बिहार के तीन शहरों में JEE MAINS शुरू

0
34

इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए जेईई मेन की ऑफलाइन परीक्षा रविवार को सूबे के पटना, गया और मुजफ्फरपुर सहित देश के 103 शहरों में आयोजित की जा रही है। इसके साथ बहरीन, दुबई, मस्कट, रियाद, शारजाह, कतर और दोहा में भी केंद्र बनाए गए हैं। पटना में 47, गया में 15 तथा मुजफ्फरपुर में 18 केंद्रों पर परीक्षा शुरू हो चुकी है। इसका संचालन केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) कर रहा है।

पटना सहित बिहार के मुजफ्फरपुर व गया के परीक्षा केंद्रों पर सुबह से ही परीक्षार्थियों की भीड़ लगने लगी थी। परीक्षा के दौरान भी केंद्रों के सामने अभिभावक जमे हुए हैं। परीक्षा की पुख्ता और चाक-चौबंद व्यवस्था की गई है। पहली पाली की परीक्षा के लिए केंद्र में सुबह सात बजे से प्रवेश दिया गया। परीक्षा सुबह 9.30 बजे से आरंभ होगी। दूसरी परली की परीक्षा सायं 05.30 बजे तक समाप्‍त होगी।

सीबीएसई की अपील, फर्जी वायरल पेपर से रहें दूर

इस बीच सीबीएसई ने अभ्यर्थियों को आगाह किया है कि वे फर्जी वायरल प्रश्नों पर ध्यान नहीं दें। पुराने तथा फर्जी प्रश्नपत्र वायरल कर अभ्यर्थियों को दिग्भ्रमित करने वालों पर प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। परीक्षा अधिनियम के तहत उन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाएगा। सीबीएसई का कहना है कि असामाजिक तत्वों ने इस साल 10वीं और 12वीं की वार्षिक परीक्षा के दौरान फर्जी प्रश्नपत्र वायरल कर परीक्षार्थियों को भ्रमित कर परेशान किया। जेईई मेन के दौरान असामाजिक तत्वों पर नजर रखने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़े  पटना पुस्तक मेला दिन भर पाठकों से होता रहा गुलजार

विशेषज्ञों की सलाह है कि परीक्षा खत्म होने तक परीक्षार्थी सोशल मीडिया से दूर रहें। मोबाइल का उपयोग आवश्यक होने पर केवल कॉल के लिए करें। आइटी एक्सपर्ट एसके शर्मा के अनुसारसोशल मीडिया पर फर्जी प्रश्नपत्र को वायरल कर कुछ साइटें अपनी व्यूअरशिप बढ़ाती हैं। यह कानूनी तौर पर अपराध है। लेकिन, मॉनीटरिंग सिस्टम लचर होने के कारण यह पकड़ में नहीं आता है।

बॉल प्वाइंट पेन से ही भरना है गोला

अभ्यर्थियों को इस बार केंद्र पर ही काला या नीला बॉल प्वाइंट पेन उपलब्ध कराया गया है। इसी से उन्‍हें ओएमआर शीट का गोला भरना है। दूसरे पेन या पेंसिल से गोला भरने पर रिजल्ट की घोषणा नहीं की जाएगी।

इलेक्ट्रॉनिक गैजेट मिलने पर होगी कार्रवाई

परीक्षा केंद्र पर किसी तरह के इलेक्ट्रॉनिक गजट मिलने की स्थिति में तत्काल बुकलेट और ओएमआर शीट जब्त कर ली जाएगी। उक्त अभ्यर्थी का रिजल्ट घोषित नहीं किया जाएगा। परीक्षा अधिनियम के तहत अभ्यर्थी पर कार्रवाई की जाएगी। प्रत्येक परीक्षा कक्ष में दीवार घड़ी होगी। पानी या अन्य किसी तरह के पेय पदार्थ लाने की मनाही है।

यह भी पढ़े  राज्य में समान शिक्षा प्रणाली लागू करने से ही हो सकता है बड़ा बदलाव, शिक्षकों की कमी दूर करे सरकार

15 और 16 को होगी ऑनलाइन परीक्षा

जेईई मेन की ऑनलाइन परीक्षा 15 और 16 अप्रैल को निर्धारित है। प्रथम और द्वितीय पाली की परीक्षा का शिड्यूल ऑॅफलाइन परीक्षा के अनुसार ही है। ऑनलाइन परीक्षा के लिए सूबे में आठ शहरों में केंद्र बनाए गए हैं। पटना, गया और मुजफ्फरपुर के अतिरिक्त औरंगाबाद, बिहारशरीफ, भागलपुर, दरभंगा और पूर्णिया में भी सेंटर बनाए गए हैं।

परीक्षा की पुख्ता तैयारी

– सीबीएसई ने इस बार प्रश्नपत्रों के सील खोलने की प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए एप तैयार किया है। परीक्षा सेंटर पर प्रश्नपत्र खुलने की प्रक्रिया को लाइव देखा गया। इसकी मुख्यालय से मॉनीटरिंग हुई।

– सीसीटीवी की निगरानी में परीक्षार्थियों के साथ-साथ संचालन में लगे अधिकारी और कर्मी भी रहे। हॉल में शिक्षकों को भी मोबाइल लेकर जाने की अनुमति नहीं दी गई। सभी केंद्रों पर सीसीटीवी की मॉनीटरिंग कंट्रोल रूम से की जा रही है।

– परीक्षार्थियों को मेटल डिटेक्टर से गुजरना पड़ा। (छोटी-छोटी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को पकडऩे के लिए केंद्रों पर पहली बार कई मशीनों का उपयोग किया जा रहा है।

यह भी पढ़े  भरा हर्ष वन के मन, नवोत्कर्ष छाया... सखि, वसंत आया!

– सीबीएसई के अनुसार परीक्षार्थियों को पूरी जांच के बाद ही हॉल में प्रवेश दिया गया है। परीक्षार्थियों को एडमिट कार्ड के साथ एक फोटोयुक्त पहचानपत्र दिखाने पर ही प्रवेश दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here