भाकपा माले ने तय किये छह उम्मीदवार आरा से राजू यादव होंगे प्रत्याशी

0
27

भाकपा माले ने आरा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से राजू यादव को उम्मीदवार घोषित किया है। पार्टी के राज्य सचिव कुणाल ने सोमवार को आरा में आयोजित कार्यक्रम में राजू यादव के उम्मीदवारी की घोषणा की। इस मौके पर पार्टी के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य, वरिठ नेता स्वदेश भट्टाचार्य, रामजी राय, नंदकिशोर प्रसाद, तरारी विधायक सुदामा प्रसाद, मनोज मंजिल सहित अन्य नेता उपस्थित थे। वहीं माले राज्य सचिव ने बयान जारी कर कहा कि सभी छह सीटों पर हमारे उम्मीदवार तय हैं, लेकिन राजद से वार्ता के बाद ही अंतिम निर्णय लिया जायेगा। दोनों पार्टियों की बैठक होनी है। उम्मीद है कि इसमें सीटों के तालमेल संबंधी जारी गतिरोध समाप्त हो जाएगा और बिहार में विपक्ष की सभी पार्टियां एकजुट होकर चुनाव मैदान में उतरेंगी। 
भाकपा माले लोकसभा चुनाव राष्ट्रीय जनता दल के साथ गठबंधन कर लड़ने की तैयारी में है। इसको लेकर भाकपा माले और राजद नेताओं के बीच कई दौर की बातचीत भी हुई है। भाकपा माले राजद से कम से कम दो सीटों और सीवान में दोस्ताना संघर्ष की मांग पर अड़ा हुआ है। जबकि राजद माले के लिए आरा सीट छोड़ने को तैयार है। इसी बीच माले ने छह सीटों पर उम्मीदवार के नाम भी तय कर लिये ताकि सम्मानजनक समझौता नहीं होने की स्थिति में मजबूत सीटों पर उम्मीदवार उतारा जा सके।माले ने राजद के साथ समझौता नहीं होने की स्थिति में बिहार की छह लोकसभा सीटों पर दावेदारी पेश करने का निर्णय लिया है। रविवार को हुई माले राज्य स्थायी समिति की बैठक में उम्मीदवार के नामों पर सहमति दे दी गयी। लेकिन इसकी औपचारिक घोषणा नहीं की गयी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार माले ने आरा से राजू यादव, सीवान से पूर्व विधायक अमरनाथ यादव,जहानाबाद से पूर्व विधायक राजाराम सिंह, काराकाट से पूर्व विधायक अरुण सिंह, पाटलिपुत्र से गोपाल रविदास और कटिहार लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से पार्टी विधायक दल के नेता महबूब आलम को चुनावी दंगल में उतारने का निर्णय लिया है। मालूम हो कि भाकपा माले ने गत लोकसभा चुनाव 2014 में बिहार की 40 में से 23 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारा था, लेकिन 17वीं लोकसभा चुनाव में पार्टी ने राजद के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। पार्टी छह सीटों पर तैयारी की है,लेकिन राजद एक सीट ही छोड़ने को तैयार है। माले एक सीट पर समझौता करने को तैयार नहीं दिख रही है।

यह भी पढ़े  नयी सदी में फीका पड़ने लगा दल का रंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here