मुख्यमंत्री ने अल्पसंख्यकों के लिए चल रहीं योजनाओं की समीक्षा

0
41
Patna-Sep.19,2019-Bihar Chief Minister Nitish Kumar is holding review meeting for schemes of minority at 1, Anne Marg in Patna.

समाज के हर तबके के विकास के लिए प्रतिबद्ध मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को बृहस्पतिवार को अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं के आवासीय विद्यालय का निर्माण कराने के लिए तेजी से काम करने का निर्देश दिया।मुख्यमंत्री ने यहां अल्पसंख्यकों के लिए चलायी जा रही योजनाओं की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी जिलों में अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं के आवासीय विद्यालय का निर्माण कराने के लिए तेजी से काम करें। उन्होंने कहा कि इसके लिए साइट विजिट करा लें और संवेदनशीलता के आधार पर स्थल का चयन करें। छात्रावास की चारों तरफ मजबूत एवं ऊंची बाउंड्री बनायी जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि आवासीय विद्यालय भवन की डिजाइन आकर्षक हो। छात्र-छात्राओं के आवास के बीच कर्मचारियों के आवास भी बनाये जाएं। छात्र-छात्राओं के लिए खेल मैदान की भी व्यवस्था रहे। उन्होंने कहा कि शिक्षकों एवं शिक्षकेतरकर्मियों की नियुक्ति भी ससमय हो ताकि आवासीय विद्यालय बनते ही अध्यापन कार्य हो सके। यहां छात्राओं को बेहतर सुविधाएं मिलें, ताकि यह आदर्श आवासीय विद्यालय के रूप में स्थापित हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यकों के लिए जो योजनाएं चलायी जा रही हैं, उन पर तेजी से काम हो और उसकी निरंतर समीक्षा होती रहनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जिले में वक्फ बोर्ड का एक भवन बनाने के लिए जल्द से जल्द काम शुरू करें। वक्फ बोर्ड इसके लिए अपनी जमीन उपलब्ध कराएगा। उन्होंने कहा कि मदरसों के जीर्णोद्धार के लिए भी काम किया जाएगा। मदरसों को बेहतर बनाने के लिए हम सबको मिल जुलकर प्रयास करना होगा। मदरसों में बुनियादी चीजें रहनी चाहिए। उन्होंने कहा कि लोगों को रोजगार के लिए जो ऋण मुहैया कराया जा रहा है, उसका भी ठीक से आकलन करा लें कि जो ऋण दिये जा रहे हैं, उनसे किस तरह के रोजगार किये जा रहे हैं। ऋण का भुगतान बढ़े और उसका बेहतर उपयोग हो सके, इसके लिये लोगों को प्रेरित भी किया जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहूद्देश्यीय अंजुमन इस्लामिया भवन का निर्माण कार्य भी तेजी से पूर्ण हो। छात्रावास अनुदान योजना के तहत छात्रों को छात्रवृत्ति राशि और अनाज का वितरण समय पर हो। कोचिंग कार्यक्रम के लिए सक्षम लोग ही छात्रों को पढ़ाएं ताकि और बेहतर परिणाम आए। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय की तलाकशुदा या परित्यक्ता महिलाओं का सव्रेक्षण करा लें और सभी जरूरतमंदों को आर्थिक सुविधा उपलब्ध कराएं।अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने प्रस्तुतीकरण में इससे संबंधित विभाग की योजनाओं एवं उनपर व्यय की वर्षवार जानकारी दी। पिछली बैठक की कार्यवाही रिपोर्ट के अलावा बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित्त निगम की वर्तमान हिस्सा पूंजी को बढ़ाकर 80 करोड़ रपए करना, कोचिंग योजना को सुदृढ़ और विस्तारित करना, तलाकशुदा या परित्यक्ता मुस्लिम महिलाओं के आर्थिक सुदृढ़ीकरण के लिए 25 हजार रुपये की राशि के वितरण के संबंध में भी जानकारी दी गई। प्रस्तुतीकरण में अल्पसंख्यक रोजगार ऋण योजना, बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित्त निगम का सुदृढ़ीकरण, वक्फ बोर्ड संबंधी महत्वपूर्ण कार्य योजना, छात्रवृत्ति योजना, हर जिले में छात्र-छात्राओं के लिए अल्पसंख्यक आवासीय विद्यालय योजना, राज्य के अराजकीय प्रस्वीकृत कोटि के मदरसों से संबंधित जानकारी विस्तारपूर्वक दी गई। इस अवसर पर अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मो. खुर्शीद ऊर्फ फिरोज अहमद, मुख्य सचिव दीपक कुमार, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, मुख्यमंत्री सचिवालय के अपर सचिव चंद्रशेखर सिंह, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मो. इरशादुल्लाह, शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मो. इरशाद अली आजाद, मदरसा बोर्ड के के अध्यक्ष अब्दुल कय्यूम अंसारी समेत अल्पसंख्यक विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़े  'घर से मस्जिद है बहुत दूर, चलो यूं कर लें, किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here