बिहार भाजपा ने सधे हुए कदमों से 2019 में भी मोदी सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी

0
7

एससी-एसटी एक्ट के मुद्दे पर दलित राजनीति में उबाल के बाद बिहार भाजपा ने सधे हुए कदमों से 2019 में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। विपक्ष द्वारा फैलाए गए आरक्षण के सियासी शिगूफे में उलझकर बिहार में 2015 के विधानसभा चुनाव में पार्टी जीती बाजी हार चुकी है। विपक्ष एक बार फिर इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश में है, लेकिन भाजपा किसी भी कीमत पर विपक्ष को माइलेज नहीं देना चाहती है। इसे ध्यान में रखते हुए भाजपा राजद- कांग्रेस के भ्रमजाल को काटने की तैयारी में जुट गई है।

इसी उद्देश्य से शीर्ष नेतृत्व के निर्देश पर मंगलवार को ज्ञान भवन में पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों, मंच, मोर्चा और अनुषांगिक संगठनों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री व बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव और राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री सौदान सिंह बतौर मुख्य वक्ता पार्टी पदाधिकारियों से लेकर नेताओं और कार्यकर्ताओं को गांव-गांव कूच करने के टिप्स देंगे।

यह भी पढ़े  आईजीआईएमएस में 2 अक्टूबर से मोबाइल कोरोनरी यूनिट एम्बुलेंस की शुरुआत

एससी-एसटी को पक्ष में करने का प्लान तैयार

दरअसल, भाजपा सियासी नफा-नुकसान के मंथन के साथ राज्य में विपक्षी पार्टियों को कोई मौका नहीं देना चाहती है। यही वजह है कि बिहार में 22 फीसद से अधिक आबादी वाले इस बड़े वर्ग की नाराजगी से चुनाव में होने वाले नुकसान की आशंका देख उन्हें मनाने का प्लान भी तैयार कर लिया है। इसके लिए भाजपा सांसदों और नेताओं को दलित बहुल गांवों में रात बिताने के निर्देश दिए गए हैं।

साथ ही भाजपा ने दलितों की नाराजगी से जुड़ी समस्याओं को समझ कर उन्हें हल करने के उपायों पर भी तेजी से काम करना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने 5 मई तक ग्राम स्वराज अभियान चलाने और दलित बस्तियों में समरसता भोज आयोजित करने निर्देश दिए हैं।

बता दें कि वर्तमान में देश में एससी-एसटी की आबादी 20 करोड़ से ज्यादा है। लोकसभा में इस वर्ग से 131 सांसद हैं। भाजपा के सबसे ज्यादा 67 सांसद इसी वर्ग से हैं। लिहाजा इसे लेकर भाजपा चिंतित और सतर्क है।

यह भी पढ़े  अब ऑनलाइन खरीदारी करेगी सरकार : सुमो

कौन-कौन बुलाए गए

बिहार भाजपा के उपाध्यक्ष एवं कार्यालय प्रभारी देवेश कुमार बताते हैं कि पार्टी ने सभी पदाधिकारियों, सांसद, विधायक, विधान पार्षद, लोकसभा और विधानसभा चुनाव के पूर्व प्रत्याशी, जिलाध्यक्षों, मंच, मोर्चा, विभाग और प्रकल्प के पदाधिकारियों बुलाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here