बस में भीषण आग, कई के झुलसकर मरने की आशंका

0
53

पूर्वी चंपारण जिले के कोटवा थाना क्षेत्र में बृहस्पतिवार की शाम मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही एक लग्जरी बस अनियंत्रित होकर पलट गयी, जिससे उसमें आग लग जाने से कई यात्रियों के झुलस कर मौत होने की आशंका जतायी गयी है। बस बृहस्पतिवार को मुजफ्फरपुर से दिल्ली के लिए चली थी। ग्रामीणों के अनुसार राज ट्रेवल्स नामक बस काफी तेज रफ्तार में थी और अनियंत्रित होकर सड़क किनारे गड्ढे में गिर गई। इसके बाद डीजल का रिसाव होने लगा, जिससे बस में आग लग गयी।पुलिस कप्तान उपेंद्र कुमार शर्मा ने हादसे में एक भी व्यक्ति की मरने की पुष्टि नहीं की है। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन बुकिंग के आधार पर 13 यात्री मुजफ्फरपुर से सवार होकर दिल्ली के लिए जा रहे थे। एसपी ने बताया कि 12 यात्रियों से बातचीत हुई है, जिनमें आठ लोग घायल हैं। उनका इलाज सदर अस्पताल में कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक एक भी यात्री का शव बरामद नहीं हुआ है। आशंकाओं को दूर करने के लिए फॉरेंसिक टीम जांच में जुटी हुई है। जांच के बाद ही स्पष्ट होगा कि कितने लोगों की मौत हुई है या नहीं। एसपी ने कहा कि मुजफ्फरपुर बसस्टैंड के बुकिंग इंचार्ज की तलाश की जा रही है ताकि यह जानकारी मिल सके कि कितने लोग बस में सवार थे। ़उधर, आपदा प्रबंधन विभाग ने इस हादसे में किसी भी यात्री की मौत होने की पुष्टि नहीं की है। विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि आग बुझाये जाने के बाद जब बस के मलवे की जांच शुरू की गयी, तब उसमें किसी के भी शव नहीं मिले हैं। उन्होंने बताया कि 13 यात्री मुजफ्फरपुर से बस पर सवार हुए थे, जबकि 27 यात्रियों को गोपालगंज से बस पर सवार होना था, लेकिन इससे पहले ही दुर्घटना हो गयी।

बैरिया बस पड़ाव में एक काउंटर का कर्मचारी फरार, दूसरे से एक को लिया हिरासत में

यह भी पढ़े  नीतीश ने दिये गोपालगंज चीनी मिल हादसे की जांच के आदेश राज्यपाल ने जताया दुख

साहिल राज डेली बस सर्विस की मुजफ्फरपुर- दिल्ली बस के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद प्रशासन एवं पुलिस अधिकारी बैरिया स्थित एजेंसी के काउंटर पर जानकारी लेने पहुंचे। वहां इस बस सेवा के दो काउंटर चलते हैं। पड़ाव के अंदर वाले काउंटर से कर्मी फरार मिले। पड़ाव के प्रवेश द्वार स्थित काउंटर से रजिस्टर एवं टिकट की संख्या में मिलान नहीं होने पर अहियापुर पुलिस ने एक कर्मी को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने रजिस्टर एवं टिकट की अधकट्टी भी जब्त कर ली। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बस यात्रियों से भरी हुई थी। रवाना होने से पूर्व पेट्रोल पंप पर करीब 150 लीटर डीजल ंलिया गया। ओएसडी मणिभूषण, वरीय उप समाहर्ता अवधेश कुमार राणा काउंटर पर पहुंचे। वे बस से सवार लोगों की संख्या जानने की कोशिश में लगे रहे। मगर कर्मियों के फरार होने से जानकारी नहीं मिल सकी। बोर्ड पर दिए मोबाइल नंबरों पर कॉल कर जानकारी लेने की कोशिश की गई, मगर रिसीव करने वाले ने खुद को कर्मी होने से इन्कार कर दिया। अधिकारियों ने कहा कि बस में सवारों की संख्या नहीं मिल सकी। अब तक कोई परिजन भी सामने नहीं आए हैं।

यह भी पढ़े  बोरिंग रोड पार्किग को कराया गया अतिक्रमणमुक्त

सरोज व हरि के जिम्मे दो काउंटर : बस सेवा के दो काउंटर दो कर्मियों के हवाले रहता है। उनकी मदद के लिए कई एजेंट भी हैं। एक काउंटर पर सरोज सिंह एवं दूसरे पर हरि सिंह की जिम्मेदारी की बात स्थानीय लोगों ने कही। पुलिस ने सरोज को हिरासत में ले लिया है। पूछताछ हो रही है।

बुकिंग में गड़बड़ी की आशंका, रजिस्टर व टिकट में अंतर : बस में यात्रियों की बुकिंग शक के घेरे में है। जब्त रजिस्टर एवं टिकट में अंतर सामने आया है। एक प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार बस यात्रियों से भरी हुई थी। बस यूपी की है। ऑनर दिल्ली के हैं।

लंबी दूरी में लगातार बस चलाने से थक जाते चालक : दिल्ली बस सेवा में चालकों का बुरा हाल होता है। लगातार ड्राइविंग से वो थक जाते हैं। हालांकि बस में दो चालक होते हैं। दोनों आपस में तालमेल कर ड्राइविंग करते हैं। जानकारों की माने तो नियमानुसार हर छह घंटे पर ड्राइवर बदलना है, मगर अधिकतर बसों में ऐसा नहीं होता।

यह भी पढ़े  गंगा में डूबने से दो छात्रों की मौत

भारी बारिश के बीच रुक-रुक कर चलता रहा बचाव कार्य : राष्ट्रीय राज्य मार्ग स्थित कोटवा थाना क्षेत्र के बंगरा के पास हुए बस हादसे के बाद प्रशासनिक अधिकारियों के पहुंचना शुरू हो गया। जो जहां था वहीं से घटनास्थल की हो भागा। राधाकृष्णन भवन में आयोजित अधिकारियों की बैठक छोड़ डीएम रमण कुमार व एसपी उपेंद्र कुमार शर्मा भी रवाना हुए। इस बीच कोटवा थाना की पुलिस, अंचलाधिकारी व ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंचे तब तक आग विकराल रूप धारण कर चुकी थी। प्रशासनिक स्तर से क्रेन, जेसीबी आदि की व्यवस्था कर बस को निकालने का काम शुरू किया गया। इस बीच बारिश शुरू हो गई। बारिश के कारण राहत व बचाव कार्य में अधिकारियों को परेशानी हो रही थी, क्योंकि घटनास्थल के समीप छिपने के लिए कुछ भी नहीं था। सब भींग रहे थे। इस बीच क्रेन के सहारे बस को निकाला गया और जेसीबी के सहयोग से उसे सीधा किया गया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here