपात से तीनों जख्मी हो गये. घायल बच्चों को सदर अस्पताल लाया गया. गंभीर स्थिति को देखते हुए तीनों को बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया गया. इस बीच, दो बच्चों को मौत हो गयी. मृत व जख्मी बच्चों के पिता ने बताया कि तीनों बच्चे सुबह उठ कर छाता मांगा. मेरे छाता नहीं दिये जाने और डांट कर बाहर जाने से मना करने के बावजूद मेरी आंख लगते ही तीनों बच्चे बारिश में ही घर से बाहर निकल गये. थोड़ी ही देर बाद वज्रपात की जानकारी मिली. उन्होंने बताया कि अंकित निजी स्कूल के हॉस्टल में पढ़ता था और चार जून को ही गर्मी की छुट्टियों में घर आया था. वहीं, दूसरी ओर सलखुआ थाने के गौसपुर में आम चुनने गये जितेंद्र यादव के 18 वर्षीय पुत्र सागर कुमार की भी मौत हो गयी. जबकि, सिमरी बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के बघवा निवासी 65 वर्षीय फूलो यादव की भी मौत हो गयी. परिजनों ने बताया कि फूलो यादव अपनी भैंस को लेकर बहियार गया था. इसके अलावा, बसनही थाने क्षेत्र की कोपा पंचायत में भी एक महिला की मौत की खबर मिली है. सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया है.

वहीं, खगड़िया जिले के मानसी थाना क्षेत्र के सरसवा गांव में वज्रपात होने से एक युवक की मौत होने की खबर है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सरसवा गांव के रहनेवाले समसागर चौधरी का पुत्र 21 वर्षीय बिट्टू कुमार की मौत मवेशी चराने के दौरान बिजली गिरने से हो गयी.मधेपुरा में सपरदह पंचायत के कड़ामा गांव में बीती रात हुए बारिश के दौरान हुए वज्रपात की चपेट में आने से एक 35 वर्षीय युवक की मौत हो गयी. युवक की मौत से जहां उसके घर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा, वहीं गांव में मातमी सन्नाटा छा गया है. जानकारी अनुसार, कड़ामा निवासी मनोज अपने दरवाजे पर अपने भतीजे के साथ सोया था. शुक्रवार की अहले सुबह बिजली तरकने की आवाज की डर से जहां उसका भतीजा रोते हुए आंगन की ओर भागा. लेकिन मनोज वज्रपात की चपेट में आ गया, जिससे उसकी मौत हो गयी. शव को पोस्टमार्टम के लिए मधेपुरा भेज दिया गया है. वहीं, मुखिया कंचन देवी एवं उपमुखिया बैकुंठ झा ने मृतक के परिजन को कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत तीन हजार रुपये दिये.

यह भी पढ़े  राज्य के विशेष दर्जे की मांग के मुद्दे के साथ अगर जदयू साथ आये, तो वह स्वागत करेंगे :कांग्रेस

वहीं दूसरी ओर, शुक्रवार को हुई बारिश और वज्रपात से 12 लोग हो गये. गम्हरिया प्रखंड मुख्यालय क्षेत्र में हुई बारिश में इटवा जीवछपुर पंचायत के सिहपुर वार्ड संख्या-9 में शुक्रवार की सुबह 5:00 बजे वज्रपात होने से 12 लोग घायल हो गये. इसके बाद आशा कार्यकर्ता क पति द्वारा गम्हरिया पीएचसी को सूचना देकर एंबुलेन्स बुलाया गया और सभी को गम्हरिया पीएससी में भर्ती कराया गया. मौजूद डॉक्टर सत्यनारायण साह द्वारा सभी घायलों का इलाज जारी किया गया. घायलों में 65 वर्षीय सत्तो शर्मा, 65 वर्षीया देवकी देवी, 40 वर्षीया अनीता देवी, 35 वर्षीया झुना देवी, 50 वर्षीया शकुंतला देवी, 50 वर्षीय बनी लाल शर्मा, 40 वर्षीया जयमाला देवी, 35 वर्षीया लक्ष्मी देवी, 30 वर्षीया मनीला देवी, 45 वर्षीया अरुहलिया देवी, सात वर्षीय दिलखुश कुमार, पांच वर्षीय लवकुश कुमार, 35 वर्षीय इंद्रवती देवी, 40 वर्षीया शाखो देवी शामिल हैं. डॉक्टर ने बताया कि सभी खतरे से बाहर हैं. प्रखंड प्रमुख शशि कुमार, जदयू प्रखंड अध्यक्ष अशोक कुमार उर्फ गरजू, जदयू महासचिव प्रभु नारायण मेहता, कर्मलाल मेहता, संतोष मेहता, सदानंद यादव, कमल किशोर पांडे समेत कई लोग घायल मरीजों से पीएचसी पहुंच कर हालात का जायजा लिया.

यह भी पढ़े  लालू के मांगने पर कैलाशपति ने दिया था समर्थन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here