ब्रजेश के सभी एनजीओ का निबंधन सरकार ने किया रद्द,मुजफ्फरपुर बालिका गृह पहुंचे सीबीआई अधिकारी

0
216

बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर बालिका अल्पावास गृह में 34 लड़कियों के साथ दुष्कर्म मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के सभी गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) का निबंधन रद्द कर दिया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि समाज कल्याण विभाग की अनुशंसा के आधार पर निबंधन विभाग ने ब्रजेश से जुड़े सभी एनजीओ का निबंधन रद्द करने की अधिसूचना जारी की है। टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टीआईएसएस) के सामाजिक अंकेक्षण रिपोर्ट से मुजफ्फरपुर मामले का खुलासा होने के बाद से समाज कल्याण विभाग ने अपने स्तर से ब्रजेश द्वारा संचालित सभी एनजीओ की जांच शुरू कर दी थी। निबंधन विभाग ने समाज कल्याण विभाग की अनुशंसाओं के आधार पर जांच कर ब्रजेश द्वारा प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से संचालित सभी एनजीओं का निबंधन रद्द कर दिया है। वहीं, इससे पूर्व स्वास्य विभाग ने ब्रजेश को बिहार एड्स कंट्रोल सोसाइटी से प्राप्त छह परियोजनाओं को भी रद्द कर दिया था। इसके अलावा विभाग ने एक विशेष टीम का गठन कर उसे एड्स कंट्रोल सोसाइटी से ब्रजेश को संविदा कैसे दी गई, की जांच करने की जिम्मेवारी सौंपी है।

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में आज कई खुलासा किये जाने की संभावना है. पहली बार सीबीआई की टीम शनिवार की सुबह बालिका गृह के अंदर प्रवेश करेगी. सीबीआई टीम के साथ दिल्ली से आयी सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लेबोरेट्री (सीएफएसएल) के विशेषज्ञ भी साथ हैं. दोनों टीमों के अधिकारी बालिका गृह पहुंच चुके हैं. बालिका गृह की जांच के लिए मौके पर भारी सुरक्षा की व्यवस्था की गयी है. सीएफएसएल की टीम बालिका गृह के बंद कमरों में बच्चियों के साथ हुई दरिंदगी के निशानों और सबूतों को इकट्ठा करेगी.

यह भी पढ़े  गृह मंत्री अमित शाह ने की 'एक भाषा' की वकालत, विपक्षी दलों की तीखी प्रतिक्रियाएं

बालिका गृह रेप केस मामले में सीबीआई की टीम शनिवार को शहर के मुजफ्फरपुर पहुंची. दिल्ली और पटना की सीबीआई टीम ब्रजेश ठाकुर बालिका गृह का पूर्ण रूप से निरीक्षण करने के लिए स्पेशल फोरेंसिक उपकरण साथ लाई है.
ब्रजेश ठाकुर के बेटे राहुल आनंद को सीबीआई टीम ने फोन कर बालिका गृह परिसर में बुलाया. सीबीआई के कई अधिकारी बालिका गृह परिसर में मौजूद हैं. बालिका गृह में जेसीबी मशीन भी लाया गया है. इससे पहले भी एक बार पुलिस ने कैंपस में जेसीबी का इस्तेमाल किया था.
इससे पहले बताया गया था कि सीबीआई और एफएसएल की टीम मुजफ्फरपुर बालिका गृह जाकर उन कमरों की जांच करेगी, जहां नाबालिग लड़कियां रहती थीं.

बालिका गृह रेप कांड की जांच की जिम्मेदारी मिलने के बाद सीबीआई ने अभी तक बालिका गृह का दौरा नहीं किया था. शनिवार को सीबीआई की टीम और फोरेंसिक साइंस लैबोरेटरी के तकनीशियनों के साथ एक मजिस्ट्रेट भी होंगे. मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में ही बालिका गृह का ताला खोला जाएगा.

यह भी पढ़े  कर्नाटक में "महानाटक": खतरे में कुमारस्‍वामी सरकार, मुंबई के होटल पहुंचे बागी विधायक

राज्य सरकार प्रायोजित इस बालिका गृह का संचालन कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर का एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति करता था. साहू रोड स्थित इसी कैंपस में ब्रजेश ठाकुर का घर और उसका प्रिंटिंग प्रेस भी है. फिलहाल उसके परिवार के सारे लोग इस कैंपस को छोड़ चुके हैं.

मामले की जांच कर रही सीबीआई मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को रिमांड पर लेने की तैयारी भी कर रही है. रिमांड के लिए अदालत में आवेदन देने से पहले सीबीआई ने ब्रजेश ठाकुर की मेडिकल रिपोर्ट अपने पास मंगवाई है. जांच एजेंसी को पेशी के दौरान हंसते ब्रजेश ठाकुर के बीमार होने पर भी शक है.

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक बहुत जल्द ही मुजफ्फरपुर लोकल कोर्ट में रिमांड के लिए जरूरी दस्तावेज जमा कराया जाएगा. बालिका गृह रेप केस सामने आने के बाद ब्रजेश ठाकुर को मुजफ्फरपुर पुलिस ने 3 जून को गिरफ्तार किया था. इसके बाद महज 5 दिन ही जेल के वार्ड में रहकर वह अस्पताल में भर्ती हो गया.

यह भी पढ़े  टीवी न्यूज चैनलों की बहस से दूर रहें विपक्षी नेता :तेजस्वी

बालिका गृह का संचालन कर रहे ठाकुर के एनजीओ की सात महिलाकर्मियों समेत कुल 10 लोग गिरफ्तार किए गए थे. ठाकुर समेत सभी 10 आरोपियों के खिलाफ मुजफ्फरपुर पुलिस चार्जशीट दाखिल कर चुकी है. इससे पहले बिहार पुलिस की जांच टीम ने लड़कियों के कमरों से नशे की दवाइयां और इंजेक्शन बरामद किया था.

मामले की जांच 26 जुलाई को सीबीआई को सौंपने से पहले बिहार पुलिस ब्रजेश ठाकुर को रिमांड पर लेने में नाकामयाब रही, जिसके लिए उसकी काफी आलोचना भी हुई थी. इस बीच कोर्ट में पेशी के दौरान मीडियाकर्मियों से बात करते हुए ब्रजेश ठाकुर ने अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताया और इसके पीछे राजनीतिक साजिश की बात कही थी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here