महागठबंधन में को-ऑर्डिनेशन कमेटी करेगी सीटों का बंटवारा

0
130

लोकसभा चुनाव को लेकर एनडीए में सीट शेयरिंग के लिए उठापटक जारी है। एनडीए में सीट को लेकर जारी उठापटक को देखते हुए महागठबंधन में भी सीट शेयरिंग की कवायद तेज हो गयी है। इसके लिए महागठबंधन में को-ऑडिनेशन कमेटी बनाकर सीट बंटवारा किया जायेगा। इसकी पूरी तैयारी कर ली गयी है। संभावना है कि बुधवार 31 अक्टूबर को इस को-आर्डिनेशन कमेटी के स्वरूप की घोषणा पटना में की जायेगी। को-आर्डिनेशन कमेटी में सबसे अधिक सदस्य राजद के होंगे। राजद के सदस्यों के संबंध में अंतिम फैसला तेजस्वी यादव लेंगे। कोआर्डिनेशन कमेटी की मांग सबसे पहले हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने की थी। को-आर्डिनेशन कमेटी को लेकर बातचीत आखिरी दौर में है और अधिकारिक घोषणा कल हो सकती है। जानकारी के मुताबिक को-आर्डिनेशन कमेटी में राजद के तीन सदस्यों के बाद कांग्रेस के दो सदस्य शामिल किये जायेंगे। महागठबंधन में कांग्रेस की हिस्सेदारी राजद के बाद सबसे अधिक है। राजद और कांग्रेस के बाद महागठबंधन में शामिल सभी दूसरी पार्टियों के एक-एक सदस्य को-आर्डिनेशन कमेटी में होंगे। वैसे यह भी तय है कि महागठबंधन आपस में सीटों का बंटवारा करने के अंतिम निर्णय के पहले उपेंद्र कुशवाहा के आखिरी निर्णय का इंतजार भी करेगा। उपेंद्र कुशवाहा ने अब भी कोई फाइनल डिसीजन नहीं लिया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा ने भी कोऑर्डिनेशन कमेटी की जरूरत बतायी है। कांग्रेस आलाकमान ने स्पष्ट कर दिया है कि सीट बंटवारे के लिए पहले स्टेट यूनिट करेगी। फिर आलाकमान अंतिम निर्णय करेगा। कांग्रेस ने 2014 में बिहार की 12 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था। वह 2019 में भी इससे कम सीटें नहीं चाहती है। पर, महागठबंधन में अभी बहुत सी पार्टियां हैं। ऐसे में सीटें कम होनी तय है। महागठबंधन में सीटों का बंटवारा राजद कांग्रेस के अलावा जीतन राम मांझी की पार्टी हम और शरद यादव की पार्टी लोजद के बीच होना है। वामपंथी पार्टियों को भी महागठबंधन में शामिल माना जा रहा है। राजद, सपा, बसपा को भी साथ रखने की पक्षधर है।

यह भी पढ़े  जीतनराम मांझी फिर बनने जा रहे हैं 'बिहार के सीएम'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here