फायरिंग से र्थराया राजेन्द्रनगर का इलाका,एक युवक को लगी गोली

0
19

पूर्व सीएम के दामाद की कार समेत दर्जन भर वाहन तोड़े ,पथराव और फायरिंग से इलाके में अफरा-तफरी मच गई। राहगीर वाहन छोड़कर जहां-तहां भागने लगे। दोनों पक्ष एक-दूसरे के समर्थकों के घर में घुसकर फायरिंग कर रहे थे। उसी मोहल्ले में पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के दामाद का घर है। बदमाशों ने उनके घर पर भी निशाना साधा। घर के बाहर खड़ी कार को चकनाचूर कर दिया। बगल के एक मकान पर गोलीबारी भी की। इसके अलावा रास्ते से गुजर रही दर्जनभर गाड़ियों में तोड़फोड़ की। लोग दुबककर घरों में घुस गए। दुकानों के शटर धड़ाधड़ गिरने लगे।
राजेंद्र नगर के रोड नंबर दस में फायरिंग से दहला इलाका बिल्ला सहनी के गुर्गे और स्थानीय लोगों के बीच हुई झड़प में जमकर चले ईंट-पत्थर

सुबह हुयी मारपीट की घटना में पुलिस ने संज्ञान नहीं लिया और शाम में उस घटना की प्रतिक्रिया में जमकर दो गुटों में मारपीट के बाद पथराव और गोलीबारी हुयी। फायरिंग की आवाज से राजेन्द्रनगर का पॉश इलाका र्थरा उठा। एक युवक संतोष को गोली लगी है। उसे अस्पताल ले जाया गया है। घटना की बाबत पुलिस के मुताबिक रविवार की सुबह हुई मारपीट की घटना के बाद शाम में दोबारा भिड़ंत हो गयी। पुलिस की मानें तो राजेन्द्रनगर रोड नंबर दस में ई रिक्शा से एक मरीज को लेकर चालक आ रहा था। वहां एक स्थानीय व्यक्ति की गाड़ी में ई रिक्शा से धक्का लग गया था। उस बात को लेकर गाड़ी मालिक ने ई रिक्शा चालक की पिटाई कर दी थी। शाम साढ़े सात बजे ई रिक्शा चालक के गुट के लोगों ने गाड़ी वाले के यहां हमला कर दिया। दोनों गुटों में मारपीट हो रही थी। इसी में एक गोली चलायी गयी जो स्थानीय निवासी संतोष की कमर को छूते निकल गयी। उसे साधारण जख्म पहुंचा है। जख्मी को अस्पताल भेजा गया है। इस बीच स्थानीय लोगों की मानें तो राजेन्द्रनगर ओवरब्रिज के नीचे शराब व गांजा धड़ल्ले से बेचा जाता है। उस रास्ते जाने वाली महिलाओं व छात्राओं पर फब्तियां कसी जाती है। कई बार पुलिस को सूचना दी गयी लेकिन कारगर कार्रवाई नहीं की जाती। छापेमारी के बाद रकम तय कर दी जाती है और शराब बेचने वाले अपना धंधा चलाते रहते हैं। स्थानीय युवक के मुताबिक शराब का विरोध करने के कारण ही शाम में राजा व उसके साथियों ने उनके घरों व दुकानों पर हमला कर दिया, जो मिला उसकी पिटाई की गयी। जब उन लोगों का विरोध स्थानीय लोगों ने किया तो हमलावरों ने पथराव कर दिया। पूरी सड़क पर ईटें बिखरी थीं। पुलिस को जानकारी दी गयी। एक गश्ती गाड़ी पहले आयी लेकिन पुलिस वाले कम थे। वे लोग तुरत लौट गये। काफी देर तक वहां खदेड़ाखदेड़ी और भगदड़ होती रही। इस बीच रह-रहकर गोलियां चलने की आवाज भी आती रही। कुछ देर बाद अन्य पुलिसकर्मियों के साथ थाने के अधिकारी और डीएसपी पहुंचे। पुलिस बल ने लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन वे लोग कुछ सुनने को तैयार नहीं थे। बाद में काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने उग्र लोगों को शांत कराया। थाने के अधिकारी के मुताबिक एक-दो गोली चली है। संतोष को गोली नहीं लगी। गोली उसकी कमर को छूते हुए निकल गयी है। इस बीच, एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि मामला सुबह गाड़ी से टक्कर के बाद मारपीट की प्रतिक्रिया की है। उनके मुताबिक कहीं शराब या छेड़खानी के मामले के विरोध में भिड़ंत नहीं हुयी है। एसएसपी ने बताया कि पुलिस हमलावरों की तलाश में छापोमारी कर रही है।

यह भी पढ़े  बिहार दिवस समारोह में बिहारी कलाकारों को कम मिल रहा मौका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here