बुद्धभूमि पर दलाईलामा का हुआ भव्य स्वागत

0
49

गया: तिब्बतियों के आध्यात्मिक धर्मगुरु दलाईलामा सोमवार की शाम कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सारनाथ से सड़क मार्ग से बोधगया पहुंचे, जहां उनका परंपरागत तरीके से भव्य स्वागत किया गया। धर्मगुरु के स्वागत में श्रद्धालु घंटों से कतारबद्ध खड़े थे। दलाईलामा को देखते ही उनकी आंखें नम हो गईं। महाबोधि सोसाइटी के समीप खड़ी महिला श्रद्धालु पारंपरिक गीत गा रहीं थीं। 1वहीं, आवासन स्थल तिब्बत मंदिर परिसर में वरीय बौद्ध लामाओं ने पारंपरिक वाद्ययंत्र का वादन कर उनका स्वागत किया और उन्हें खादा सौंपा। धर्मगुरु ने कुछ वरीय बौद्ध लामाओं की कुशलक्षेम पूछी और उसके बाद निजी कक्ष में चले गए।

सुरक्षा घेरे में आवासन स्थल : दलाईलामा के आवासन स्थल प्राचीन तिब्बत मंदिर की सुरक्षा की कमान अर्धसैनिक बल ने संभाल रखी है। यहां कमांडों तैनात किए गए हैं। इसके अलावा दलाईलामा के निजी सुरक्षाकर्मी प्रवेश द्वार से लेकर आवासन स्थल में चारों ओर तैनात हैं। मंदिर के प्रवेश द्वार पर डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर लगाया गया है। उपरी तल पर कई जगहों पर वॉच टावर बनाए गए हैं। यहां सुरक्षाकर्मियों के साथ-साथ दंडाधिकारियों की तैनाती की गई है।

यह भी पढ़े  थाईलैंड में बॉलीवुड का जबरदस्त क्रेज, खूब पसंद किए जा रहे शाहरूख खान

एसएसपी गरिमा मलिक ने बताया कि दलाईलामा के बोधगया प्रवास को लेकर तीन हजार पुलिस के अधिकारियों तथा महिला-पुरुष के जवानों की तैनाती की गई है। बोधगया शहरी क्ष़ेत्र में 25 पुलिस शिविर लगाए गए हैं, जहां 24 घंटे अधिकारियों के साथ जवानों की तैनाती सुनिश्चित की गई है। इसके अलावा कालचक्र मैदान के समीप अस्थायी मेला थाना खोला गया है। पूरे शहर की निगरानी सीसीटीवी कैमरे से की जा रही है, जिसका कंटोल रूम अस्थायी मेला थाना में बनाया गया है। डाग स्कवॉड और बम निरोधक दस्ता भी जांच कर रहा है।

15-7 और 14-16 तक होगा टीचिंग प्रोग्राम : दलाईलामा लगभग एक माह बोधगया में प्रवास करेंगे। इस दौरान 5-7 और 14-16 जनवरी तक कालचक्र मैदान पर बौद्ध श्रद्धालुओं के लिए विशेष टीचिंग देंगे। इसका प्रसारण एफएम बैंड पर 20 से अधिक भाषाओं में किया जाएगा। प्रथम चरण में धर्म चक्र प्रवर्तन सूत्त पर उनका प्रवचन होगा। 1वहीं, दूसरे चरण में नागाजरुन की पुस्तक पर प्रवचन, बौद्ध लामाओं को अवलोकितेश्वर की दीक्षा तथा अंतिम दिन धर्मगुरु की लंबी आयु को लेकर विशेष प्रार्थना बौद्ध लामाओं द्वारा की जाएगी। इस प्रवास के क्रम में धर्मगुरु कई अन्य जगह भी जाएंगे।

यह भी पढ़े  आस्था के महापर्व छठ को सरकार दे रही 'स्‍टेट इवेंट'का रूप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here