बिहार उपचुनाव परिणाम 2018: दो सीटों पर RJD का कब्जा, BJP के खाते में एक सीट

0
56

बिहार की तीन सीटों पर हुए उपचुनाव में नतीजे आ गए हैं. जहानाबाद से राजद के कुमार कृष्ण मोहन उर्फ सुदय यादव और भभुआ से बीजेपी की रिंकी रानी पांडेय ने जीत हासिल की है. उधर, अररिया लोकसभा सीट से राजद के उम्मीदवार सरफराज आलम ने बीजेपी उम्मीदवार प्रदीप सिंह को हराकर जीत दर्ज की है. सरफराज आलम ने प्रदीप सिंह को लगभग 57 हजार वोटों से पराजित किया है.

बिहार में भभुआ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए 11 मार्च को संपन्न कराये गये उपचुनाव में भाजपा को बड़ी सफलता मिली है. भभुआ सीट पर आज सुबह से जारी मतगणना समाप्‍त हो चुकी है और यहां से भाजपा प्रत्याशी रिंकी रानी पांडेय ने कांग्रेस के शंभू पटेल को लगभग 15 हजार से अधिक मतों से हरा दिया है.

भाजपा की प्रत्याशी रिंकी रानी पांडेय ने भभुआ उपचुनाव में जीत का श्रेय जनता को दिया है. रिंकी पांडेय ने कहा कि पति के अधूरे काम को वो पूरा करेंगी. गौर हो कि बिहार के भभुआ विधानसभा सीट पर बीते रविवार को उपचुनाव हुआ. साल 2015 में हुए बिहार विधानसभा चुनाव में भभुआ सीट से भाजपा के आनंद भूषण पांडे ने जीत हासिल की थी. उनके निधन से यह सीट खाली हुई. इस सीट पर भाजपा ने अपने दिवंगत विधायक आनंदभूषण पांडेय की पत्नी रिंकी रानी पांडेय को प्रत्याशी बनाया था, जबकि कांग्रेस ने इस सीट से शंभु पटेल कांग्रेस को मैदान में उतारा था.

यह भी पढ़े  नियोजित शिक्षकों को हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, समान काम के लिये मिल सकता है समान वेतन

भभुआ सीट को लेकर कांग्रेस पहले तीखे तेवर दिखाये थे. इस सीट पर पहले राजद चुनाव लड़ना चाहती थी, लेकिन कांग्रेस के तेवरों को देखते हुए उसने यह सीट छोड़ दी. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह ने कहा था कि अगर महागठबंधन में कांग्रेस को भभुआ सीट नहीं मिली, तो वो तीनों उपचुनाव क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे. बाद में कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी और तेजस्वी यादव ने बैठक कर तय किया कि यहां से कांग्रेस ही चुनाव लड़े.

भाजपा ने तत्कालीन राजद-जदयू-कांग्रेस महागठबंधन के पक्ष में जनसमर्थन के बीच 2015 में भभुआ विधानसभा सीट पर जीत हासिल की थी. जिले में जन संघ पार्टी से 1969 में चंद्रमौली मिश्र के विधायक बनने के बाद भाजपा को जीत के लिए 46 वर्ष का इंतजार करना पड़ा था. 2015 के विधान सभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी आनंद भूषण पांडेय उर्फ मंटू पांडेय के जीतने पर यहां पहली बार कमल खिला है. भाजपा से चुनाव लड़ने के तीसरे प्रयास में उन्हें सफलता मिली थी. आनंद भूषण पांडेय ने अक्टूबर 2005 से बसपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ना शुरू किया. वर्ष 2010 के चुनाव में वे भाजपा से लड़े, जिसमें उन्हें 400 मत से हार का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और दल ने भी उनमें विश्वास व्यक्त करते हुए 2015 के चुनाव में पुन: उन्हें टिकट देकर चुनाव लड़ने का अवसर प्रदान किया.

यह भी पढ़े  ई-वे बिल से राजस्व में 25 ù तक वृद्धि संभव :उपमुख्यमंत्री

जहानाबाद सीट से RJD के प्रत्याशी कुमार कृष्णा मोहन उर्फ सुदय यादव 35,036 वोट से जीते

बिहार में जहानाबाद विधानसभा निर्वाचन सीट के लिए संपन्न कराये गये उपचुनाव में राजद को बड़ी सफलता मिली है. जहानाबाद सीट से राजद के प्रत्याशी कुमार कृष्णा मोहन उर्फ सुदय यादव 35,036 वोट से जीत गये है. उन्होंने जदयू के अभिराम शर्मा को पराजित किया है. परिणाम आने के साथ ही राजद के कार्यकर्ताओं और समर्थकों में जश्न का माहौल है.

चुनाव परिणाम आने के साथ ही तमाम कयासों विराम लग गया. जहानाबाद विधानसभा उपचुनाव के परिणाम को लेकर हर शख्स को बेसब्री से इंतजार था. किसके सिर होगा विधायक का ताज, इसका फैसला आज हो गया. जनता की अदालत ने 11 मार्च को ही ईवीएम के जरिये अपना संदेश दे दिया था. जहानाबाद सीट के लिए संपन्न कराये गये उपचुनाव में 14 प्रत्याशी ताल ठोक रहे थे, लेकिन कांटे की टक्कर एनडीए और महागठबंधन प्रत्याशी के बीच ही माना जा रहा था. जहानाबाद विधानसभा का चुनाव सरकार के लिए भी चुनौती के तौर माना जा रहा था. प्रचार-प्रसार के दौरान जदयू नेताओं की बड़ी फौज मैदान में उतरकर प्रत्याशी को जीताने के लिए जी-तोड़ प्रयास किया था.

यह भी पढ़े  जांच के दौरान अनावश्यक किसी व्यापारी को तंग नहीं करे अधिकारी : उपमुख्यमंत्री

अररिया लोकसभा सीट से राजद के उम्मीदवार सरफराज आलम ने बीजेपी उम्मीदवार प्रदीप सिंह को 60 हजार वोट से हराकर जीत दर्ज की

बात अररिया की करें तो यहां शुरू से ही राजद प्रत्‍याशी सरफराज आलम और भाजपा प्रत्‍याशी प्रदीप सिंह के बीच कांटे की टक्‍कर बनी रही। कभी राजद प्रत्‍याशी आगे हुए तो कभी भाजपा प्रत्‍याशी। आखिरकार राजद उम्‍मीदवार ने करीब 60 हजार वोट से भाजपा उम्‍मीदवार को पटखनी दे दी।

बता दें कि अररिया लोकसभा सीट राजद सांसद तस्‍लीमुद्दीन, जहानाबाद विधानसभा सीट राजद विधायक मु‍ंद्रिका यादव और भभुआ विधानसभा सीट अानंद भूषण पांडेय के निधन के बाद खाली हुई थी। तीनों सीटों पर उपचुनाव हुआ। उपचुनाव में जहां अररिया लोकसभा क्षेत्र में जहां 57 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया, वहीं भभुआ और जहानाबाद विधानसभा सीटों के लिए कराये गए उपचुनाव में क्रमश: 54.03 फीसदी और 50.06 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here