मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म कांड के किंगपिन ब्रजेश ठाकुर पर आरोप तय

0
109

दिल्ली स्थित साकेत कोर्ट में मुजफ्फरपुर बालिका गृह दुष्कर्म कांड के किंगपिन ब्रजेश ठाकुर पर बृहस्पतिवार को आरोप तय कर दिया गया। ठाकुर पर पॉक्सो एक्ट (यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण), बलात्कार, अपहरण और चोट पहुंचाने के अलावा कई अन्य धाराओं में आरोप तय किया गया है। सुनवाई के दौरान मामले की जांच कर रही सीबीआई ने कोर्ट को अवगत कराया कि मामले में 33 पीड़िताओं के बयान दर्ज किये गये हैं और उनमें से ज्यादातर ने ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ गवाही दी है। इसके अलावा पीड़िताओं ने इस बात का भी खुलासा किया है कि ब्रजेश ठाकुर लड़कियों का बलात्कार करने के लिए बाहर से लोगों को लाया करता था। कोर्ट ने पॉक्सो एक्ट, अपराधिक षडयंत्र रचने और अन्य धाराओं में दो अन्य लोगों चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के चेयरमैन दिलीप कुमार वर्मा और सदस्य विकास कुमार के खिलाफ भी आरोप तय किये हैं। इस मामले में ब्रजेश ठाकुर, दिलीप कुमार वर्मा और विकास कुमार समेत अब तक सात लोगों पर आरोप तय हो चुके हैं। करीब दर्जन भर से अधिक अन्य लोगों पर भी आरोप तय किया जाने हैं। मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट ने सात फरवरी को इस मामले को बिहार से दिल्ली के साकेत जिला अदालत परिसर स्थित पॉस्को अदालत को हस्तांतरित करने का आदेश दिया था। शीर्ष अदालत के आदेश के मुताबिक छह महीनों में साकेत कोर्ट को मामले का ट्रायल पूरा करने का निर्देश दिया गया है। गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में कई लड़कियों से बलात्कार और यौन उत्पीड़न किया गया था। इस आश्रय गृह का संचालन ब्रजेश ठाकुर का एक एनजीओ करता था। टाटा इंस्टीटय़ूट अफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) की एक रिपोर्ट के बाद यह मामला प्रकाश में आया था। जांच एजेंसी के मुताबिक ठाकुर के अलावा राज्य के समाज कल्याण विभाग अधिकारी समेत अन्य लोग लड़कियों से छोटे कपड़ों में अश्लील गीतों पर नृत्य कराते थे। यह भी कहा गया है कि दो पीड़िताओं ने बताया कि बालिका गृह के बाहर एक होटल में उनसे बलात्कार किया गया।

यह भी पढ़े  वकील हत्याकांड: पत्नी और साले ने ही दी थी हत्या की सुपारी, आठ गिरफ़्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here