मस्जिद कहीं भी बन सकती है पर राममंदिर अयोध्या में ही : मोदी

0
115

भाजपा ने अयोध्या में राममंदिर निर्माण का विगुल बजा दिया है। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने रविवार को साफ कहा कि हम रामलला का मुद्दा नहीं छोड़ सकते। अयोध्या में राममंदिर का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि मस्जिद का निर्माण कहीं भी हो सकता है पर राममंदिर का निर्माण अयोध्या में ही हो सकता है।श्री मोदी ने यहां राजधानी के ज्ञान भवन में सरदार पटेल सामाजिक एकता परिषद द्वारा आयोजित पटेल जयंती सह कृषक सम्मान समारोह में केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी विरेन्द्र सिंह की मौजूदगी में कहा कि 150 वर्षो से राममंदिर निर्माण का मामला अदालतों में अटका पड़ा है। उन्होंने साफ कहा कि अदलतों ने मामले को उलझा रखा है। श्री मोदी ने कहा कि 29 नवंबर 2018 को सर्वोच्च न्यायालय से राममंदिर निर्माण मसले पर फैसला आने वाला था, किंतु कोर्ट ने कहा कि इस मामले में सुनवाई की अभी कोई जल्दबाजी नहीं है। उन्होंने इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि कोर्ट के इस फैसले से करोड़ों लोगों को झटका लगा है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में सरकार गठन मामले में रात एक बजे कोर्ट के दरवाजे खोलकर सुनवाई हो सकती है तो राममंदिर निर्माण मामले में ऐसे क्यों नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि राममंदिर मामले में ऐसे निर्णय से करोड़ों लोगों को ठेस पहुंची है।श्री मोदी ने कोर्ट से अपील की कि राममंदिर का मामला आस्था से जुड़ा है। सुप्रीम कोर्ट को इस मामले को टालने के बजाए करोड़ों हिन्दुओं की भावना को देखते हुए जल्द से जल्द फैसला करना चाहिए। उन्होंने साफ कहा कि मस्जिद कहीं भी बन सकती है पर राममंदिर अयोध्या में ही बनेगा। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस अपना स्टैंड स्पष्ट करे कि वह राममंदिर निर्माण मसले पर क्या चाहती है। मोदी ने कहा कि हम रामलला के मुद्दे को नहीं छोड़ सकते हैं। भावनाओं का तिरस्कार करने का अधिकार किसी को नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें कोर्ट पर पूरा भरोसा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि जिस तरह इलाहाबाद कोर्ट का फैसला हमारे पक्ष में आया वैसा ही फैसला कोर्ट से आएगा। कार्यक्रम में पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव व स्वास्य मंत्री मंगल पाण्डेय भी मौजूद थे।

 

यह भी पढ़े  पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड अब्दुल रशीद गाजी के मारे जाने की खबर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here