मोतिहारी बना भारत-नेपाल संबंधों का नया पुल, पेट्रोलियम पाइपलाइन से जुड़े दोनों देश

0
21

भारत और नेपाल अब पेट्रोलियम पाइप लाइन के जरिये भी आपस में जुड़ गया है. मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के उनके समकक्ष केपी शर्मा ओली ने मंगलवार को वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए उद्घाटन किया. यह दक्षिण एशिया में दो पड़ोसी देशों के बीच सीमा के आर-पार बनी पहली पाइपलाइन परियोजना है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के उनके समकक्ष केपी शर्मा ओली ने मंगलवार को वीडियो लिंक के जरिये मोतिहारी से अमलेखगंज तक की पेट्रोलियम पाइपलाइन का उद्घाटन किया। यह दक्षिण एशिया में किसी पड़ोसी देश के साथ शुरू होने वाली पहली पाइपलाइन परियोजना है। उद्घाटन के अवसर पर दी गई प्रस्तुती के अनुसार बिहार के मोतिहारी से नेपाल के अमलेखगंज के बीच 69 किलोमीटर लंबी सीमापार जाने वाली यह दक्षिण एशिया क्षेत्र की पहली पेट्रोलियम पाइपलाइन परियोजना है। अब तक भारत से नेपाल के लिये टेंकर के जरिये पेट्रोलियम उत्पादों को भेजा जाता रहा है। पाइपलाइन के जरिये हर साल 20 लाख टन पेट्रोलियम उत्पादों को उचित दाम पर नेपाल भेजा जायेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने नेपाल के साथ मोतीहारी-अमलेखगंज पाइप लाइन का उद्घाटन होने पर प्रसन्नता जाहिर की। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि हम अपने सहयोग के सभी क्षेत्रों में प्रगति कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि हम अपनी भागीदारी को और व्यापक बनाने तथा विविध क्षेत्रों में साझेदारी को और गहरा करने के लिए तेजी से आगे बढें़गे।’ मोदी ने कहा कि नेपाल के प्रधानमंत्री पहले ही कह चुके हैं पाइपलाइन के जरिये पेट्रोलियम पदार्थों की आपूत्तर्ि से लागत में जो कमी आयेगी उसका लाभ उपभोक्ताओं का दिया जायेगा। ‘‘नेपाल के लोगों को इसका लाभ मिलेगा।’ मोतिहारी- अमलेखगंज पेट्रोलियम पाइपलाइन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जितनी अपेक्षा थी, उससे आधे समय में यह बन कर तैयार हुई है। इसका श्रेय नेपाल सरकार के नेतृत्व उनके सहयोग को और दोनों देशों द्वारा किये गये संयुक्त प्रयास को जाता है। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने इस अवसर पर पाइपलाइन परियोजना के लिये भारत का आभार जताया।

यह भी पढ़े  दिल्ली में PM मोदी से मिले माइक पोम्पियो, क्या ईरान-आतंकवाद पर बनेगी बात?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here