बच्चों को रोगमुक्त करने में मिशन इन्द्रधनुष अहम :स्वास्य मंत्री

0
109
Patna-Jan.17,2018-Bihar Health Minister Mangal Pandey is lighting the lamp to inaugurating one day orientation workshop at Soochna Bhawan in Patna.

मिशन इंद्रधनुष, कुष्ठ उन्मूलन, मिशन परिवार विकास और यक्ष्मा (टीबी) विषय पर उन्मुखीकरण कार्यशाला 
पटना :सूबे के स्वास्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने बुधवार को कहा कि प्रदेश में बच्चों को रोगमुक्त करने के लिए इन्द्रधनुष योजना के तहत नौ प्रकार के टीके दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 90 फीसदी तक टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है पर जिस तरह से प्रयास हो रहा है उसे देखते हुए कहा जा सकता है कि हम 90 फीसदी से आगे जाएंगे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2025 तक यक्ष्मा (टीबी) का उन्मूलन किया जाना है। सूचना भवन, पटना में क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय (डीएफपी), सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा विशेष विस्तार कार्यक्रम (एसओपी) के तहत मिशन इंद्रधनुष, कुष्ठ उन्मूलन, मिशन परिवार विकास एवं यक्ष्मा (टीबी) विषय पर राज्यस्तरीय एकदिवसीय उन्मुखीकरण कार्यशाला के दौरान मुख्य अतिथि तथा उद्घाटनकर्ता राज्य के स्वास्य मंत्री मंगल पांडे ने यह बात कही।उन्होंने कहा कि टीकाकरण से संबंधित मिशन इंद्रधनुष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संकल्पना है जिसका मुख्य उद्देश्य देश के सभी बच्चों को रोगमुक्त कर स्वस्थ भारत का निर्माण करना है। उन्होंने कहा कि राज्य के 16 जिलों में इस अभियान के तहत सघन टीकाकरण किया जा रहा है तथा वर्तमान में मिशन इंद्रधनुष का तीसरा चरण चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने इस वर्ष राज्य के 90 प्रतिशत से अधिक बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा है। इसी क्रम में फरवरी में इस अभियान का चौथा चरण चलाया जाना प्रस्तावित है। श्री पांडे ने बताया कि राज्य सरकार लगातार टीबी तथा कुष्ठ उन्मूलन के लिए भी प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि 2025 तक टीबी मुक्त करने का जो लक्ष्य रखा गया है, उसे प्राप्त करने का हम भरसक प्रयास कर रहे हैं। स्वास्य मंत्री श्री पांडे ने स्वास्य संबंधी मसलों पर राज्य के लोगों को जागरूक करने के क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय (डीएफपी) के प्रयास की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे प्रयासों से ही स्वस्थ भारत की कल्पना साकार हो सकती है। स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है कि लोग रोग तथा उसके निदान के बारे में पर्याप्त जानकारी रखें। कार्यक्रम में डीएफपी के निदेशक विजय कुमार, पीआईबी के निदेशक, दिनेश कुमार, सहायक निदेशक संजय कुमार व भुवन कुमार, डीएवीपी के मनीश कुमार तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के विभिन्न मीडिया इकाइयों दूरदर्शन, आकाशवाणी के संयुक्त निदेशक (समाचार) राजेंद्र उपाध्याय, सहायक निदेशक रामेश्वर नायक व गीत एवं नाटक प्रभाग और राज्य स्वास्य समिति, बिहार के अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे। कार्यशाला को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय के निदेशक विजय कुमार ने कहा कि इस वित्तीय वर्ष में जागरूकता संबंधी विशेष जागरूकता कार्यक्रम के तहत राज्य में कुल 20 कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे जिसके पहले चरण में चार जिलों को शामिल किया गया है। उन्होंने बताया कि विशेष जागरूकता कार्यक्रम के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर तथा स्वास्य मेला का आयोजन किया जाएगा जिसमें लोगों को मिशन इंद्रधनुष, कुष्ठ उन्मूलन, मिान परिवार विकास एवं यक्ष्मा (टीबी) विषय पर विस्तृत जानकारी दी जाएगी।। इस दौरान संबंधित सिविल सर्जन तथा राज्य स्वास्य समिति के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की मदद से लोगों में स्वास्य संबंधी सूचनाओं का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। कार्यशाला को राज्य स्वास्य समिति, बिहार विजय सहाय, विजय पांडे सहित अन्य विशेषज्ञों ने भी कार्यक्रम में मौजूद क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय के क्षेत्रीय पदाधिकारियों को टीकाकरण विशेष तौर पर मिशन इंद्रधनुष, कुष्ठ उन्मूलन, मिशन परिवार विकास एवं यक्ष्मा (टीबी) आदि विषयों की जानकारी दी।

यह भी पढ़े  सातवे दिन माता की अर्चना और आराधना के साथ पंडालों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here