मुजफ्फरपुर की युवती से गैंगरेप करने वाले सात गिरफ्तार

0
25
aftabphoto@gmail.com

फेसबुक पर दोस्ती और फिर उसके बाद अपने जन्मदिन पर मुजफ्फरपुर की युवती को पटना बुलाकर दुष्कर्म करने वाले प्रेमी और उसके छह साथियों को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। पीड़िता अपनी जान देने जा रही थी कि एक एनजीओ के लोगों ने उसे एसएसपी से मिलवाया। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए युवती के प्रेमी समेत सात लोगों को दबोच लिया। पकड़े गये आरोपितों के अलावा लॉज का मालिक भी शामिल है। एसएसपी के मुताबिक 1 जून को उनके कार्यालय में पीड़िता रागिनी (बदला हुआ नाम) एक एनजीओ के सदस्यों के साथ पहुंची। वह मुजफ्फरपुर की रहने वाली है। एक वर्ष पूर्व उसकी दोस्ती फेसबुक के माध्यम से बोकारो में रहकर पढ़ने वाले लखीसराय के रीतेश से हुई थी। रीतेश ने अपने जन्मदिन के बहाने रागिनी को मिलने के लिए पटना बुलया। युवती 29 मई को पटना आकर रीतेश से मिली। दोनों दिनभर साथ रहे। शाम में उसने जब मुजफ्फरपुर जाने की बात की, तो रीतेश ने गाड़ी नहीं मिलने की बात कहकर उसे पटना में रात भर रुकने के लिए कहा। रितेश युवती को बहादुरपुर थाना क्षेत्र के संदलपुरा स्थित पंचवटी नगर के एक लॉज में ले गया। वहां रीतेश युवती के साथ सो गया। कुछ देर के बाद वह कमरे से निकल गया। रितेश के निकलने के बाद युवती के कमरे में एक लड़का आया और उसने जबरन उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके जाने के बाद बारी बारी से चार अन्य लड़कों ने भी युवती के कमरे में पहुंचकर उसके साथ बारी बारी से दुराचार किया। सभी लड़कों के कमरे से निकलने के बाद जब रीतेश कमरे में लौटा, तो युवती ने उसे पूरी बात बतायी। इस पर रितेश ने युवती को चुप रहने की सलाह दी। बाद में रीतेश ने भी पीड़िता के साथ दुराचार किया। सुबह होने पर रितेश ने युवती को कहा कि सभी लड़के बदमाश हैं, शोर नहीं मचाना। यह कहकर रितेश ने उस युवती को मुजफ्फरपुर पहुंचा दिया। एसएसपी के मुताबिक पीड़िता ने बताया कि सभी बदमाश आपस में एक दूसरे को प्रियांशुल सौरव,आयुष,अमन और मनीष के नाम से संबोधित कर रहे थे। उसने बताया कि घिनौनी हरकत के बाद वह अपनी जान देने जा रही थी कि एनजीओ के लोगों से उसकी मुलाकात हुई और उसने पूरी आपबीती बतायी। इसके बाद एनजीओ के सदस्य पीड़िता को लेकर एसएसपी के पास पहुंचे। एसएसपी ने आरोपितों को दबोचने के लिए पुलिस की एक विशेष टीम गठित की। पुलिस ने पीड़िता के बताये गये स्थान का निरीक्षण किया गया। उसके बाद पुलिस ने रीतेश के अलावा लखीसराय के कार्यानंद नगर निवासी प्रियांशु,आयुष रंजन, परसामा (लखीसराय) निवासी अमन राज और विद्यापीठ चौक (लखीसराय) निवासी मनीष कुमार को राजेन्द्र नगर और बहादुरपुर से दबोच लिया। इस वारदात में शामिल लखीसराय के लोदिया निवासी सौरव को भी लखीसराय स्थित उसके घर से दबोचा गया। इसके अलावा पुलिस इस वारदात में शामिल बदमाशों को संरक्षण देने और उन्हे भागने में सहयोग करने के मामले में लॉज मालिक महावीर सिंह उर्फ बोकु सिंह बहादुरपुर तालाब निवासी को भी गिरफ्तार कर लिया गया। पीड़िता ने सभी आरोपितों की पहचान भी कर ली है। पुलिस ने पीड़िता को मेडिकल जांच के लिए अस्पताल भेजवाया। एसएसपी के मुताबिक मामले का स्पीडी ट्रायल कराया जाएगा।

यह भी पढ़े  जिसके लिए छोड़ा घर-बार, वही छोड़ गई लवगुरू का साथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here