बिहार विधान परिषद के चुनाव में 11 उम्मीदवार मैदान में , नामांकन आज से

0
35

बिहार विधान परिषद के चुनाव में 11 उम्मीदवार मैदान में हैं। सोमवार को नामांकन का आखिरी दिन है। अभी तक की स्थिति के मुताबिक चुनाव की नौबत नहीं आएगी। इस प्रकार सभी उम्मीदवारों की निर्विरोध जीत लगभग तय है। जदयू, भाजपा और कांग्रेस ने रविवार को अपने-अपने कोटे के उम्मीदवारों के नाम का एलान कर दिया। ये सभी उम्मीदवार सोमवार को नामांकन करेंगे। नामांकन पत्रों की जांच के बाद उम्मीदवारों की जीत की घोषणा संभव है। जदयू ने अपने कोटे की तीन सीटों के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, रामेश्वर महतो, खालिद अनवर को उम्मीदवार बनाया है। भाजपा ने उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान को प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने अपनी एकमात्र सीट के लिए प्रेमचंद मिश्र को उम्मीदवार बनाया है।

 भाजपा के केन्द्रीय नेतृत्व की पहल पर आखिरकार पार्टी को विधान परिषद चुनाव के लिए तीसरी सीट भी मिल गई। देश की मौजूदा दलित राजनीति के बीच भाजपा ने अपनी तीसरी सीट के तहत पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री संजय पासवान को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है।उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, स्वास्य मंत्री मंगल पांडेय का नाम तो पहले से तय था, किंतु जदयू की तरफ से चौथा उम्मीदवार देने की र्चचा मात्र से भाजपा की सांसे फूलने लगी थी, किंतु सूत्रों के अनुसार भाजपा केन्द्रीय नेतृत्व के आग्रह पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चौथी सीट पर दावा छोड़ बड़प्पन दिखाया। अब सुशील मोदी व मंगल पाण्डेय के साथ पूर्व केन्द्रीय मत्री डॉ. संजय पासवान सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। इस तरह भाजपा को बड़ी राहत मिली है। भाजपा के प्रवक्ता संजय मयूख ने यहां बताया कि पार्टी की केन्द्रीय कमिटी ने परिषद चुनाव के लिए श्री मोदी, श्री पांडेय और श्री पासवान को उम्मीदवार बनाया है। उन्होंने बताया कि तीनों उम्मीदवार सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 16 अप्रैल है। 17 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच होगी और इसके बाद उम्मीदवार 19 अप्रैल तक नाम वापस ले सकेंगे । 26 अप्रैल को चुनाव की तिथि है पर चुनाव की नौबत नहीं आएगी। विधानसभा में संख्या बल के हिसाब से राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की चार, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की तीन-तीन और कांग्रेस की एक सीट पर जीत तय है। परिषद में जो 11 सीटें रिक्त हो रही है उनमें नीतीश कुमार (जदयू), संजय सिंह (जदयू), राजकिशोर कुशवाहा (जदयू), चन्देश्वर प्रसाद चन्द्रवंशी (जदयूू), उपेन्द्र प्रसाद (जदयू), सुशील कुमार मोदी (भाजपा), मंगल पाण्डेय (भाजपा), लालबाबू प्रसाद (भाजपा), स्व. सत्येन्द्र प्रसाद कुशवाहा (भाजपा), राबड़ी देवी (राजद) व नरेन्द्र सिंह शामिल हैं। इनमें से नरेंद्र सिंह की सदस्यता समाप्त होने के कारण नरेंद्र सिंह और भाजपा के सत्येंद्र नारायण सिंह के निधन के कारण दो सीटें पहले से रिक्त पड़ी हुई है।

जदयू की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, रामेश्वर महतो व खालिद अनवर विधान परिषद के चुनाव के लिए सोमवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। जदयू की तरफ से दो नामों को लेकर सस्पेंस बना हुआ था, किंतु सामाजिक समीकरण को ध्यान में रखते हुए जदयू के शीर्ष नेताओं ने दो नए नामों को भी हरी झंडी दे दी है। मुख्यमंत्री ने इस बार उर्दू के वरिष्ठ पत्रकार खालिद अनवर को भी जगह दी है। साथ ही नए चेहरे के रूप में सीतामढ़ी के रामेश्वर महतो को भी टिकट दिया गया है। खालिद पत्रकार के साथ सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं।

यह भी पढ़े  भाजपा ने नोटबंदी के विरोधियों को बताया देशद्रोही

 विधान परिषद चुनाव के लिए कांग्रेस ने पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रेमचंद्र मिश्रा को उम्मीदवार बनाया है। मिश्रा ने उम्मीदवार बनाये जाने की पुष्टि करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को इसके लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि श्री गांधी ने उनपर जो विास व्यक्त किया है उसपर वह पूरी तरह से खरा उतरने की कोशिश करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here