मुफ्त में सब्जी नहीं देने के मामले में बड़ी कार्रवाई, थाने का पूरा स्टाफ सस्पेंड

0
50

मुफ्त में सब्जी नहीं देने मामले में नाबालिग सब्जी विक्रेता को जेल भेजे जाने के मामले में जोनल आईजी नैयर हसनैन खान ने सोमवार को जांच रिपोर्ट सौंप दी. इस जांच रिपोर्ट में यह बात साफ हो गई है कि नाबालिग को झूठे मामले में फंसा कर जेल भेजा गया था. नाबालिग को जिस बाइक लूट की घटना का आरोपी बनाया गया था वह उसमें शामिल ही नहीं था.

इस मामले में आईजी ने अगमकुआं थाना और बाइपास थाना के थानेदारों को सस्पेंड करने की अनुशंसा की थी. इसपर कार्रवाई करते हुए दोनों को सस्पेंड कर दिया गया है. नाबालिग पर छापा मारने वाली पुलिस टीम के सभी सदस्यों को भी सस्पेंड करने का निर्देश दिया गया है. इस टीम में 9 पुलिसकर्मी शामिल थे. साथ ही रिपोर्ट में अगमकुआं और बाईपास थाना प्रभारी की पटना जिले में पोस्टिंग नहीं करने की भी अनुसंशा की गई है.

मालूम हो कि पत्रकार नगर के नाबालिग सब्जी विक्रेता ने पुलिसवालों के मुफ्त में सब्जी देने से इनकार कर दिया था. इस वजह से उसे बाइक लुटेरा गिरोह का सदस्य बताते हुए पुलिस घर से उठाकर ले गई थी. इतना ही नहीं आधार कार्ड में दर्ज उसकी उम्र को 14 से 18 बनाकर रिमांड होम की जगह जेल भेज दिया था. पीड़ित परिवार इस मामले को लेकर थाना से लेकर आलाधिकारियों तक चक्कर लगा चुका था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई थी. न्यूज 18 पर खबर दिखाने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जांच के आदेश दिए थे.

यह भी पढ़े  तेजस्वी ने पीएम मोदी को दिये तीन चैलेंज, कहा- एक्सेप्ट कीजिए ना..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here