महाराजा अग्रसेन की राज व्यवस्था प्रेरणादायक : मोदी

0
349
PATNA DADIJI MANDIR MEN AGAR SEN JAINTI SAMAROH KA UDGHATAN KERTE DY C M S K MODI KA SAMMAN

पटना:अग्रसेन सेवा न्यास, पटना की ओर से आयोजित महाराजा अग्रसेन जयंती समारोह का उद्घाटन करने के बाद लोगों को सम्बोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि महाराजा अग्रसेन को समाजवाद का अग्रदूत कहा जाता है। अपने क्षेत्र में सच्चे समाजवाद की स्थापना के लिए उन्होंने नियम बनाया कि उनके राज्य में बाहर से आकर बसने वाले व्यक्ति की सहायता के लिए राज्य का प्रत्येक निवासी उसे एक रपए व एक ईट देगा, जिससे आसानी से उसके लिए निवास स्थान व व्यापार का प्रबंध हो जाए। उन्होंने एक नयी व्यवस्था को जन्म दिया तथा वैदिक सनातन आर्य सस्ंकृति की मूल मान्यताओं को लागू कर राज्य के पुनर्गठन में कृषि-व्यापार, उद्योग, गौपालन के विकास के साथ नैतिक मूल्यों की पुन: प्रतिष्ठा का बीड़ा उठाया। ठीक उसी तरह आज देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी नए भारत की अवधारणा और संकल्प को साकार करने में जुटे हैं। श्री मोदी ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार मिलकर सभी गरीबों को घर, प्रत्येक घर में शौचालय, नल का जल, गैस का कनेक्शन, सभी के लिए 24 घंटे बिजली का प्रबंध करने में जुटी हुई हैं। अगले 3 साल में प्रत्येक गांव ही नहीं बल्कि एक-एक घर को पक्की गली और नाली से जोड़ने की योजना पर तेजी से काम हो रहा है। उन्होंने कहा कि जनधन योजना से जहां करोड़ों गरीबों को सरकार बैंक से जोड़ने में सफल रही है वहीं स्टैंडअप इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और मुद्रा योजना के अन्तर्गत लाखों लोग समृद्धि की नई गाथा लिख रहे हैं और लाखों बेरोजगारों को रोजगार मुहैय्या करा रहे हैं। महाराजा अग्रसेन की तरह ही ‘‘सबका साथ-सबका विकास’ की अवधारणा के तहत केन्द्र सरकार ने विकास के केन्द्र में गरीबों, पिछड़ों, दलितों और वंचितों को रखा है। महाराज अग्रसेन की राजकीय व्यवस्था आज भी प्रासंगिक और प्रेरणास्पद है। विधान पार्षद ललन सर्राफ ने भी अपने विचार रखे। अतिथियों का स्वागत बिहार प्रादेशिक अग्रवाल सम्मेलन के अध्यक्ष अमर अग्रवाल ने किया। वहीं गीता जैन, पीके अग्रवाल ने अतिथियों को अंगवस्त्र, पुष्पगुच्छ और प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर अग्रवाल महिला सम्मेलन में आयोजित प्रतियोगिता में अव्वल आये प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। आरंभ निष्ठा अग्रवाल की गणोश वंदना से हुआ। कार्यक्रम में दया अग्रवाल का एकल नृत्य, नीना मोटानी एवं श्रवण कुमार का युगल डांडिया नृत्य, फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता, फलाहारी व्यंजन, आरती की थाली, फटाफट गेम तथा हाउजी विशेष आकर्षण के केंद्र थे। मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में अव्वल आए छात्र-छात्राएं भी सम्मानित की गई।

यह भी पढ़े  शहाबुद्दीन के गुगरे को अब भी राजद का संरक्षण’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here