बिहार कांग्रेस में भूचाल, अशोक चौधरी सहित चार MLC ने छोड़ी पार्टी

0
200

हम के अध्यक्ष जीतनराम मांझी के एनडीए छोड़ने के एलान के बाद अब बिहार कांग्रेस में भूचाल  मचा है। मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के चार विधानपार्षदों ने कांग्रेस छोड़ने का आवेदन दिया है और अब कांग्रेस में फूट की खबर पर मुहर लग जाएगी। पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी के नेतृत्व में कांग्रेस में फूट की खबर आ रही है। 

बिहार में एक और बड़े सियासी उलटफेर की बात सामने आ रही है. बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी गुट ने विधान परिषद में अलग गुट के रूप में मान्यता देने की मांग की है.अशोक चौधरी ने अनुरोध किया है कि परिषद में वो और उनके साथी सदस्य विपक्ष के साथ नहीं बैठना चाहते हैं. अशोक चौधरी के अलावा दिलीप चौधरी, तनवीर अख्तर और रामचंद्र भारती ने विधान परिषद के उपसभापति हारुन रशीद से अलग गुट को मान्यता देने की मांग की है.

अशोक चौधरी समेत चार विधान परिषद के सदस्य जदयू में शामिल हो सकते हैं. परिषद, राज्यसभा और बिहार में उपचुनाव के पहले कांग्रेस के लिए यह बड़ा झटका है. चुनाव में अशोक चौधरी गुट के सदस्य क्रॉस वोटिंग कर सकते हैं.

यह भी पढ़े  सदाकत आश्रम में शत्रुघ्न सिन्हा का कुछ कांग्रेसियों ने किया विरोध

जानकारी के मुताबिक इस संबंध में अशोक चौधरी अपने सरकारी आवास पर साढ़े 8 बजे एक प्रेस कांफ्रेस करेंगे जिसमें वो औपचारिक रुप से ऐलान कर सकते हैं. फिलहाल कांग्रेस के ये सभी एमएलसी अशोक चौधरी के आवास पर मौजूद हैं.

मालूम हो कि पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी पार्टी आलाकमान से नाराज चल रहे हैं. कांग्रेस के ये चारों नेता विधान परिषद के सदस्य हैं. फिलहाल विधान परिषद में कांग्रेस के कुल 6 एमएलसी हैं जिनमें से चार सदस्यों ने अलग गुट के रुप में मान्यता देने की मांग की है. रामचंद्र भारती राज्यपाल द्वारा मनोनीत सदस्य हैं. फिलहाल कांग्रेस के पांच विधान परिषद सदस्यों में अशोक चौधरी, दिलीप चौधरी, तनवीर अख्तर, मदन मोहन झा और राजेश राम हैं.

इससे पहले बुधवार सुबह पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने एनडीए छोड़कर महागठबंधन में शामिल होने का ऐलान कर दिया. इस घोषणा के बाद बिहार की राजनीतिक गरमा गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here