बिहटा का क्षेत्र नोएडा व गुड़गांव की तरह हो रहा विकसित:मोदी

0
78

भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यम (एमएसएमई) मंत्रालय की ओर से बिहटा के सकिंदरपुर में 15 एकड़ भूखंड पर 130.57 करोड़ की लागत से बनने वाले विश्वस्तरीय टेक्नोलॉजी सेंटर का शिलान्यास और तीन दिवसीय एमएसएमई क्षेत्रीय प्रदर्शनी सह व्यापार मेले और नेशनल एससी-एसटी हब स्टेट कॉन्क्लेव का उद्घाटन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय विभाग के राज्यमंत्री गिरिराज सिंह ने किया। वहीं मौके पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय राज्यमंत्री गिरिराज सिंह, ग्रामीण विकास केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव, उद्योग एवं विज्ञान व प्रावैधिकी राज्य मंत्री जय कुमार सिंह, सांसद आरके सिंह, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के सचिव अरुण कुमार पंडा , सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के अपर सचिव और विकास आयुक्त श्री राम मोहन मिश्रा, उद्योग विभाग बिहार सरकार के प्रधान सचिव केके पाठक ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया।

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जो इवेंट करेगा वही दुनिया पर राज करेगा। भारत चौथी नियंतण्र औद्योगिक क्रांति के दौर से गुजर रहा है। देश में 65 प्रतिशत आबादी 35 साल से कम उम्र के युवाओं की है। यह देश के विकास में बड़ी भूमिका निभा सकती है। इसके अलावा भी भारत में अंग्रेजी बोलने वाले तथा मोबाइल पर इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाली विश्व की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाला देश भारत है। भारत पहली और दूसरी औद्योगिक क्रांति से वंचित रह गया था। तीसरी औद्योगिक क्रांति का भी समुचित लाभ भी नहीं उठा पाया था। लेकिन अब देश चौथी औद्योगिक क्रांति का वाहक बनेगा और इसे नेतृत्व प्रदान करेगा। इस दिशा में हमारी सरकार कार्य कर रही है। देश के युवा इसे चुनौती के रूप में लें। उन्होंने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के बच्चों को बिहार सरकार द्वारा मिल रही सहायता का उल्लेख करते हुए कहा कि बिहार सरकार अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समाज के बच्चों को उद्योग लगाने के लिए 10 लाख रुपये की सहायता उपलब्ध करा रही है। इसमें पांच लाख रुपये का बिना ब्याज का अनुदान और पांच लाख की सहायता राशि जो वापस नहीं ली जायेगी। ट्रेनिंग और परियोजना के अनुश्रवण के लिए भी 25 हजार रुपये की अतिरिक्त सहायता राशि भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि बिहटा का इलाका नोएडा और गुड़गांव जैसा विकसित हो रहा है। बिहार सरकार ने आईआईटी के लिए 500 एकड़ जमीन सहित नाइलेट, एफडीडीआई , एनएसआईटी, हीरो साइकिल, सिटीजन बाइक, एसडीआरएफ, एनडीआरफ, मेडिकल कॉलेज आदि के निर्माण हेतु भी जमीन मुहैया करायी है। राज्य सरकार ने बिहटा में आईटी पार्क के लिए कुल 63 एकड़ जमीन, ब्रिटानिया बिस्कुट के लिए 15 एकड़ जमीन मुहैया करायी है। साथ ही प्रिया गोल्ड बिस्कुट फैक्टरी के लिए भी जमीन मुहैया करायी जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहटा एयरपोर्ट को प्रतिवर्ष 50 लाख यात्री क्षमता वाले नागरिक विमानन सुविधा एयरपोर्ट बनाने की स्वीकृति प्रदान की है। इसके निर्माण के लिए बिहार सरकार द्वारा 126 एकड़ भूमि अधिग्रहीत कर उपलब्ध करायी है।

यह भी पढ़े  सत्यपाल मलिक बने बिहार के नये राज्यपाल

वहीं भारत सरकार ने पटना से बिहटा को जोड़ने के लिए एलिवेटेड रोड की स्वीकृति भी प्रदान की है। इसके निर्माण से पटना से बिहटा की दूरी अब 30-35 मिनट में पूरी हो जायेगी। आजादी के बाद देश में केवल 17 क्लस्टर खुले, नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में 94 क्लास्टर खुले।

वहीं केंद्रीय राज्यमंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार का संकल्प है कि देश के युवा रोजगार पाने के साथ रोजगार देने वाले भी बनें। केंद्र और राज्य में एनडीए की सरकार है। ऐसे में डबल इंजन की सरकार में ही यह संभव हुआ है कि बिहार सरकार मुफ्त में 15 एकड़ भूमि मुहैया कार्रवाई तो केंद्र ने इसमें 130 करोड़ रुपये के निवेश का आदेश दे डाला। इस सेंटर में इस रुपये से हाईटेक भवन निर्माण होगा और अत्याधुनिक मशीनों की खरीद की जायेगी। सेंटर के शुरू होने पर प्रतिवर्ष करीब 8500 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जायेगा। इससे प्रशिक्षित युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार के उद्योग विभाग की मांग पर प्रदेश के पांच पॉलिटेक्निक कॉलेजों के छात्र-छात्राओं को उनका मंत्रालय प्रशिक्षित करने के लिए तैयार है। इसके लिए उन्होंने प्रदेश सरकार के अधिकारियों को मसौदा तैयार करने का निर्देश दिया और कहा कि इसका एमओयू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एमएसएमई व एससी-एसटी के उभरते व पुराने उद्यमियों के लिए बेहतरीन योजना तैयार की है। इसमें पंजीकरण, उत्पादन, वित्त व्यवस्था से लेकर बेचने तक प्रोत्साहन की व्यवस्था है। आजादी के बाद से कभी ऐसा नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि देश में आज 12 हजार करोड़ रोजगार 70 फीसदी नौजवानों के हाथ में है। आज देश में 18 लाख नव उद्यमी खड़े हुए हैं और यह आंकड़ा आरबीआई के पोर्टल पर उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि केवल एमएसएमई ने पिछले चार सालों के दौरान करीब दो करोड़ लोगों को रोजगार दिया है।

यह भी पढ़े  युवा जदयू पटना प्रमंडल के प्रभारी बने सुशील कुमार

वहीं उद्योग एवं विज्ञान व प्रावैधिकी राज्य मंत्री जय कुमार सिंह ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार हमेशा से लघु उद्यमियों के साथ डट कर खड़ी है। युवा सरकार की योजनाओं का लाभ उठाकर उद्योग को बढ़ायें। लघु उद्योगों की प्रगति के लिए आवश्यक सभी मूलभूत सुविधाएं, बाजार, निवेश तथा आर्थिक सहायता जैसे विषयों पर सरकार बड़े पैमाने पर सहायता उपलब्ध करने को तैयार है । सरकार की योजनाओं में शामिल लघु उद्योगों का लाभ लेकर अपने उद्योग और व्यवसाय में बढ़ोतरी करें।

इस मौके पर सांसद आरके सिंह सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के सचिव अरुण कुमार पंडा ,सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के अपर सचिव और विकास आयुक्त श्री राम मोहन मिश्रा, बिहार सरकार के उद्योग विभाग के प्रधान सचिव केके पाठक आदि ने सेंटर पर विस्तार पूर्वक र्चचा करते हुए कहा कि तकनीकी में रुचि रखने वाले छात्र-छात्राओं तथा उद्योगों को तकनीकी सहायता में काफी मददगार साबित होगा।

यह भी पढ़े  अभय ने दिलाया बिहार को स्वर्ण

इस अवसर पर भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष रंजन, जिलाध्यक्ष आशुतोष कुमार, प्रखंड प्रमुख मानती देवी, पूर्व विधायक संजय कुमार, अनिल कुमार, श्रीकांत निराला, नवींन कुमार, विजय सिह यादव, रामवीरेंद्र सिंह, ओम प्रकाश सिंह, राजेश कुमार श्रीकांत पांडेय सहित कई गणमान्य लोग शामिल थे। वहीं बिहटा प्रखण्ड के भिन्न-भिन्न मौजा में सरकार की विभिन्न परियोजनाओं, मेगा औद्योगिक पार्क आदि करीब 2300 एकड़ भूमि बिकास के नाम पर ली गयी परंतु अधिग्रहण के बाद उचित मुआवजा नहीं मिला। इसको लेकर किसानों के दल ने एक ज्ञापन सौंप उचित मुआवजा की मांग करते हुए कहा कि अगर सरकार उनकी मांग पर विचार नहीं करती तो इस सेंटर का निर्माण पर रोक लगाएंगे।
वहीं किसानों ने केंद्रीय राज्य मंत्री रामकृपाल यादव से कहा कि कि जमीन हमारी माता समान है और हम लोगों ने हंसते हुए अपनी माता समान जमीन को दे दिया और आज के दौर में जमीन जाने के बाद बेरोजगार हो गए हैं। वही सरकार हमलोगों की बेरोजगारी की समस्या दूर करने में विफल साबित हो रही है। वहीं उन लोगों ने कहा कि सरकार निर्माण के साथ बेरोजगार किसानों को रोजगार की व्यवस्था जल्द करे नहीं तो निर्माण कार्य को बंद करवा देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here