मकर संक्रान्ति पर लें पतंग उत्सव का मजा

0
150
file photo

पटना। मकर संक्रान्ति के दिन गांधी मैदान में पतंग-उमंग उत्सव-2018 का आयोजन किया जाएगा। उत्सव का आयोजन श्रीकृष्ण विकास समिति और आयुक्त कार्यालय, पटना के तत्वावधान में दिन के 11 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच किया गया है। पतंग उमंग उत्सव-2018 में देश के ख्यातिप्राप्त पतंगबाज दिल्ली निवासी सुजीत चौधरी और जबलजीत चौधरी भाग लेेंगे। इस दिन देश व राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से आये हुए पतंगबाज बड़े-बड़े आकर्षक पतंग उड़ायेंगे। यह जानकारी रविवार को आयोजित पत्रकार वात्र्ता में पटना प्रमंडल आयुक्त आनन्द किशोर ने दी। उन्होंने बताया कि इस दिन आम लोगों के बीच भी पतंबाजी प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी। प्रख्यात पतंगबाजों की ओर से बेहतर और कलात्मक ढंग से पतंग उड़ाने वाले प्रतियोगी को प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार के लिए चयनित किया जाएगा। सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजनप्रमंडलीय आयुक्त ने बताया कि पतंगबाजी के साथ-साथ मुख्य मंच से लोगों के मनोरंजन के लिए गीत, संगीत और नृत्य के प्रख्यात कलाकारों की ओर से प्रस्तुति भी दी जाएगी। साथ ही बाहर से आये हुए पतंगबाज लोगों को बारीकी से पतंग उड़ाना सिखाएंगे। डिजाइनर और आकर्षक कलाकृति के पतंग जो प्रख्यात पतंगबाजों द्वारा दिल्ली से लाये जा रहे हैं, आम लोगों को भुगतान के आधार पर उपलब्ध कराये जायेंगे। स्लोगन प्रतियोगिता के विजेताओं को भी मिलेगा पुरस्कारआयुक्त ने बताया कि सादे और आकर्षक पतंग पर सरकार की विभिन्न योजनाओं का स्लोगन यथा-सात निश्चय, आर्थिक हल युवाओं को बल, आरक्षित रोजगार महिलाओं का अधिकार, हर घर बिजली लगातार, हर घर नल का जल, घर तक पक्की गली- नालियां, शौचालय निर्माण घर का सम्मान, अवसर बढ़े आगे पढ़ें, बाल विवाह एवं दहेज उन्मूलन, शराबबंदी, स्वच्छ बिहार, स्मार्ट बिहार और ग्रीन बिहार के नारों के साथ प्रतियोगिता आयोजित होगी, जिसमें विजेता को प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार दिये जायेंगे। पतंग उड़ाने की प्रतियोगिता और सादे पतंग पर सरकार की विभिन्न योजनाओं की स्लोगन प्रतियोगिता के विजेताओं को उपेन्द्र महारथी शिल्प संस्थान से प्राप्त पारंपरिक कलाकृति और हस्तशिल्प से संबंधित पुरस्कार दिये जायेंगे। दही-चूड़ा का भी लें आनंद, चाइना धागा पर रोकपतंगोत्सव के मौके पर 50 रुपये के भुगतान पर दही, चूड़ा, गुड़, तिलकूट और जलेबी पैकेट में आम लोगों को उपलब्ध कराये जायेंगे। साथ ही भुगतान के आधार पर लटाई और पतंग आम लोग प्राप्त कर सकेंगे। वहीं आयोजन में चाइना धागा के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। किसी भी हालत में पतंगबाज चाइना धागा का उपयोग नहीं करेंगे। 

यह भी पढ़े  24 अप्रैल को वीडियो कांफ्रेसिंग से ग्रामसभाओं को संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here