महागठबंधन से वामदलों को अलग रखना दुर्भाग्यपूर्ण

0
37
PAINA - JAMAL ROAD ME C . P . M . OFFICE MEIN P C

माकपा के राज्य सचिव अवधेश कुमार ने कहा कि वाम दलों की संसदीय ताकत को बढ़ाने, केन्द्र में धर्मनिरपेक्ष सरकार गठन का लक्ष्य हासिल करने एवं बिहार में एनडीए को हराने के लिए राजद से गठबंधन का अथक प्रयास किया गया। लेकिन राजद गठबंधन ने सीपीआई (एम) सहित वामदलों को दरकिनार कर कुछ अवसरवादी सत्तालोलुप दलों के साथ गठबंधन कर लिया। यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण व बिहार की जनता की भाजपा-जदयू एवं लोजपा गठबंधन को पराजित करने की भावना का अनादर है। माकपा बेगूसराय में भाकपा को और आरा व सीवान में भाकपा माले उम्मीदवार का समर्थन करेगी।माकपा राज्य सचिव सोमवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पार्टी ने निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने के उद्देश्य से अपने जनाधार एवं अपने साथियों की कुर्बानी देने वाले संसदीय क्षेत्र उजियारपुर से चुनाव लड़ने का फैसला किया है। पार्टी ने उजियारपुर संसदीय क्षेत्र से अपने युवा, संघर्षशील व पार्टी के राज्य सचिवमंडल सदस्य अजय कुमार को उम्मीदवार घोषित किया है। पार्टी ने अपने सैद्धांतिक रुखों पर कायम रहते हुए देश के संविधान, धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने व गंगा-जमुनी संस्कृति के समक्ष आसन्न खतरे को देखते हुए सीपीआई को बेगूसराय, माले को आरा एवं सीवान में समर्थन करने का निर्णय लिया है। वाम दलों द्वारा लड़ी जाने वाली अन्य सीटों पर समर्थन के बारे में वामदलों के साथ वार्ता के बाद फैसला लिया जायेगा। पार्टी अन्य सीटों पर भाजपा-जदयू-लोजपा गठबंधन को हराने के लिए अपनी पूरी ऊर्जा से व्यापक प्रचार अभियान चलायेगी। उन्होंने कहा कि बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन राज्य की जनता के साथ वादाखिलाफी के रूप में अस्तित्व में आया है। इस शासन के दौरान भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा सृजन घोटाला सामने आया। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में बच्चियों के साथ यौन शोषण की हृदयविदारक घटना ने बिहार को शर्मसार किया है। दोनों घटनाओं में शामिल लोगों को सत्ताधारियों का संरक्षण प्राप्त है। महिलाओं, दलितों पर एक के बाद एक जुल्म की घटनाएं हुई हैं। गांव से लेकर शहरों तक झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले गरीबों के घर उजाड़े जा रहे हैं। हाल में सीतामढ़ी में दो अल्पसंख्यक नौजवानों की पुलिस द्वारा क्रूर हत्या, पुलिस बल के सम्प्रदायीकरण का उदाहरण है। शिक्षा, स्वास्य का निजीकरण इस राज्य की गरीब जनता पर क्रूर हमला है।

यह भी पढ़े  बिहार लोकसभा चुनाव :भाजपा मिशन 2019 के लिए जो टीम तैयार हो रही है उसमें कई नये चेहरे होंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here