मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर पत्थर से हमला, कई सुरक्षाकर्मी घायल

0
57

विकास समीक्षा यात्रा के क्रम में बिहार के बक्सर जिले के डुमरांव प्रखंड और नंदन गांव के दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर गुस्साए लोगों ने हमला कर दिया. जानकारी के मुताबिक नीतीश कुमार के काफिले पर पत्थर फेंके गये, वहीं दूसरी ओर बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री सुरक्षित हैं और कई सुरक्षाकर्मी घायल हैं. मुख्यमंत्री अपने समीक्षा यात्रा के क्रम में बक्सर जिले के डुमरांव प्रखंड के नंदन गांव गये हुए हैं. मुख्यमंत्री को लेकर फाइव लेयर सुरक्षा की गयी थी और स्पेशल ब्रांच कीटीम ने भी मोर्चा संभाला था. फिर भी इस घटना ने प्रशासनिक तैयारियों की पोल खोल दी है.

डुमरांव से मिल रही जानकारी के मुताबिक उग्र लोगों ने मुख्यमंत्री के काफिले पर अचानक टूट पड़े. इस दौरान लोगों ने पत्थर मारकर दर्जनभर गाड़ियों के शीशे तोड़ डाले. इस अफरा-तफरी और पत्थरबाजी में दस लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गये हैं. घटना में डुमरांव के थानाध्यक्ष का सिर फट गया है, उन्हें सिर में गंभीर चोट आयी. मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात कर्मी भी जख्मी हुए हैं. परिवहन मंत्री व जिलाधिकारी सहित कई अधिकारियों की गाड़ियों को तोड़ दिया गया है. फिलहाल आस-पास में सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है.

यह भी पढ़े  मानव विकास संबंधी मामलों में बिहार ने की जबरदस्त प्रगति :अमिताभ कांत

वहीं दूसरी ओर इस हमले में कई लोग घायल हुए हैं और कई गाड़ियों के शीशे टूट गये हैं. नंदन गांव के दलित बस्ती के लोगों का कहना है कि विकास केवल मुख्यमंत्री को दिखाने के लिए किया गया है, वहीं गांव के ही दूसरे इलाके में कुछ नहीं हुआ है. महिलाओं ने हाथों में बड़े-बड़े ईट के टुकड़ों को लेकर हमला कर दिया था. गाड़ियों के शीशे टूटने के बाद वहां मौजूद सिपाहियों ने लाठी लेकर कुछ लोगों को हड़काया और उसके बाद स्थिति और गंभीर हो गयी. इधर, ग्रामीणों का आरोप है कि सात निश्चय कार्यक्रम के तहत गांव में कोई काम नहीं हुआ है. इसे लेकर लोग विरोध जता रहे हैं, लोग नंदन गांव में ही दूसरे इलाके में सीएम को ले जाने की मांग कर रहे थे. घटना के बाद नीतीश कुमार को गांव से सुरक्षित निकालकर वहां से दो किलोमीटर दूर एक फार्म पर ले जाया गया है, वहां वह सभा को संबोधित  कर रहे हैं. वहीं इससे पूर्व भी सीएम की यात्रा को महादलित महिलाओं ने रोकने की कोशिश की थी. पिछली बार भी कुछ इसी तरह का मामला चौसा में देखने को मिला था.

यह भी पढ़े  राजधानी के गांधी मैदान में चार दिवसीय कृषि यंत्रीकरण मेला शुरू

पूर्व में की गयी तैयारी

विकास समीक्षा यात्रा के दौरान शुक्रवार को सीएम नीतीश कुमार पटना से सड़क मार्ग से बक्सर पहुंचे. मुख्यमंत्री की सुरक्षा से संबंधित सभी तरह की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. शुक्रवार को सीएम जिले के डुमरांव प्रखंड में वीर कुंवर सिंह महाविद्यालय में प्रतिमा का अनावरण करेंगे. समीक्षा यात्रा के दौरान सीएम जिले के पांच विभिन्न स्थलों पर आयोजित कार्यक्रम में पहुंचेंगे. पुलिस प्रशासन की ओर से संबंधित सभी स्थलों की फुल प्रुप सुरक्षा की व्यवस्था करायी गयी है. जिला प्रशासन की ओर से निर्गत संयुक्त आदेश में कई महत्वपूर्ण तथ्यों की चर्चा की गयी है.

जारी संयुक्त आदेश में खुफिया सूचना का हवाला देते हुए बताया गया है कि राज्य के बहुत सारे उग्रवादी एवं असामाजिक तत्वों से सीएम को खतरा बनी रहती है. इन सभी तथ्यों को ध्यान में रखते हुए उनके आगमन से प्रस्थान तक सुरक्षा से संबंधित किसी तरह की चूक नहीं हो. कार्य स्थलों पर दूसरे दल एवं उम्मीदवार के कार्यकर्ताओं द्वारा खलल डालने व काला झंडा दिखाने, विरोधी नारे लगाने व अभद्र इशारा करने आदि का कार्य किया जा सकता है. सीएम के सभी सभा स्थलों पर आनेवाले सभी श्रोता दर्शक,विशिष्ट एवं अतिविशिष्ठ व्यक्तियों के आगमन पर पूरा नियंत्रण रखा जायेगा. सभा स्थल पर पहुंचनेवाले सभी व्यक्तियों पर विशेष निगरानी व भौतिक तलाशी ली जायेगी.

यह भी पढ़े  कल भारतीय थारू कल्याण महासंघ के 40वें महाधिवेशन का उद्घाटन आज सुपौल व कल जोकीहाट जायेंगे सीएम नीतीश कुमार

इसके अलावे विशेष पुलिस की टीम सभा स्थल के आसपास के क्षेत्रों में पूर्ण डोमिनेशन का कार्य पूरा करेगी. सीएम के समीक्षा यात्रा के दौरान क्षेत्रों की यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ रखने को लेकर जिला प्रशासन की ओर से बेहतर प्रयास किये गये हैं. यातायात पर नियंत्रण को लेकर कई मार्गों पर विशेष व्यवस्था करायी गयी है. जिले के सभी वरीय पुलिस पदाधिकारियों व कर्मियों को अपने-अपने क्षेत्रों के एसडीपीओ के साथ समन्वयन बनाकर सीएम सुरक्षा से संबंधित सभी तरह के निर्देशों का पालन करना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here