बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र: उठा कब्रिस्तान घेराबंदी का मामला, सीएम ने दिया जवाब 

0
75

विधान सभा के मानसून सत्र में सोमवार को बिहार में कई कब्रिस्तान घेराबंदी का मामला उठाया गया। राजद विधायक यदुवंश कुमार ने कब्रिस्तान और दरगाह घेराबंदी मामले पर विधानसभा में सवाल उठाया, जिसका सीएम नीतीश ने जवाब दिया। सीएम नीतीश ने कहा कि कब्रिस्तान घेराबंदी के लिए सरकार की कोई कमिटी नहीं है। जहां भी विवाद है वैसे कब्रिस्तानों को चिन्हित किया गया है। जिसकी डीएम और एसपी को जिमेवारी दी गयी है। कब्रिस्तान घेराबंदी के लिए सरकार ने सर्वेक्षण कराया है। जिसके आधार पर 8 हज़ार 64 कब्रिस्तान की घेराबंदी की जा रही है।

अब तक हो चुकी है इतनी घेराबंदी

सीएम नीतीश ने कहा कि अभी तक 75 प्रतिशत कब्रिस्तान का घेराबंदी की जा चुकि है, वहीं बाकी बचे काम को जल्द पूरा करने का निर्देश दिया है। विधायक विधान पार्षद भी अपने फंड से कब्रिस्तान की घेराबंदी करा सकते हैं। 8 हज़ार 64 कब्रिस्तान के अलावा और भी कोई कब्रिस्तान का घेराबंदी कराना है तो लिखकर उसकी जानकारी सरकार को दीजिए। सरकार उसका भी घेराबंदी कराएगी। उन्होंने कहा कि सरकार मंदिरों की भी घेराबंदी भी करा रही है।

यह भी पढ़े  देश का जनमत सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ : लालू

बिहार विधानमंडल के मॉनसून सत्र की कार्यवाही आज दो दिनों के अवकाश के बाद दोबारा शुरू हुई। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विधानसभा में विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात की। विधानमंडल की कार्यवाही के दौरान सबकी निगाहें तेजस्वी यादव पर टिकी रहीं।

विधानसभा में विपक्ष ने लगाया सत्तापक्ष पर आरोप
बिहार विधानसभा की कार्यवाही में प्रश्नोत्तर काल शुरू होने के बाद विपक्ष ने डाटा एंट्री ऑपरेटर का वेतन नियमित करने का मामला उठाया। कांग्रेस विधायक शकील खान ने सवाल पूछा जिसका उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने जबाब दिया और बताया कि एक महीने के अंदर वेतन भुगतान किया जाएगा।

विधानसभा में कानून की समस्या पर सवाल उठाते हुए राजद विधायक आलोक मेहता ने सवाल पूछा- सरकार के दावों के बाद भी अपराध है निरंकुश, आधुनिक संसाधनों के लिए सरकार क्या कर रही है? इस सवाल पर मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा कि कांड का उद्भेदन लगातार किया जा रहा है। लचर पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई भी हुई है। पुलिस को आधुनिक बनाने पर काम हुआ है। पहले की अपेक्षा अपराध में कमी आयी है।

यह भी पढ़े  RSS समेत 19 हिंदू संगठनों के नेताओं की जानकारी मांगी स्पेशल ब्रांच ने

कांग्रेस ने पूछा सवाल

इसके बाद कांग्रेस नेता प्रेमचन्द्र मिश्रा ने जलजमाव और सड़कों की खुदाई पर कहा कि पिछले 13 साल से बिहार में बीजेपी के हैं नगर विकास मंत्री और अभी तक जलजमाव का स्थायी उपाय नहीं निकाल सके हैं। उन्होंने कहा कि नमामि गंगे प्रोजेक्ट में भी गोलमाल है। पीएमसीएच में डॉक्टरों की मनमानी चल रही, एचओडी की निजी कंपनी से सांठगांठ चल रही है। सरकार की मिलीभगत के कारण ऐसा हो रहा है।

मंत्री ने दिया जवाब

नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने राजधानी में जलजमाव को लेकर कहा कि एक साल में पटना पूरी तरह जलजमाव से मुक्त हो जाएगा। जलजमाव से जुड़ी योजनाओं पर काम हो रहा है। नमामि गंगे को लेकर खुदाई और गड्ढों पर कहा कि कंपनी को जल्द गड्ढा भरने का दिया है निर्देश।

विधानपरिषद में राजद का हंगामा

विधान परिषद की कार्यवाही शुरू होते ही सदन में सदस्यों ने जमकर हंगामा किया और बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर नारेबाजी की। विपक्षी दल स्वास्थ्यमंत्री मंगल पांडेय के इस्तीफा की मांग करते रहे। कांग्रेस इस नारेबाजी से दूर रही, जबकि राजद सदस्य लगातार नारेबाजी करते रहे।

यह भी पढ़े  कांग्रेस पार्टी के सिख दंगों वाले बयान से किनारा कर लेने के बाद अंततः सैम पित्रोदा ने मांगी माफी

विधान परिषद की कार्यवाही शुरू होते ही सदन में राजद ने कार्यस्थगन प्रस्ताव दिया। सूबे में गिरती विधि -व्यवस्था पर राजद ने कार्यस्थगन प्रस्ताव दिया। राजद के सचेतक सुबोध राय ने लाया प्रस्ताव जिसे सभापति ने अस्वीकार कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here