फिजियोथेरैपिस्टों पर सकारात्मक निर्णय शीघ्र:केंद्रीय स्वास्य मंत्री

0
23

केंद्रीय स्वास्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि फिजियोथेरैपिस्टों की मांगों के बारे में केंद्र सरकार गंभीरतापूर्वक विचार कर रही है। केंद्रीय स्वास्य एवं परिवार कल्याण विभाग केंद्र सरकार के अन्य विभागों और राज्य सरकार के स्वास्य विभाग से विचार-विमर्श कर जल्द ही फिजियोथेरैपिस्टों के बारे में सकारात्मक निर्णय लेने वाला है। केन्द्रीय मंत्री श्री चौबे रविवार को विश्व फिजियोथेरैपी दिवस के अवसर पर आई.पी.ए, बिहार के द्वारा ए.एन. सिन्हा इंस्टीटय़ूट में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ‘‘सबका साथ-सबका विकास’ के मंत्र पर चलने वाली है। फिजियोथैरेपिस्ट भी समाज, राष्ट्र और चिकित्सा क्षेत्र के महत्वपूर्ण घटक हैं। इसलिए बिहार सहित देश भर के फिजियोथेरैपिस्टों को इस बारे में चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है।

आईएपी के राज्य के अध्यक्ष डॉ. नरेद्र कुमार सिन्हा ने बताया कि विश्व भौतिक चिकित्सा परिसंघ ने 8 सितम्बर को विश्व फिजियोथेरैपी दिवस मनाने का संकल्प 1997 में लिया, तब से विश्व भर में भौतिक चिकित्सकों के द्वारा यह दिवस मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने के पीछे हमारे फिजियोथेरैपी संवर्ग के प्रचार-प्रसार और इसके क्षेत्र में आये नये-नये अन्वेषणों, नये प्रयोगों को मानव समाज के बीच प्रचारित करना है। अपने संवाद के दौरान उन्होंने केन्द्र तथा राज्य सरकार द्वारा फिजियोथेरैपी संवर्ग के उत्थान के लिए किए जा रहे कायरे की सराहना की और बताया कि अभी इस क्षेत्र में सरकार को और कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने उपस्थित मंत्री, परिवार कल्याण एवं स्वास्य अश्विनी कुमार चौबे से मांग की कि क्लिनिकल एस्टैबलिशमेंट एक्ट में हमारे लिए जो मानक तैयार किए गए हैं, वो सही नही है और उसमें सुधार की जरूरत है।

यह भी पढ़े  भारत की शान के लिए वीर कुंवर सिंह ने किया संघर्ष :राजनाथ सिंह

उक्त मौके पर केन्द्रीय मंत्री श्री चौबे के सामने विशिष्ट अतिथियों पाटलिपुत्र सांसद राम कृपाल यादव और इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक एन. आर. विास ने भी उक्त मांग का समर्थन किया। आयोजन समिति के सचिव डॉक्टर अविनाश चौधरी ने फिजियोथेरैपी समारोह में आए हुए अतिथियों को धन्यवाद ज्ञापन किया। समारोह में इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के डॉक्टर विनय पाण्डेय, डॉक्टर रत्नेश चौधरी, बोधगया के फिजियोथेरैपी कॉलेज के विभागाध्यक्ष डॉक्टर रोहित कुमार सिन्हा, महावीर वात्सल्य फिजियोथेरैपी कॉलेज के डॉक्टर ई. पालवी, डॉ. शिल्पी, डॉ. सोमा झा, डॉ. अनामिका आदि मौजूद थे। कार्यक्रम के दौरान डॉ. उदयशंकर प्रसाद, भूतपूर्व व्याख्याता, बिहार कॉलेज ऑफ फिजियोथेरैपी एवं ऑकुपेशनलथेरैपी, पटना को लाइफटाइम एचीवमेंट अवार्ड मंत्री के हाथों प्रदान किया गया।
कार्यक्रम के दौरान आईएपी की बिहार शाखा के संयुक्त सचिव और राज्य के एकमात्र बिहार सरकार संचालित डिस्ट्रिक्ट अर्ली इंटरवेंशन के डॉ. मृत्युंजय कुमार तथा डॉ. देवव्रत ने कार्यक्रम को सुचारु रूप से संचालित करने में अहम भूमिका निभायी। विश्व फिजियोथेरैपी दिवस पर दर्दमुक्त बिहार बनाने का लिया संकल्पपटना। विश्व फिजियोथेरैपी दिवस के अवसर पर राजधानी के बोरिंग केनाल रोड स्थित साई हेल्थ केयर वेलनेस सेंटर में एक समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें पटनावासियों ने दर्दमुक्त बिहार का संकल्प लिया। शिविर का आयोजन रोटरी पटना ग्रेटर के तत्वावधान में किया गया जिसमें लगभग दो सौ लोगों ने स्वास्य लाभ प्राप्त किया। शिविर में डॉ. निशिकांत, डॉ. अरविंद गुप्ता, डॉ. वसंत ने योगदान दिया।
इस अवसर पर डॉ. राजीव कुमार सिंह ने कहा कि फिजियोथेरैपी अब जितनी आम हो गई है उतनी पहले नहीं थी। पहले फिजियो पर लोगों को भरोसा नहीं था। लोगों में जागरूकता का भी अभाव था। दो सालों के निरंतर मेहनत से लोगों तक फिजियो को पहुंचाने में सफलता मिली है। साई हेल्थ केयर दो सौ से ज्यादा नि:शुल्क कैंपों में हजारों लोगों का इलाज कर चुका है।

यह भी पढ़े  झूठे आरोप लगाने वाले जनता से माफी मांगें:उपमुख्यमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here