भागलपुर में मां को गनप्वाइंट पर रखकर छात्रा पर फेंका तेजाब, एक गिरफ्तार

0
84
file photo
भागलपुर शहर में पहली बार शुक्रवार देर शाम एसिड अटैक की हुई घटना ने पूरे शहर को सहमा दिया. बबरगंज थाने के अलीगंज स्थित गंगा विहार कॉलोनी में एक स्वर्णकार के घर घुसे अपराधियों ने उनकी इंटर में पढ़ने वाली बेटी पर एसिड अटैक कर दिया. घटना के वक्त छात्रा की मां को अपराधियों ने गनप्वाइंट पर रखा था.
हालांकि, परिजनों का कहना था कि अपराधियों ने पहले छात्रा के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की. फिर बाद में छात्रा और उसकी मां द्वारा विरोध किये जाने पर उन्होंने छात्रा पर एसिड फेंक कर उसके चेहरे समेत सीने और पेट के अधिकांश हिस्से को बुरी तरह से जला दिया.
घटना के बाद घर पहुंचे पिता और भाई ने पीड़िता को मायागंज अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी स्थिति गंभीर बतायी जा रही है. पुलिस ने एक आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया है. वह पीड़िता का पड़ोसी है.
 पीड़िता की मां ने बताया कि घटना शाम साढ़े सात बजे से आठ बजे के बीच की है. उस वक्त छात्रा और उसकी मां अपने घर के मुख्य दरवाजे को बंद कर रसोईघर में खाना बना रही थी. इसी दौरान छत के रास्ते पहले तीन नकाबपोश अपराधी हाथ में एक थैला लेकर घुसे.
इसमें उन्होंने एसिड और हथियार छिपाकर रखा था. हथियार और एसिड को झोले से निकालकर वे तीनों सीधे रसोईघर में घुस गये और छात्रा के साथ जबरदस्ती करने लगे. इसका विरोध करने पर छात्रा की मां को अपराधियों ने लोडेड कट्टा सटा दिया और मुंह बंद करने को कहा.
जब तक छात्रा और उसकी मां कुछ समझ पातीं, अपराधियों ने बोतल में बंद एसिड को निकालकर छात्रा के चेहरे पर फेंक दिया. एसिड पड़ते ही छात्रा छटपटा कर अपने कमरे की तरफ दौड़ पड़ी. इसी दौरान पीड़िता की मां ने देखा कि छात्रा के पीछे पड़ोस में रहने वाला प्रिंस नामक युवक भी गया था. जैसे ही छात्रा और उसकी मां ने चीखना शुरू किया, चारों छत की ओर दौड़े और पड़ोसी प्रिंस की छत पर कूद कर फरार हो गये.
चीखने की आवाज सुनकर पड़ोसी उनके घर की ओर दौड़े, पर तब तक अपराधी घर के पास मौजूद झाड़ियों के रास्ते भाग चुके थे. इसकी जानकारी तुरंत छात्रा के पिता को फोन कर दी गयी.
इसके बाद पिता और उनका बेटा अलीगंज शाह मार्केट स्थित अपनी सोने- चांदी की दुकान बंद कर घर पहुंचे और लड़की को लेकर मायागंज अस्पताल चले गये. घटना की जानकारी पाकर सिटी एसपी एसके सरोज, सिटी डीएसपी राजवंश सिंह, मोजाहिदपुर थानाध्यक्ष इंस्पेक्टर राम एकबाल प्रसाद यादव और बबरगंज थानाध्यक्ष मिथिलेश चौधरी दलबल के साथ मौके पर पहुंचे और तुरंत पड़ोसी प्रिंस और उसके छोटे भाई सौरभ को उनके पास से हिरासत में ले लिया. इधर पीड़िता की मां द्वारा प्रिंस का नाम बताये जाने के बाद पुलिस ने प्रिंस को गिरफ्तार कर लिया. दोनों से देर रात तक बबरगंज थाने में पूछताछ करती रही.
यह भी पढ़े  रेल होटल घोटाला: लालू यादव के वकील ने सीबीआइ से मांगा दो सप्ताह का समय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here