मुजफ्फरपुर बालिका गृह : 29 नहीं, 34 लड़कियों का हुआ यौन उत्पीड़न

0
277

मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में हुए लड़कियों के साथ किये गये यौन शोषण के मामले में आंकड़े और भी ज्यादा भयावह हो गये हैं। एसएसपी हरप्रीत कौर ने बालिका गृह की 42 में से 34 बच्चियों से दुष्कर्म होने की बात कही है। जहां पीएमसीएच की जांच रिपोर्ट के मुताबिक पहले 29 बच्चियों का यौन शोषण होने की बात कही जा रही थी। इससे पहले मुजफ्फरपुर बालिका गृह में रहने वाली 44 लड़कियों में से 42 की मेडिकल जांच करायी गयी थी।इनमें से 29 के यौन शोषण की पुष्टि हुई थी। वहीं दो लड़कियों के बीमार होने के कारण उनकी जांच नहीं हो पायी है। उधर, शनिवार को पुलिस महानिरीक्षक सुनील कुमार ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) और विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया। पुलिस महानिरीक्षक (मुजफ्फरपुर प्रक्षेत्र) श्री कुमार ने यहां बताया कि घटना के बाद से सील स्वयंसेवी संस्था सेवा संकल्प एवं विकास समिति के कार्यालय को खोला गया। साक्ष्य के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ न हो सके, इसी को ध्यान में रखते हुए संस्था के कार्यालय को सील किया गया था। उन्होंने कहा कि पटना से आयी एफएसएल और विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम ने घटनास्थल का सूक्ष्मता के साथ निरीक्षण किया और इसके बाद वे कुछ साक्ष्य भी ले गये। श्री कुमार ने बताया कि घटनास्थल से इंजेक्शन, दवाएं और कुछ दवाओं के रैपर भी मिले हैं। जांच के बाद ही यह पता चलेगा कि इंजेक्शन और दवा आपत्तिजनक है या नहीं। उन्होंने कहा कि स्वयंसेवी संस्था कार्यालय के निकट ही संचालक ब्रजेश ठाकुर का आवास है और इन दोनों के बीच में एक दरवाजा है जिसमें अभी ताला लगा है। पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि पहले भी एफएसएल ने साक्ष्य लिये थे। मामले का वैज्ञानिक अनुसंधान किया जा रहा है और इस दिशा में सूक्ष्मता के साथ एक-एक ¨बदु पर नजर रखी जा रही है।उन्होंने कहा कि इस मामले में फरार अभियुक्त दिलीप कुमार वर्मा की गिरफ्तारी के लिए विशेष टीम का गठन किया गया है। साथ ही उसके घर पर इश्तेहार चस्पा किया गया है। फरार अभियुक्त के घर की कुर्की-जब्ती की कार्रवाई की जायेगी। आईजी श्री कुमार ने बताया कि इस संस्थान की कुछ बच्चियों के संबंध में ठोस जानकारी के लिए पुलिस की एक विशेष टीम बनायी गयी है। यह टीम दिल्ली, इटावा और मधुबनी में कैंप कर रही है। उन्होंने कहा कि स्थानीय पुलिस इन तीन जगहों पर कैंप कर रही टीम के साथ लगातार संपर्क में है। उल्लेखनीय है कि स्वयंसेवी संस्था सेवा संकल्प एवं विकास समिति के बालिका अल्पावास गृह में लड़कियों के साथ यौन उत्पीड़न मामले की 30 मई को मुजफ्फरपुर के महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। इसके बाद पुलिस ने इस मामले में संचालक ब्रजेश ठाकुर के साथ ही दस आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था।

यह भी पढ़े  आज से पॉलिथीन के इस्तेमाल पर प्रतिबंध,23 से लगेगा जुर्माना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here