बिहार में किसानों को फसल अवशेष जलाने से हर हाल में रोकना होगा

0
156

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रदूषण उत्पन्न करने वाले कारकों से आगाह करते हुए रविवार को कहा कि राज्य के किसानों को खेतों में फसल अवशेष जलाने से हर हाल में रोकना होगा।मुख्यमंत्री ने यहां पूर्वी चम्पारण जिला के हरसिद्धि प्रखंड के सोनबरसा गांव में जीविका दीदियों द्वारा की जाने वाली आलू अनुबंध खेती मॉडल का निरीक्षण करने के बाद कहा कि पंजाब-हरियाणा के खेतों में फसल के अवशेष में आग लगाने का प्रचलन धीरे-धीरे बिहार में भी बढ़ता जा रहा है। पंजाब-हरियाणा के किसानों के ऐसा करने से दिल्ली में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि बिहार में किसानों को फसल अवशेष जलाने से हर हाल में रोकना होगा, नहीं तो पूरे राज्य में भयावह स्थिति उत्पन्न हो जाएगी। इससे किसानों की तबाही बढ़ेगी और पर्यावरण भी प्रदूषित होगा। मुख्यमंत्री ने जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि इस काम में कृषि कार्य में लगी जीविका दीदियों को लगायें ताकि वे किसानों को इसका नुकसान समझायें। उन्होंने कहा कि पहले रोहतास और कैमूर में यह देखने को मिलता था लेकिन अब तो पटना और नालंदा के किसान भी बड़ी संख्या में अपने खेतों में फसल अवशेष को जला रहे हैं। उन्होंने जीविका दीदियों से भी कहा कि खेतों में आग लगाने की प्रक्रिया बंद हो, इसके लिए वह अपने घर के साथ ही पड़ोस के लोगों को भी समझायें।मुख्यमंत्री को संपोषित कृषि जीविका एग्री प्रोड्यूसर कम्पनी लिमिटेड के निदेशक मंडल की सदस्य एवं जीविका दीदी शोभा देवी ने आलू अनुबंध खेती मॉडल के विषय में विस्तृत जानकारी दी। गौरतलब है कि सिद्धि विनायक एग्री प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड के साथ 04 अक्टूबर 2018 को संपोषित कृषि जीविका एग्री प्रोड्यूसर कम्पनी लिमिटेड ने आलू की अनुबंध खेती के संबंध में एकरारनामा किया था, जिसके तहत एसवी एग्री प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड न्यूनतम 5.5 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से आलू की खरीद करेगी। शोभा देवी ने मुख्यमंत्री को बताया कि आलू के अलावा मक्का और हल्दी की खेती करने की योजना भी कई समूहों की दीदियों ने मिलकर बनाई है। आलू अनुबंध खेती मॉडल के तौर पर अभी 13 एकड़ में बीज वाला और 26 एकड़ में चिप्स वाले आलू की बुआई की गई है। उन्होंने कहा कि अगले साल से मकई से मुर्गी का दाना बनाकर बिक्री की जाएगी। उन्होंने कहा कि जीविका योजना शुरू होने से महिलाओं को काफी मान सम्मान मिला है। घर-परिवार से लेकर सरकारी अधिकारी भी महिलाओं के प्रति आदर का भाव रखते हैं। मुख्यमंत्री ने जीविका दीदीयों द्वारा आलू अनुबंध खेती का खेतों में जाकर अवलोकन भी किया। जीविका दीदियों की बात सुनने के बाद सिद्धि विनायक कम्पनी के अधिकारियों से मुख्यमंत्री ने आलू अनुबंध खेती मॉडल द्वारा उत्पादित आलू के उत्पादन से लेकर उसकी अधिप्राप्ति के संबंध में कम्पनी की भूमिका के विषय में विस्तृत जानकारी ली। जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी बालामुरगन डी. को निर्देश देते हुए मुख्यमंी ने कहा कि यहां प्रयोग हो जाय, उसके बाद इसे प्रमोट करके धीरे-धीरे इसका विस्तार कीजिये। उन्होंने कहा कि जीविका दीदियों को उनके द्वारा उत्पादित की गई आलू की न्यूनतम कीमत अवश्य मिलनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने इसके बाद सोनबरसा गांव में ही बिहार लोक सेवाओं का अधिकार सह पंचायत सुविधा केंद्र का उद्घाटन शिलापट्ट का अनावरण किया। इसके के बाद पंचायत सुविधा केंद्र में आय, जाति, आवासीय प्रमाण पत्र, जन्म एवं मृत्यु प्रमाण पत्र, दाखिल खारिज हेतु ऑनलाइन आवेदन, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, आधार पंजीकरण सहित काउंटर पर उपलब्ध सुविधाओं के विषय में अधिकारियों से मुख्यमंत्री ने पूरी जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने उपस्थित आवेदकों और काउंटर के कार्यपालक सहायकों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि प्रमाण पत्रों में किसी भी तरह का टाइ¨पग की गलती नहीं होनी चाहिये। इसके बाद पास में ही बने पंचायत सरकार भवन का मुख्यमंत्री ने मुआयना किया। मुआयना के बाद स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड, मुख्यमंी कन्या उत्थान योजना, कुशल युवा कार्यक्रम के तहत लर्नर फेसिलिटेटर के पद पर नियुक्ति पा एवं प्रथम श्रेणी से इंटरमीडिएट उत्तीर्ण होने वाली लड़कियों के बीच मिलने वाले लाभ का वितरण मुख्यमंत्री ने लाभुकों के बीच किया। मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के लाभुकों को भी मुख्यमंत्री ने वाहन की चाबी सौंपी। पंचायत सरकार भवन के समक्ष ही स्वास्य विभाग, शिक्षा विभाग, मद्य निषेध एवं उत्पाद विभाग, समाज कल्याण विभाग, आपूत्तर्ि विभाग, बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी, जिला निबंधन एवं परामर्श केंद्र, जीविका एवं कृषि विभाग द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का मुख्यमंी ने अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने यहां वृक्षारोपण भी किया। इस अवसर पर लोक स्वास्य अभियंतण्रमंत्री विनोद नारायण झा, पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार, सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह, पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद कुशवाहा, भाजपा के जिला अध्यक्ष राजेंद्र गुप्ता, राज्य खाद्य आयोग के सदस्य नंदकिशोर कुशवाहा, प्रधान सचिव पथ निर्माण अमृत लाल मीणा, सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के निदेशक अनुपम कुमार, बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन के अपर निदेशक प्रतिमा वर्मा, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, तिरहुत प्रमंडल के आयुक्त नर्मदेश्वर लाल, पूर्वी चम्पारण के जिला अधिकारी रमण कुमार, पुलिस अधीक्षक उपेन्द्र शर्मा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति, वरीय अधिकारी, जीविका दीदियां एवं स्थानीय लोग उपस्थित थे। 

यह भी पढ़े  बेतिया में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' वाट्सएप ग्रुप, चलाने वाले एडमिन को पुलिस ने किया गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here