भारत ने रूस के साथ किया करार, अमेठी में लगेगी AK-203 असॉल्ट राइफलों की कंपनी

0
135

भारत ने रूस के साथ बुधवार देर शाम एक अहम रक्षा समझौते को मंजूरी दी है। इसके तहत भारत रूस के साथ मिलकर एके सीरीज़ की AK-203 असॉल्ट राइफलें भारत में बनाएगा। इसके लिए प्लांट उत्तर प्रदेश के अमेठी में लगेगा।

 भारत और रूस के बीच कल देर शाम AK-203 असॉल्ट राइफलों की कंपनी लगाने को लेकर करार हुआ. केंद्र सरकार ने कल रूस के साथ करीब सात लाख 47 हजार कलाश्निकोव राइफलों के निर्माण का फैसला किया. इसके लिए उत्तर प्रदेश के अमेठी में प्लांट लगाया जायेगा.

गौरतलब है कि रक्षा मंत्रालय ने कुछ समय पहले साढ़े छह लाख रायफलों की खरीद की मंशा जाहिर की थी. इन रायफलों का निर्माण ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम के तहत होगा. इसी सप्ताह  सरकार ने 72,400 असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए एक अमेरिकी कंपनी से भी करार किया है.

दोनों देशों की सरकारों के बीच होने वाले इस करार के तहत रूस की कलाश्निकोव कंसर्न और भारत का ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड मिलकर AK-47 की तीसरी पीढ़ी की राइफलें AK-203 तैयार करेंगे। दोनों देशों के बीच आधिकारिक समझौते पर दस्तखत इस हफ्ते के आखिर तक होने की संभावना है। उसी वक्त करार से जुड़ी कीमत, समयसीमा जैसी अन्य जरूरी जानकारियां सामने आएंगी।

यह भी पढ़े  नीरव मोदी की चर्चा के बीच आई विजय माल्या की खबर, हर सप्ताह मिलेंगे 16.5 लाख रुपये

@ANI
Centre today cleared 7.47 lakh assault Kalashnikov rifles to be built by Ordnance Factory Board and Russian Joint venture firm. Plant to be set up near Amethi in Uttar Pradesh.

आपको बता दें कि यह समझौता रक्षा मंत्रालय के उस प्रस्ताव के तहत हो रहा है जिसमें मंत्रालय ने साढ़े छह लाख राइफलों की खरीद के लिए ‘अभिरुचि पत्र’ मांगे थे। ये राइफलें पूरी तरह ‘मेक इन इंडिया’ प्रोग्राम के तहत भारत में ही बनाई जाएंगी। इस करार में भारत सरकार की पॉलिसी के तहत ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के पास मेजॉरिटी शेयर 50.5 फीसदी रहेगा, जबकि रूस के पास 49.5 फीसदी शेयर होंगे।

इसी हफ्ते केंद्र सरकार ने 72,400 असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए एक अमेरिकी कंपनी के साथ करार किया है। रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि फास्ट ट्रैक प्रोक्योरमेंट (एफटीपी) के तहत एसआईजी जॉर असॉल्ट राइफल्स के लिए US के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किए हैं। सालभर के भीतर अमेरिकी कंपनी एसआईजी जॉर से 72,400 7.62एमएम राइफलें मिल जाएंगी। फिलहाल भारतीय सुरक्षाबल 5.56×45 एमएम इनसास राइफलों से लैस हैं।

यह भी पढ़े  सिंधु जल संधि पर विश्व बैंक का बड़ा बयान, कहा- 'पाकिस्तान के साथ नहीं बनी सहमति'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here