भाव नृत्य की प्रस्तुति से कलाकारों ने मोहा मन

0
680
PATNA DAK BUNGLOW SE GUZARTE RAM NOVMI JHANKI

चौत्र महाअष्टमी की रात देवी मंदिर कोरहर, बिहटा के प्रांगण में माता का जगराता का भव्य आयोजन किया गया। जिसमें यूपी, झारखंड व सूबे के कलाकरों ने भक्ति गीत, संगीत व भाव नृत्य की रसधार बहाकर श्रद्धालुओं को सराबोर किया। मैया तेरे दर्शन को दिल बेकरार है, तुझको पुकारे तेरा लाल, नम: शिवाये, नम: शिवाये, राधा तेरी चुनरी व राम जी निकली सवारी आदि गीतों पर लोग झूमते-नाचते रहे। अंकित कालिका झांकी ग्रुप कानपुर से आये कलाकार अंकित, अंकिता, रैम्बो व सहयोगियों के मनिहारी भाव नृत्य को लोगों ने काफी सराहा। भाव नृत्य में शिव का तांडव, क्रोधित महाकाली का चंड- मुंड व महिषासुर बध,राधा-कृष्ण व गोपियों और ग्वालों के गरबा आदि नृत्य पर श्रद्धालु आत्मविभोर दिखे। इस अवसर पर शशि रंजन म्यूजिकल ग्रुप पटना के साथ धनबाद झारखंड से आये भाई-बहन शुभम व अर्चना गोस्वामी, पटना की पूनम एवं धीरज व गब्बर बाबा तथा बृंदावन संगीत म्यूजिकल केंद्र के विमल कुमार चौहान आदि गायकों नें अपनी एक से एक मनोहारी गीतों से लोगों को गदगद किया। मैया के नाम की माला, जपे कोई दिल वाला. रामजी निकली सवारी. अदि गीतों पर जागरण परिवार द्वारा इसका आयोजन कोरहर देवी मंदिर के 5 वें वार्षिकोत्सव पर किया गया।वही प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी गोखुले श्ववरनाथ मंदिर के प्रांगण में श्रीमद्भावगवत कथा ज्ञान यज्ञ का आयोजन किया गया। जिसमें देश के ख्यातिलब्ध संत विश्ववंधु वैकुंठवासी श्रीगदाधराचार्य उर्फ माचा स्वामी के परम शिष्य पादीय जगतगुरु रामानुजाचार्य श्री स्वामी सुदर्शनाचार्य जी महाराज ने भागवत कथा का ज्ञान अपने श्रीमुख से बांटे। यज्ञ और माता की जगराता के समापन के बाद नवमी को देवी मंदिर के प्रांगण में भव्य भंडारा का आयोजन किया गया। आयोजन की सफलता के लिये संतोष चौहान, गोपाल चौहान,मनीष कुमार,अखिलेश सिंह, बॉडी कुमार, संतोष कुमार, अभिमन्यु कुमार, सोनू सिंह, नवीन कुमार, शारदा सिंह, राधेश्याम सिंह, किशोर चौहान, राजन सिंह, जयप्रकाश सिंह, अंजनी सिंह, अरविंद सिंह आदि का महत्वपूर्ण योगदान दिया।

यह भी पढ़े  सभ्यता द्वार हमारे वैभवशाली इतिहास का प्रतीक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here