बक्‍सर डीएम के ओएसडी ने की आत्महत्या

0
79

बिहार के बक्सर में जिलाधिकारी (डीएम) के विशेष कार्य पदाधिकारी (ओएसडी) ने सुसाइड कर ली है। रविवार की सुबह अावास पर फंदे से लटकता उनका शव मिला। कहा जा रहा है कि उन्‍होंने सुसाइड नोट भी छोड़ा है। विदित हो कि कुछ समय पहले बक्‍सर के तत्‍कालीन डीएम ने भी ट्रेन से कटकर जान दे दी थी।

जानकारी के अनुसार बक्‍सर डीएम अरविंद कुमार वर्मा के ओएसडी तौकीर अकरम ने फांसी लगाकर सुसाइड कर ली है। घटना देर रात की बताई जा रही है। मृतक बक्‍सर के जिला भूअर्जन पदाधिकारी भी थे। वे कल रात पटना में किसी मीटिंग में शामिल होने के बाद बक्सर लौटे थे।

बताया जाता है कि तौकीर अकरम देर रात अपने बेड रूम में गए। उसके बाद उन्‍होंने पंखे से लटककर जान दे दी। वे घर में अपने माता-पिता के साथ रहते थे। उनकी मां बीमार रहती थीं, जिनके इलाज के लिए उनके पास पैसे नहीं थे। उनकी पत्‍नी इन दिनों मायके गईं थीं।

यह भी पढ़े  बिहार: TET 2017 का संशोधित रिजल्‍ट जारी, 8349 परीक्षार्थी हुए सफल,

तौकीर की मां के अनुसार उन्‍हें लंबे समय से वेतन नहीं मिला था, जिससे वे परेशान थे। वे अपना स्‍थानांतरण भी चाहते थे। चर्चा है कि घटना के पीछे कार्यालय कारणों से उपजा तनाव था। हालांकि, प्रशासन फिलहाल इसकी पुष्टि नहीं कर रहा। डीएम ने केवल आधा वेतन बंद होने की बात स्‍वीकार की है।

तौकीर अकरम बक्‍सर में करीब ढ़ाई साल से थे। सीनियर डिप्‍टी कलेक्‍टर होने के नाते उन्‍हें अहम जिम्‍मेदारियां दी गईं थी। वे बीते अगस्‍त महीने में ट्रेन से कटकर सुसाइड करने वाले तत्‍कालीन डीएम मुकेश पांडेय के ओएसडी भी रहे थे। वर्तमान जिलाधिकरी अरविंद कुमार वर्मा ने बताया कि तौकीर हंसमुख स्‍वभाव के थे। वे ऐसा कर कर सकते हैं, इसकी उम्‍मीद नहीं थी।

तौकीर अकरम तौकीर के जिम्मे जिला भू-अर्जन पदाधिकारी का भी प्रभार था. वे चर्चित और मिलनसार अधिकारी थे. घटना के वक्त उनके घर में उनकी मां और पिता थे. उनकी पत्नी पिछले आठ दिनों से मायके गयी हुई हैं. परिवार वालों के मुताबिक वे शनिवार की रात को ही पटना में किसी मीटिंग में शामिल होने के बाद बक्सर लौटे थे. घटना के कारणों का फिलहाल सही रूप से पता नहीं चल सका है, लेकिन कुछ लोगों के मुताबिक वे अपने ट्रांसफर पोस्टिंग को लेकर कुछ दिनों से परेशान थे.

यह भी पढ़े  2005 से अब तक बिहार में बाढ़ से 4 हजार लोग और 42 हजार पशु मरे : मोदी

घटना के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल सका है. पुलिस अधिकारी मामले की पड़ताल में जुट गयी है. बिहार के बक्सर में तीन महीने के दौरान दूसरी बार जिले के एक वरीय अधिकारी ने आत्महत्या कर ली. तौकीर बक्सर के पूर्व डीएम मुकेश कुमार जिन्होंने कुछ दिन पहले ही दिल्ली में खुदकुशी थी के भी ओएसडी रह चुके थे. बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी मोहम्मद तौकीर अकरम जिले में डिप्टी कलेक्टर रैंक के अधिकारी थे. इसी साल 10 अगस्त को बक्सर डीएम मुकेश पांडेय ने दिल्ली (एनसीआर) में आत्महत्या कर ली थी. उनका शव गाजियाबाद रेल पुलिस ने बरामद की थी. मुकेश पांडेय 2012 बैच के आइएएस अफसर थे और बिहार के ही रहनेवाले हैं.

गोकुल ग्राम का शिलान्यास कार्यक्रम रद्द
बक्सर डीएम के ओएसडी के खुदकुशी करने के मामले को लेकर डुमरांव में गोकुल ग्राम का शिलान्यास कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है. केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह आज इसका शिलान्यास करने वाले थे. केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे भी इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले थे. उन्होंने ओएसडी के खुदकुशी मामले पर दुख जताते हुए कहा कि वे पीड़ित परिवार से मिलने बक्सर जायेंगे. वहीं ओएसडी के सुसाइड मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए राजद सुप्रीमो लालू यादव ने इसे दुखद करार दिया और इसके लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

यह भी पढ़े  यूपीएससी परीक्षा में हैदराबाद के अनुदीप बने टॉपर ,बिहार के अतुल प्रकाश को 4th रैंक

पुलिस ने घटना का अनुसंधान आरंभ कर दिया है। पुलिस कार्यालय व पारिवारिक सहित अन्‍य संभावित कारणों की पड़ताल में जुट गई है। हालांकि, सुसाइड नोट को लेकर पुलिस फिलहाल चुप है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here