मुजफ्फरपुर की घटना शर्मनाक ,मैं काफी आहत, आत्मग्लानि महसूस कर रहा हूं : नीतीश

0
146
PATNA CM SECRETARIAT SANWAD MEIN JANTA KE SATH LOK SANWAD PROGRAMME MEIN CM NITISH KUMAR, DY CM SUSHIL KUMAR MODI AND OTHER file photo

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि मुजफ्फरपुर की शर्मनाक घटना से काफी आहत हूं और आत्मग्लानि महसूस कर रहा हूं। समाज में कैसी-कैसी मानसिकता के लोग हैं। सीबीआई मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में कार्रवाई कर रही है। हमने एडवोकेट जनरल से कहा है कि हाईकोर्ट की निगरानी में केस की मॉनिटरिंग हो ताकि और पारदर्शी ढंग से इस पर कार्रवाई हो सके और कोई भी दोषी बच नहीं पाए। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को अधिवेशन भवन में मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना का शुभारंभ करते हुए ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर में इस तरह की घटनाओं की शिकार महिलाओं के लिए मन में काफी दुख का भाव है। इन्हीं वेदना भाव के बीच आज मैं उपस्थित हुआ हूं। समाज के सुधार के कार्यक्रम में एकजुट होकर काम करना पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि में जब तक रहूंगा समाज सुधार के काम में लगा रहूंगा। जब तक सरकार में रह ूंगा राज्य में कानून का राज कायम रहेगा। कोई भी दोषी बच नहीं पाएंगे। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक एवं समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव से मैंने बैठक में ये बातें कही है कि इन चीजों को पता करने की जरूरत है कि आखिर सिस्टम में कहां चूक है। ऐसी व्यवस्था बनाई जाए कि इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो। मुख्यमंत्री का स्वागत महिला विकास निगम की प्रबंध निदेशक डॉ. एन विजया लक्ष्मी ने पौधा एवं महिला सशक्तिकरण पर आधारित मधुबनी पेंटिंग से बने प्रतीक चिह्न भेंटकर किया। कन्या उत्थान योजना के प्रचार-प्रसार के लिए तैयार की गई पोस्टर, ब्रोसर, मार्गदर्शिका आदि का विमोचन मुख्यमंत्री ने किया। मुख्यमंत्री कन्या मुख्यमंत्री कन्या सुरक्षा योजना से जुड़े एक लाख लाभार्थियों को उनके बैंक खाते में मुख्यमंत्री द्वारा राशि का हस्तांतरण किया गया। तीन लाभार्थियों को सांकेतिक रूप से मुख्यमंत्री ने चेक भी प्रदान किया। मुख्यमंत्री द्वारा स्वास्य विभाग से जुड़े 2 से 3 वर्ष के 10 लाभार्थियों को चेक प्रदान किया गया। शिक्षा विभाग से जुड़े 10 इंटरमीडिएट पास छात्राओं को भी मुख्यमंत्री ने 10-10 हजार रुपये एवं 10 उत्तीर्ण छात्राओं को 25-25 हजार रपए की राशि का चेक प्रदान किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना के समेकित मोबाइल ऐप का भी मुख्यमंत्री ने शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने जेंडर डैसबोर्ड एवं जेंडर रिपोर्ट कार्ड का विमोचन किया। इस साथ ही मुख्यमंत्री ने 7 जिलों- पटना, मुजफ्फरपुर, अरवल, औरंगाबाद, किशनगंज, पूर्णिया एवं सुपौल में नवनिर्मित जिला महिला सशक्तिकरण कार्यालय के भवन का रिमोट के माध्यम से उद्घाटन किया।मुख्यमंत्री ने कहा कि आज मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना की शुरुआत हुई है। हमलोगों ने नारी सशक्तिकरण के लिए नवम्बर 2005 में सरकार में आने के बाद से कई काम किए हैं। हमलोगों ने महिलाओं की आधी भागीदारी को मानते हुए पंचायती राज संस्थाओं एवं नगर निकाय चुनावों में 50 प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित किया। राज्य में 8 लाख से ज्यादा स्वयं सहायता समूह का निर्माण हो चुका है, जिसके तहत 92 लाख से अधिक महिलाएं जुड़ चुकी हैं। 10 लाख स्वयं सहायता समूह बनाने का लक्ष्य है। केंद्र सरकार ने इसे अपनाते हुए आजीविका नाम से यह संगठन शुरू किया है। इससे महिलाओं में आत्मविास बढ़ा है और परिवार के लिए आमदनी का स्रेत भी बना है। यह राज्य में महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक मजबूत कदम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मिडिल स्कूल की लड़कियां गरीबी के कारण पोशाक नहीं उपलब्ध होने की वजह से स्कूल नहीं जा पाती थीं। हमलोगों ने इसके लिए बालिका पोशाक योजना की शुरुआत की, जो बाद में हाई स्कूल की लड़कियों के लिए भी लागू की गई। 9वीं कक्षा की लड़कियों के लिए साइकिल योजना की शुरुआत की गई, जिससे आज 9वीं कक्षा में 8 लाख से अधिक लड़कियां सरकारी स्कूलों में जाने लगी हैं। बाद में यह साइकिल योजना लड़कों के लिए भी शुरू की गई। छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप देना शुरू किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोग समाज सुधार के काम में भी लगे हुए हैं। 2 अक्टूबर 2017 से बाल विवाह एवं दहेज प्रथा के खिलाफ अभियान शुरू किया गया।

यह भी पढ़े  सीबीएसइ 12वीं का रिजल्ट : पटना की मरियम रजा बिहार में अव्वल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here