बिहार सरकार ने अपने कर्मचारियों को दिवाली-छठ का दिया तोहफा, इस बार त्यौहार के पहले मिलेगी सैलरी

0
77

बिहार राज्य के कर्मचारियों को राज्य सरकार दिवाली और छठ के पहले बड़ा तोहफा देने की तैयारी में है. जी हां, सही सुना आपने. दरअसल, बिहार के उप मुख्यमंत्री और वित्तमंत्री मोदी ने कहा है कि राज्य सरकार के कर्मियों को दिवाली और छठ से पहले अक्टूबर महीने का वेतन और केन्द्र की तर्ज पर पांच प्रतिशत बढ़ी हुई दर से महंगाई भत्ता का नकद भुगतान करने का ऐलान किया है. इसके लिए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी कर दिए गए हैं.
इसी के साथ बिहार राज्य के कर्मचारियों को त्यौहार के पहले ही वेतन भेज दिया जाएगा. बता दें कि बिहार राज्य के कर्मचारियों को हर महीने के पहली तारीख को वेतन दिया जाता है.

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि दिवाली-छठ के त्यौहार से पूर्व राज्य कर्मियों को अक्टूबर माह का वेतन भुगतान प्रारंभ करने का निर्देश दिया गया है. इसके लिए सीएफएमएस (के तहत 18 अक्टूबर से ऑनलाइन वेतन विपत्र प्रस्तुत कर संबंधित कोषागार पदाधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई करते हुए 25 अक्टूबर से बढ़ें हुए वेतन देने का निर्देश जारी किया है.

यह भी पढ़े  बोर्ड कार्यालय की व्यवस्था होगी कम्प्यूटराइज्ड

उन्होंने कहा कि इसके लिये अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे दिए गए हैं। उप मुख्यमंत्री ने बताया कि दिवाली-छठ से पूर्व 25 अक्टूबर से राज्य कर्मियों को अक्टूबर माह का वेतन भुगतान प्रारंभ करने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए सीएफएमएस के तहत 18 अक्टूबर से ऑनलाइन वेतन विपत्र प्रस्तुत कर संबंधित कोषागार पदाधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई करते हुए 25 अक्टूबर से वेतन भुगतान प्रारंभ करने का निर्देश दिया गया है। गौरतलब है कि राज्यकर्मियों को प्रत्येक महीने की पहली तारीख से वेतन भुगतान किया जाता है, लेकिन इस साल दिवाली-छठ के मद्देनजर त्योहार से पूर्व उन्हें वेतन भुगतान किया जायेगा। केन्द्र सरकार द्वारा अपने कर्मियों को 01 जुलाई, 2019 से 12 की जगह 17 प्रतिशत महंगाई भत्ता देने के निर्णय के बाद नीतिगत रूप से उसके अनुरूप राज्य सरकार के पेंशनधारियों और पारिवारिक पेंशनभोगियों को भी उसी तिथि और दर से महंगाई भत्ता का नकद भुगतान करने का निर्देश वित्त विभाग को दिया गया है। इससे राज्य सरकार पर 1,048 करोड़ का अतिरिक्त व्यय भार संभावित है।

यह भी पढ़े  शक्तिकांत दास बने नए RBI गवर्नर, उर्जित पटेल ने कल दिया था इस्तीफा

राज्य सरकार के इस फैसले से राज्य के कोष पर करीब 1,048 करोड़ रुपये का अतिरिक्त भार पड़ेगा.

बता दें कि केन्द्र सरकार ने अपने कर्मियों को एक जुलाई, 2019 से 12 की जगह 17 प्रतिशत महंगाई भत्ता देने के निर्णय लिया था जिसके चलते बिहार सरकररा ने भी अपने कर्मचारियों के भत्ते में बढ़ोत्तरी की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here