बाढ़ के भवर में फस रहे बिहार पर आज सीएम नीतीश कुमार कर सकते हैं उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक

0
86

बिहार में जारी बाढ़ के कहर के बीच रविवार को सीएम नीतीश कुमार उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक कर सकते हैं. जानकारी के मुताबिक ये बैठक आज शाम सीएम नीतीश अपने आवास 1 अणे मार्ग में हो सकती है. इससे पहले सूबे के जल संसाधन मंत्री बाढ़ के हालात की जानकारी पल-पल ले रहे हैं. बिहटा से NDRF की एक टीम दरभंगा रवाना की गई है.

जल संसाधन मंत्री संजय झा ने बताया कि बाढ़ और बारिश की जानकारी हर पल ली जा रही है. साथ ही अधिकारियों को किसी तरह की कोताही नहीं बरतने का निर्देश दिया गया है. मंत्री ने कहा कि नेपाल में लगातार हो रही बारिश से हालात खराब हुए हैं. मालूम हो कि बिहार में बाढ़ से अभी तक पांच लोगों के मौत की खबर है लेकिन आधिकारिक पुष्टि दो की ही हो सकी है.

सुपौल, सहरसा, अररिया, किशनगंज, कटिहार, भागलपुर व पूर्णिया जिलों के 13 प्रखंडों सहित दर्जनों गांव जिला मुख्यालय से कटे
बिहार में आफत की बारिश ने सुपौल, सहरसा, अररिया, किशनगंज, कटिहार, भागलपुर व पूर्णिया जिले के 13 प्रखंडों सहित दर्जनों गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क भंग कर दिया है। बाढ़ में डूबने के कारण अब तक तीन बच्चे समेत 9 लोगों की मौत होने की बात भी सामने आ रही है। कमला, अघवासमूह की नदियां, बागमति, बलान, महानंदा ऊफान पर और खतरे के निशान से उपर बह रही है। इसके साथ कोशी अभी खतरे के निशान से 70 सेंटीमीटर वृद्धि की संभावना। उत्तर बिहार की सभी नदियां ऊफान पर है। अररिया-गललिया एनएच 327 ई पर भी आवागमन पूरी तरह से ठप हो गया है। अररिया के कुर्साकांटा, सिकटी, पलासी, जोकीहाट व अररिया प्रखंड के एक दर्जन से अधिक पंचायतों का संपर्क जिला मुख्यालय से शनिवार की दोपहर तक ठप हो गया। इन प्रखंडों के दर्जनों पंचायतों का प्रखंड मुख्यालय से संपर्क भंग हो गया है। कई गांव चारों तरफ पानी फैल जाने के कारण टापू में तब्दील हो गये हैं। फारबिसगंज अनुमंडल की एक दर्जन से अधिक पंचायतों का भी फारबिसगंज अनुमंडल से संपर्क भंग हो गया है। अचानक आयी आफत की बारिश ने प्रशासन व पीड़ितों को संभलने का मौका नहीं दिया। फटकी चौक से कांशीबाड़ी जाने वाली सड़क को जोड़ने वाली सड़क मदरसा के पास कट जाने से आवाजाही में परेशानी हो रही है। जोकीहाट के पूर्वी छोर पर बने थाकी बांध भी सोंहदर के समीप टूट जाने की सूचना है। कुर्साकांटा, सिकटी, पलासी प्रखंड व अररिया प्रखंड के एक दर्जन पंचायतों की अंतिम आस बैरगाछी-कुआड़ी पथ पर रामपुर बोची के पास बन रहे पुल के बगल में डायवर्सन भी पानी के तेज दबाव के कारण ध्वस्त हो गया। इधर अररिया-गलगलिया एचनएच 327 ई पर भंगिया व बोरिया डायवर्सन के ऊपर पानी चल रहा है। एबीएम-सिकटी पथ भी पूरी तरह से ठप हो गया है। मदनपुर बाजार में पांच फीट से अधिक पानी बह रहा है़ किसी भी समय दोनों डायवर्सन ध्वस्त हो सकता है। इस वजह से केसर्रा पंचायत के जहानपुर, सतघरा, तरबी पंचायत के डुमरिया, धुरगांव, हरदार, कजलेटा, बाराइंस्तबरार, काकन पार, फरसाडांगी, सतबीटा, भंसिया, चौकता इसरवा सहित अन्य क्षेत्रों में बाढ़ का पानी तेजी से फैलता जा रहा है। सुपौल के कुनौली समेत कई स्थानों पर खारो व तिलयुगा नदी तांडव मचा रही है़ बाढ़ से लगभग हजारों एकड़ में लगी धान की फसल डूब गया है। वहीं दूसरी ओर लोग कमर भर पानी में बाढ़ के पानी में पार कर लोग कुनौली बाजार जैसे-तैसे आते जाते हैं। बाढ़ का पानी पश्चिमी कोशी तटबंध कार्यालय, कुनौली कोशी प्रोजेक्ट, एसएसबी र्केप कुनौली, जागेश्वर उच्च विद्यालय, कमलपुर, डगमारा सहित कई क्षेत्र में घुस गया है। एसएसबी कैंप सहित डाकघर, भंसार, स्कूल आदि स्थानों का मार्ग अस्त-व्यस्त हो गया है। पानी का दबाव बढ़ता ही जा रहा है, वहीं निर्मली-कुनौली पथ के तिलयुगा नदी के लोहे पुल के पास बना डायवर्सन पानी में डूब चुका है। कोसी तटबंध के स्पर संख्या 16. 98 के समीप कोशी की तेज धारा में आने से एक नाव डूब गयी। हालांकि सभी लोग सकुशल बाहर निकल गये।

यह भी पढ़े  किसान आसमानी और सुलतानी आपदाओं से ग्रस्त हैं ,देश की जनता हिसाब खोज रही है :रघुवंश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here