बिहार के विकास के लिए परिवार नियोजन कार्यक्रम को प्राथमिकता देने की जरूरत :स्वास्य मंत्री

0
33
PATNA HOTEL CHANAKIYA MEIN AYOJIT FAMILY PLANNING PROGRAMME MEIN HEALTH MINISTER MANGAL PANDEY AND OTHER FILE PHOTO

स्वास्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि बिहार के विकास के लिए परिवार नियोजन कार्यक्रम को प्राथमिकता देने की जरूरत है। उन्होंने पुरु षों की भूमिका और जिम्मेदारी को अहम बताते हुए उन्हें गर्भ निरोधन के साधनों को अपनाने की अपील की। उन्होंने अपनी जीवन संगिनी के साथ परस्पर सवांद और साझा जिमेवारी की बात पर जोर दिया। मंत्री ने पुरु षों की भागीदारी के लिए पुरु ष स्वास्य कर्मियों की कमी का उल्लेख किया और विभाग की तरफ से इस पर ध्यान देने को कहा। मंगलवार को सेंटर फॉर कैटेलाइजिंग चेंज द्वारा आयोजित परिवार नियोजन में पुरु षों की साझेदारी के महत्व पर विचार विमर्श के लिए विभिन्न भागीदारों गैर सरकारी संस्थाओं, शिक्षाविद तथा सरकार को एक साथ लाने का प्रयास किया गया। इस मौके पर बिहार विधान परिषद् के कार्यकारी सभापति मोहम्द हारुन राशिद ने नव दम्पति के बीच आपसी संवाद बढ़ाने की बात की जिस से पहले बच्चे के जन्म में देरी की जा सके। उन्होंने शादी के दिन उपहार के रूप में नव दम्पति को गर्भ निरोधक किट देने के प्रचलन को बढ़ाने की बात भी की। अपराजिता गोगोई, कार्यकारी निदेशक, सेंटर फर कैटेलाइजिंग चेंज ने कहा कि पुरु षों की भागीदारी वासेक्टोमी तक सीमित नहीं बल्कि इससे परे है। उन्होंने पुरु ष स्वास्य कर्मियों में परामर्श कौशल बढ़ाने की बात की ताकि वे परिवार नियोजन विषयों पर गुणात्मक तरीके से बात कर सकें। नई दिल्ली से आए अभिजित दास, निदेशक, सेंटर फॉर हेल्थ एंड सोशल जस्टिस ने कहा कि सामाजिक नियम और मान्यताएं पुरु षों को एक साथी की भूमिका नहीं निभाने देते हैं और इससे गर्भ निरोधन का असमान भार महिलाओं पर पड़ता है ।

यह भी पढ़े  सरकार पान की खेती को प्रोत्साहित करेगी : डॉ.प्रेम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here