बड़े भाई की भूमिका बखूबी निभा रही भाजपा

0
39

भारतीय जनता पार्टी ने नीतीश कुमार की अगुवाई वाले अपने सहयोगी जदयू के उम्मीदवार को जिीतने के लिए एड़ी चोटी एक कर दी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत प्रदेश के सभी वरिष्ठ नेताओं ने सारी ताकत अपने सहयोगी दलों के लिए झोंक दी है। केन्द्रीय स्तर पर हो रहे इस चुनाव में भाजपा बड़े भाई की तरह जदयू के लिए बड़ा दिल दिखा रही है।भाजपा के केन्द्रीय नेतृत्व का मकसद है कि अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के साथ सहयोगी दलों को सहयोग करने में कोई कसर नहीं रह जाए। दूसरे चरण के जिन पांच सीटों किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, बांका व भागलपुर में चुनाव होने जा रहा है उन सभी पर जदयू के उम्मीदवार भाग्य आजमा रहे हैं। 18 अप्रैल को इन पांचों सीटों पर मतदान होना है। भाजपा अपने सहयोगी जदयू को कितना अधिक महत्व दे रही है इसका अंदजा इसी से लगाया जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुद 11 अप्रैल को भागलपुर में जदयू उम्मीदवार अजय मंडल के पक्ष में प्रचार कर चुके हैं। इसके पहले प्रधानमंत्री ने दो अप्रैल को गया में जदयू उम्मीदवार विजय कुमार मांझी के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित किया था। भाजपा का केन्द्रीय नेतृत्व चाहता तो वह गया से सटे औरंगाबाद से अपने उम्मीदवार सुशील कुमार सिंह के लिए चुनावी सभा का आयोजन कर सकता था, किंतु भाजपा ने बड़े भाई की तरह सहयोगी दलों के लिए अपना बड़ा दिल दिखाया। जदयू ही नहीं, सहयोगी लोजपा के लिए भी दो अप्रैल को जमुई में प्रधानमंत्री ने सभा को संबोधित किया था। जमुई में रामविलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान के भाग्य का फैसला होना है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अलावा उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी अपने सहयोगी जदयू व लोजपा के चुनाव प्रचार के लिए एड़ी चोटी एक कर दिये हैं। चूंकि दूसरे चरण की पांचों सीटों पर जदयू के उम्मीदवार ही खड़े हैं। इसलिए भाजपा नेता जदयू उम्मीदवार के चुनाव प्रचार में युद्ध स्तर पर जुटे हुए हैं। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी बांका, कटिहार, किशनगंज व भागलपुर में चुनाव प्रचार कर चुके हैं। बांका में जदयू उम्मीदवार के साथ मजबूती से खड़े रहने का संदेश देने के लिए भाजपा ने यहां अपनी वरिष्ठ नेता पुतुल सिंह को निलंबित कर दिया है। पुतुल सिंह पार्टी के फैसले के विरोध में यहां जदयू उम्मीदवार के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ रहीं हैं। इधर, भाजपा ने बांका में जदयू को जिताने के लिए सारी ताकत झोंक दी है। भाजपा के वरिष्ठ नेता व केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह भी बांका आकर जदयू उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार कर चुके हैं। महत्वपूर्ण है कि दूसरे चरण की इन सभी पांच सीटों किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, बांका व भागलपुर से पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा हारी थी। इस बार सीट बंटवारे में ये सभी सीटें जदयू के हिस्से चली गई हैं। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि हारी हुई सीटों पर जीतने की संभावना प्रबल होती है। इस दृष्टिकोण से इन पांचों सीटों पर जदयू को एववांटेज मिल सकता है।

यह भी पढ़े  राज्य के पांच नगर निकायों में वोटिंग जारी , 11 नगर निकायों के 11 वार्ड में उप चुनाव 24 जून को

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here