बिहार में पांच हजार गांवों को डिजिटल विलेज बनायेंगे :रविशंकर प्रसाद

0
48
ravishankr pod . tcs

आने वाले समय में बिहार में 5000 डिजिटल गांव की स्थापना की जायेगी। यह घोषणा केंद्रीय कानून, सूचना प्रौद्योगिकी व संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने की। केंद्रीय मंत्री ने शनिवार को टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) केंद्र का शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि हमने देश में एक लाख डिजिटल गांव बनाने का एलान पहले ही किया है। राजधानी के पाटलिपुत्र औद्योगिक क्षेत्र में 56 करोड़ रुपये की की लागत से सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआई) का केंद्र स्थापित होने जा रहा है। आने वाले समय में दुनिया में डिजिटल इंडिया की ताकत बने, इस दिशा में काम हो रहा है।इस मौके पर टाटा कंसल्टेंसी के ग्लोबल एचआर हेड मिलिंद लक्कड, विधायक डॉ. संजीव चौरसिया, नितिन नवीन व एसटीपीआई के डीजी ओंकार राय मौजूद भी थे। श्री प्रसाद ने कहा कि फिलहाल टीसीएस ने 500 युवाओं को रोजगार देने की बात कही है, पर टीसीएस के ग्लोबल हेड से मेरा आग्रह है कि 1500 युवाओं को रोजगार दिया जाये। उन्होंने कहा कि बिहार के युवा काफी मेहनती व मेधावी होते हैं। उन्होंने कहा कि टीसीएस का केंद्र खुल जाने से यहां के युवाओं को ग्लोबल एक्सपोजर मिलेगा। टीसीएस में फिलहाल 4.36 लाख कर्मचारी कार्यरत हैं, जिनमें 36 फीसद महिलाएं हैं। श्री प्रसाद ने कहा कि डिजिटल इंडिया का मतलब है, टेक्नोलॉजी के माध्यम से देश को बदलना। हमारा देश बदल रहा है। पूरे विश्व में इसकी ताकत बढ़ी है। देश की आबादी 130 करोड़ है, जिनमें 123 करोड़ लोगों के पास आधार कार्ड और 121 करोड़ लोगों के पास मोबाइल फोन है। अब योजनाओं की शत-प्रतिशत राशि लोगों के बैंक खाते में पहुंचती है। श्री प्रसाद ने कहा कि अब ड्राइविंग लाइसेंस भी आधार कार्ड से जुड़ेगा। देश को ईमानदार बनाने की कोशिश है। उन्होंने कहा कि फिलहाल 120 शहरों में 297 बीपीओ सेंटर काम कर रहे हैं। बिहार में आठ बीपीओ सेंटर की शुरुआत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में देश में मोबाइल बनाने वाली कंपनियों की संख्या सिर्फ दो थी, पर वर्ष 2019 में 268 मोबाइल कंपनियां स्थापित हो चुकी हैं। इस मौके पर विधायक नितिन नवीन और डॉ. संजीव चौरसिया ने टीसीएस केंद्र की स्थापना पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को बधाई दी। टीसीएस के ग्लोबल एचआर हेड मिलिंध लक्कड ने कहा कि टीसीएस में बिहार के फिलहाल 10 हजार लोग काम कर रहे हैं। बिहारी युवाओं में काफी मेधा होती है।ज्ञात हो कि 5 हजार डिजिटल गांव की स्थापना से रोजगार के द्वार खुलेंगे। हर डिजिटल गांव में कॉमन सेंटर की स्थापना होगी। पिछले दिनों टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से दिल्ली में मुलाकात की थी। उसी दौरान दोनों ने भारत के डिजिटल सेक्टर से जुड़े विषयों पर र्चचा की और एक उज्ज्वल डिजिटल भविष्य के निर्माण के लिए नई पहलों पर र्चचा की थी। लोक सभा चुनाव 2019 में भारी जीत के बाद टीसीएस जैसे बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनी का पटना में पदार्पण रविशंकर प्रसाद के प्रयासों से संभव हो पाया है। ये बिहार में निवेश और रोजगार के अवसर पैदा कराने की दिशा में किया गया एक सफल और सकारात्मक प्रयास है।

यह भी पढ़े  रेखा मोदी पर कार्रवाई को एजेंसी स्वतंत्र : मोदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here