सीएम नीतीश कुमार ने की सीबीआई जांच की सिफारिश

0
22
PATNA CM SECRETARIAT SANWAD MEIN JANTA KE SATH LOK SANWAD PROGRAMME MEIN CM NITISH KUMAR, DY CM SUSHIL KUMAR MODI AND OTHER file photo

बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में हुई रेप की घटना की जांच सीबीआई कर सकती है. इस मामले में सीएम नीतीश कुमार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की है. सीएम ने इस घटना पर संज्ञान लेते हुए मुख्य सचिव, डीजीपी और प्रधान सचिव को जांच सीबीआई को सौंपने का निर्देश दिया है.

सीएम सचिवालय द्वारा इस संबंध में एक प्रेस रिलीज जारी किया गया है. सीएम ने कहा है कि यह घटना काफी घृणित है और पुलिस पूरी मुस्तैदी से इसकी जांच कर रही है. उन्होंने कहा है कि सरकार पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करने को प्रतिबद्ध है, लेकिन पूरे मामले में एक भ्रम का वातावरण बनाया जा रहा है. मालूम हो कि बिहार की इस घटना को लेकर राजनीति काफी तेज हो गई है और विपक्ष सरकार से लगातार इस मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रही है.

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न मामले में गिरफ्तार बाल सुरक्षा अधिकारी रवि रौशन की पत्नी ने बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति के खिलाफ सनसनीखेज आरोप लगाए हैं. न्यूज 18 के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में रौशन की पत्नी शिभा कुमारी ने आरोप लगाया है कि मंजू वर्मा के पति चंदेश्वर वर्मा बालिका गृह में आते-जाते रहते थे और उनकी भूमिका संदिग्ध है.

यह भी पढ़े  "क्या बिहार में भाजपा को बहुमत मिला था? :तेजस्वी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को विधानसभा में अपने कार्यालय कक्ष में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह की घटना बेहद ही अमानवीय और घृणित है. समाज किस ओर जा रहा है. उन्होंने कहा कि पुलिस मुस्तैदी के साथ इस मामले की जांच कर रही है. जांच अंतिम चरण में है. जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी.

उन्होंने कहा कि अगर सीबीआई को जांच का जिम्मा दिया जाता तो जांच में देरी होती. सीबीआई नये सिरे से मामले की जांच करती. मालूम हो कि मंगलवार को लोकसभा में इस मामले की सीबीआई जांच की मांग उठने पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि यह अत्यंत गंभीर मुद्दा है.

अगर राज्य सरकार से सिफारिश आती है तो सीबीआई जांच कराने पर विचार किया जायेगा. वहीं, राज्य के डीजीपी केएस द्विवेदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि पुलिस जांच से वह संतुष्ट हैं. इस मामले में कहीं भी कोई ऐसा पहलू नहीं नजर आ रहा है, जिसके लिए सीबीआई अथवा किसी अन्य एजेंसी से जांच कराने की जरूरत पड़े.

यह भी पढ़े  ‘‘संपर्क फॉर समर्थन’ अभियान के तहत भाजपा ने प्रभावशाली लोगों से संपर्क कर मांगा समर्थन

आज हाईकोर्ट में मामले की होगी सुनवाई

मुजफ्फरपुर सहित राज्य के अन्य शहरों में स्थित बालिका गृहों में लड़कियों के यौनशोषण मामले की सुनवाई पटना हाईकोर्ट में गुरुवार को की जायेगी. न्यायाधीश डाॅ रविरंजन की अध्यक्षता वाली खंडपीठ से मामले की सीबीआई जांच कराने का आदेश देने का अनुरोध किया गया. टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज की सोशल ऑडिट रिपोर्ट में यह मामला सामने आया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here