महंगाई दर पिछले वर्ष की समान अवधि के 4.44 फीसदी से घटकर 2.57 प्रतिशत

0
53

महंगाई के मोर्च पर अच्छी खबर आई है. खाद्य पदार्थों की कीमतें कम होने की वजह से फरवरी 2019 में खुदरा महंगाई दर, पिछले वर्ष की समान अवधि के 4.44 फीसदी से घटकर 2.57 प्रतिशत हो गई है. इससे पहले सबसे निचला महंगाई दर जून 2017 में 1.46 फीसदी था. गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक अपनी मौद्रिक नीति तय करने के लिए खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़ों का ही इस्तेमाल करता है. वहीं थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति दिसंबर में 8 महीने के निचले स्तर पर जाकर 3.80 फीसदी रही. इसकी अहम वजह ईंधन और खाद्य पदार्थों की कीमतें कम होना है. नवंबर में थोक मुद्रास्फीति 4.64 फीसदी थी जबकि दिसंबर 2017 में यह 3.58 फीसदी थी.

सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार दिसंबर में खाद्य पदार्थों में 0.07 फीसदी महंगाई घटी है जबकि नवंबर में इसमें अवस्फीति 3.31 फीसदी थी. इसी तरह सब्जियों में भी अवस्फीति देखी गई. दिसंबर में यह 17.55 फीसदी रही, हालांकि नवंबर में यह 26.98 फीसदी थी.

यह भी पढ़े  पटना : 454 दुग्ध उत्पादक समितियां, आठ स्वावलंबी के लिए 30 तक मतदाता सूची

ईंधन और ऊर्जा क्षेत्र में दिसंबर में मुद्रास्फीति घटकर 8.38 फीसदी रही जो नवंबर की 16.28 फीसदी मुद्रास्फीति के मुकाबले लगभग आधी है. इसकी अहम वजह दिसंबर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी आना है.

दिसंबर में पेट्रोल कीमतों की मुद्रास्फीति 1.57 फीसदी और डीजल कीमतों की 8.61 फीसदी रही है. वही एलपीजी में यह 6.87 फीसदी रही.

खाद्य वस्तुओं में पिछले महीने के मुकाबले आलू दिसंबर में सस्ते हुए. दिसंबर में आलू कीमतों में मुद्रास्फीति की दर 48.68 फीसदी रही जो नवंबर में 86.45 फीसदी थी. प्याज कीमतों में दिसंबर में 63.83 फीसदी अवस्फीति दर्ज की गई जो नवंबर में 47.60 फीसदी थी.

दालों में मुद्रास्फीति की दर 2.11 फीसदी रही, वहीं अंडा, मांस और मछली में यह दर 4.55 फीसदी रही. दिसंबर की 3.80 फीसदी की मुद्रास्फीति दर पिछले आठ महीनों में सबसे कम है. इससे पहले अप्रैल में यह 3.62 फीसदी पहुंची थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here