बाजे-गाजे के साथ भव्य झांकी के साथ रानी झांसी बाई जयंती मनायी गई

0
306
RAN LAXMI BAI KI JAYANTI KE MAUKA PER SHOBHA YATRA

पटना – मां जानकी मिथिला पुनर्जागरण समिति के तत्वाधान में पटना गांधी मैदान के पास स्थित जेपी मूर्ति से रानी झांसी बाई अपने सिपहसालारों के साथ घोड़े पर सवार होकर बाजे-गाजे के साथ भव्य झांकी स्वरूप पारम्परिक वेश-भूषा में डाक बंगला चौराहा विद्यापति भवन तक निकाली गई ।

इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्रीय सम्पर्क प्रमुख अनिल ठाकुर, केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री रामकृपाल यादव, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव , राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष दिलमनी देवी, सदस्य डॉ. उषा विद्यार्थी, नीलम सहनी, पटना की महापौर सीता साहू, कुम्हरार विधायक अरुण कुमार सिन्हा, विधान पार्षद डॉ. सूरजनंदन कुशवाहा, बिहार सरकार के पूर्व मंत्री सुखदा पाण्डेय, बाल संरक्षण आयोग की पूर्व अध्यक्षा श्रीमती निशा झा उपस्थित थे।

पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा कि पुरु षों की तो बहुत जयंती मनायी जाती है लेकिन महिलाओं की जयंती वह भी महारानी लक्ष्मी बाई जैसी वीरांगना की जयंती मनाना अपने आप में बहुत सौभाग्य की बात है। श्री यादव आज रानी लक्ष्मीबाई के सम्मान में मां जानकी मिथिला पुनर्जागरण समिति के बैनर तले विद्यापति भवन में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

यह भी पढ़े  अपनी संस्कृतियों को बचाना जरूरी:मंत्री विनोद नारायण झा

केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री रामकृपाल यादव ने कहा कि हमारा देश वीरांगनाओं का देश है। इस देश ने एक से बढ़कर एक वीरांगना दिया है जिनमें से रानी लक्ष्मी बाई को हम सर्वोच्च मानते हैं। स्वास्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम इसी परिप्रेक्ष्य में है कि बेटियां पढ़ेंगी तो ही आगे चलकर उनमें से कोई रानी लक्ष्मी बाई की तरह इस देश को दुश्मनों से बचाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकेंगी ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मां जानकी मिथिला पुनर्जागरण समिति के संरक्षक अध्यक्ष मृत्युंजय झा ने कहा कि जानकी सेना अभी लक्ष्मी बाई की जयंती मना रही है और यह सिर्फ एक शुरुआत है । जानकी सेना इस देश की ऐसी और वीरांगनाओं और वीर योद्धाओं की जयंती और पुण्यतिथि के कार्यक्रम भव्य स्तर पर आगे भी आयोजित करती रहेगी ।

इस अवसर पर बिहार के विभिन्न जिलों से चयनित 11 महिलाओं को रानी झांसी लक्ष्मी बाई वीरता सम्मान से सम्मानित भी किया गया। सम्मानित की गयी महिलाओं में संध्या सिंह, रितू जयसवाल, प्रियंबदा भारती, शादिया-आफरीन, साबिया परवीण, निर्मला कुमारी, जया देवी, पूनम चौरसिया शामिल हैं।

यह भी पढ़े  पद्मावत फिल्म पर बैन नहीं, सिनमाघरों को सरकार देगी सुरक्षा

इस कार्यक्रम में आयोजन समिति के सभी सदस्यों के साथ-साथ राकेश सिंह सोनू को भी साहसी महिलाओं की खोज के लिए सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की संयोजिका एवं मंच संचालन श्रीमती सजल झा ने किया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में मुख्य रूप से प्रदेश प्रवक्ता एवं मीडिया प्रभारी आनंद पाठक, योगेन्द्र शर्मा, वरुण कुमार सिंह, अचल सिन्हा, राजेश कुमार झा उर्फ राजू झा, शैलेश महाजन, राजीव उपाध्याय, रविन्द्र सिंह, दिलीप मिश्रा, अनामिका शंकर, कोमल चौधरी, प्रकाश पाण्डेय, सीमा सिंह, अर्चना ठाकुर, रूपम सिंह, प्रदीप यादव, राजकुमार सहनी, सुजीत मिश्रा, विजय शंकर मिश्रा, मनीष पोद्दार, अंजनी निषाद एवं अनिल दूबे का योगदान रहा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here