फरहत परवीन ने मौलवी की परीक्षा में मारी बाजी

0
445

पटना :बिहार राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड ने मंगलवार को मौलवी का (इंटर के समकक्ष) परीक्षा परिणाम घोषित किया। परीक्षा परिणाम की घोषणा बोर्ड अध्यक्ष प्रो. शमशाद हुसैन ने की। उन्होंने सफल परीक्षार्थियों को मुबारकबाद देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस बार मौलवी की परीक्षा में कुल 51103 परीक्षार्थी शामिल हुए जिनमें 18388 छात्र एवं 32715 छात्राएं थीं। उनमें 37612 परीक्षार्थी सफल हुए जबकि 13037 अनुत्तीर्ण हुए। वहीं 4676 अभ्यर्थी अनुपस्थित व 12 परीक्षार्थियों को परीक्षा के दौरान नकल करते हुए निष्कासित किया गया। परीक्षा में 2152 अभ्यर्थी प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण हुए जबकि 27164 द्वितीय एवं 8296 परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी से उत्तीर्ण हुए।परीक्षा परिणाम को डब्लूडब्लूडब्लू. बीएसएमईबी.ओआरजी पर भी देखा जा सकता है। बोर्ड अध्यक्ष प्रो. शमशाद हुसैन एवं सचिव मो. जाहिद हुसैन ने बताया कि जिला पदाधिकारी द्वारा चयनित सभी परीक्षा केन्द्रों पर सख्त सुरक्षा व्यवस्था के बीच स्वच्छ वातावरण में कदाचारमुक्त परीक्षा का आयोजन कराया गया। फौकानिया एवं मौलवी परीक्षा की उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए पांच केन्द्र बनाए गये थे जिनमें दो मूल्यांकन केन्द्र सिर्फ मौलवी के लिए थे। सभी केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे। मौलवी की परीक्षा में मदरसा शारिया इदारा-ए-शारिया सुल्तानगंज, महेन्द्रू, पटना की फरहत परवीन ने पूरे प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया है जबकि इसी मदरसा के मो. मेराज आलम ने द्वितीय स्थान पाया। मदरसा वहिदिया तारी मोहल्ला आरा के मो. नवाज तृतीय और यहीं के मो. शमसीर ने चौथा स्थान पाया। पांचवें स्थान पर मदरसा अहमदिया अब्बाबकरपुर, वैशाली के मो. इम्तेयाज अहमद रहे।20 अक्टूबर तक आएगा फौकानिया का रिजल्टफौकानिया (मैट्रिक) का रिजल्ट अगले माह 20 तक प्रकाशित होने की उम्मीद है। यह जानकारी बिहार राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड के सचिव मो. जाहिद हुसैन ने दी। उन्होंने कहा कि कोशिश है कि 15 से 20 अक्टूबर तक फौकानिया के रिजल्ट का भी प्रकाशन कर दिया जाए।भविष्य उज्ज्वल कैसे होगा मौलवी उत्तीर्ण छात्रों काजब राज्य के साथ-साथ देश के अन्य जगहों पर स्नातक पार्ट वन के नामांकन की प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है तो ऐसे में मौलवी उत्तीर्ण छात्र उच्च शिक्षा के लिए नामांकन कहां कराएंगे। ऐसे में बड़ा सवाल है कि जब उच्च शिक्षा में नामांकन ही नहीं होगा तो छात्रों का भविष्य उज्ज्वल होने के बजाए बर्बाद हो जाएगा। जबकि इस वर्ष मौलवी परीक्षा की सारी प्रक्रिया मई के अंत तक पूरी कर ली गयी थी। नामांकन से संबंधित सवाल पूछे जाने पर बोर्ड के अध्यक्ष एवं सचिव ने गोलमटोल जबाव देकर चुप्पी साध ली।

यह भी पढ़े  प्रधानमंत्री के पटना दौरे में 5000 करोड़ की योजनाओं का होगा शिलान्यास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here