प्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेत्री और राज्यसभा की सदस्य जया बच्चन का जन्मदिन विशेष

0
12

जया बच्चन (अंग्रेज़ी: Jaya Bachchan ; जन्म- 9 अप्रैल, 1950, जबलपुर, मध्य प्रदेश) एक प्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेत्री और राज्यसभा की सदस्य हैं। जया भारतीय सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन की पत्नी और अभिनेता अभिषेक बच्चन की माँ है। अभिनेत्री के रूप में जया की भी अपनी विशिष्ट उपलब्धियाँ रही हैं और वे फ़िल्म क्षेत्र की आदरणीय अभिनेत्रियों में गिनी जाती हैं। आज के अनेक युवा कलाकारों के लिए वे मातृवत स्नेह का झरना हैं। जया भादुड़ी ने ऐसे समय में फ़िल्मों में प्रवेश किया था, जब परदे पर शर्मिला टैगोर, मुमताज़और हेमा मालिनी की चमक-दमक फैली हुई थी। सत्तर के दशक में सीधी-सादी, मासूम-सी लड़की का ग्लैमर की दुनिया में आना और सफल होना, एक तरह से नामुमकिन जैसा था लेकिन जया की सादगी दर्शकों को एकदम से लुभा गई। उन्हें जया के मासूम चेहरे में एक भारतीय लड़की के दर्शन हुए। दर्शकों को लगा जैसे वे पड़ोस में रहने वाली लड़की हों।

जीवन परिचय

जन्म और परिवार

जया बच्चन का जन्म का नाम ‘जया भादुड़ी’ है। वे पत्रकार तरुण कुमार भादुड़ी की तीन पुत्रियों में सबसे बड़ी हैं। तरुण कुमार का वास्तविक नाम सुधांशु भूषण था। 1936 में उनके पिता देवीभूषण दिल्ली से स्थानांतरित होकर नागपुर पहुँचे थे। सुधांशु ने त्रिपुरी कांग्रेस में स्वयंसेवक की भूमिका निभाई थी। उन्होंने 1944 में पटना की इंदिरा गोस्वामी से विवाह किया। जया का जन्म 9 अप्रैल 1950 को हुआ। जया की दो छोटी बहनों के नाम नीता और रीता हैं।

बचपन

जया बचपन से ही जिद्दी स्वभाव की थीं। उन्हें जो चाहिए, वह हासिल कर छोड़ती थीं। वे भोपाल के ‘सेंट जोसेफ कॉन्वेंट’ में पढ़ती थीं। खेलकूद में भी वे शिरकत करती थीं और 1966 में उन्हें प्रधानमंत्री के हाथों एन.सी.सी. की बेस्ट कैडेट होने का तमगा मिला था। उन्होंने छः साल तक भरतनाट्यम का प्रशिक्षण भी लिया था। वे दिलीप कुमार की प्रशंसक हैं।

शिक्षा

हायर सेकंडरी पास करने के बाद जया ने पुणे के ‘फ़िल्म इंस्टीट्यूट’ में प्रवेश लिया था, लेकिन इससे पहले ही वे सत्यजीत राय की फ़िल्म ‘महानगर’ में काम कर चुकी थीं। फ़िल्म निर्माता-निर्देशक तपन सिन्हा, तरुण कुमार के अच्छे दोस्तों में थे। उनकी फ़िल्म ‘क्षुधित पाषाण’ की जब भोपाल में शूटिंग हुई थी, तब सारी व्यवस्था तरुण कुमार ने की थी। सिन्हा, तरुण कुमार को भाग्यवान (लकी) आदमी मानते थे और अपनी शूटिंग के समय अक्सर उन्हें अपने पास बुलाया करते थे। इसीलिए ‘निर्जन सैकते’ की आउटडोर शूटिंग के समय उन्होंने अपने मित्र को पुरी बुलाया था। यह 1962 का साल था। पिताजी के साथ जया भी पुरी गई थीं। वे होटल ‘बे-व्यू’ में ठहरे थे, जहाँ शर्मिला टैगोर और रवि घोष से भी उनकी मुलाकात हुई थी।

यह भी पढ़े  सांसद के बेटे का बिना मैच खेले क्रिकेट टीम में हुआ चयन, मचा बवाल

अभिनय का प्रारम्भ

15 साल की उम्र में जया भादुड़ी को सबसे पहले बंगला के महान् फ़िल्मकार सत्यजित रे ने अपनी फ़िल्म ‘महानगर’ में लिया था। इसके पहले वे ‘भारतीय फ़िल्म एंड टेलीविजन फ़िल्म इंस्टीट्यूट’ की डिप्लोमा फ़िल्म ‘सुमन’ में कैमरे का सामना कर चुकी थीं। ‘सुमन’ फ़िल्म के डायरेक्टर उनके सहपाठी मदन बावरिया थे। जया बंबइया निर्माता-निर्देशकों को भा गईं। ऋषिकेश मुखर्जी ने ‘सुमन’ फ़िल्म में जया को देखा, तो अपनी फ़िल्म ‘गुड्डी’ में स्कूल-गर्ल के रूप में चुन लिया। जया इंस्टीट्यूट में पढ़ रही थीं कि बासु चटर्जी अपनी फ़िल्म में काम करने के लिए उनसे बात करने आए थे। चटर्जी से जया ने कहा था कि कोर्स पूरा करने से पहले कोई भी छात्र फ़िल्म में काम नहीं कर सकता, ऐसा नियम है। तब चटर्जी ने जया से कहा था कि उनके जैसी कलाकार के लिए इंस्टीट्यूट की पढ़ाई का कोई महत्व नहीं है। छोड़ दो कोर्स। लेकिन जया ने ऐसा नहीं किया था। बासु चटर्जी ने भी उनकी प्रतीक्षा नहीं की थी। जया बच्चन को ‘भारतीय फ़िल्म एंड टेलीविजन फ़िल्म इंस्टीट्यूट’ से गोल्ड मेडल मिला

पहली फ़िल्म

जगत मुरारी जब फ़िल्म इंस्टीट्यूट के प्रधानाचार्य थे, तब ऋषिकेश मुखर्जी ने उनसे कहा था कि ‘गुड्डी’ फ़िल्म के लिए एक अच्छी लड़की चाहिए। जगत् मुरारी ने कहा था- ‘जया है ना, जया भादुड़ी।’ ऋषिदा को अचानक उनका स्मरण हो आया और उन्होंने कहा- ‘जया आदर्श गुड्डी बनेगी। वह जैसे ही पास हो जाए, मैं ‘गुड्डी’ का काम शुरू कर दूँगा।’ 16 अगस्त 1970 को जया ने मुंबई की गाड़ी पकड़ी और 18 अगस्त को मोहन स्टूडियो में ‘गुड्डी’ की शूटिंग शुरू हो गई।[2] ‘गुड्डी’ फ़िल्म में स्कूल गर्ल फ़िल्म स्टार धर्मेंद्र की दीवानी है। गुड्डी के सेट पर ही अमिताभ बच्चन, जलाल आगा और अनवर अली से जया की मुलाकात हुई थी। ‘गुड्डी’ के सेट पर जया को हमेशा यह लगता रहता था कि यह तिकड़ी कोड-लेंग्वेज में मेरे बारे में ही बातें करती रहती है। मिथुन चक्रवर्ती, अमित और जया की जोड़ी को ‘मेड फॉर इच अदर’ (एक-दूजे के लिए) कहते हैं।[2] ‘गुड्डी’ फ़िल्म सफल रही और जया को फौरन राजश्री प्रोडक्शन की फ़िल्म ‘उपहार’ में नायिका का रोल मिल गया। दर्शकों को जया भा गईं। उनके लिए वे नई आदर्श कन्या बन गईं। अपनी सादगी भरी पोषाक और सीधे-सरल रोल के कारण दर्शक जया को पसंद करने लगे।

यह भी पढ़े  मुंबई में BJP सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के आवास पर चला बीएमसी का हथौड़ा

सशक्त अभिनेत्री

जया ने भी तय कर लिया था कि वे हिन्दी फ़िल्म की हिरोइन की इमेज को बदल देंगी। अब तक फ़िल्मों में हिरोइन को हीरो के आसपास नाचते-गाते, रोमांस करते ही दिखाया जाता रहा था। हिरोइन भी बुद्धिमान हो सकती है। वह अपने फैसले खुद कर सकती है। ज़रूरत पड़ने पर माता-पिता या ससुराल वालों से तर्क-वितर्क कर सकती है, ऐसा कभी दिखाया नहीं गया था। वह महज शो-पीस या फिर घर की चाहरदीवारी में ‘मैं चुप रहूँगी’ अंदाज में आँसू बहाने वाली अबला जैसी दिखाई जाती थी। जया ने अत्यंत कुशलता के साथ अपनी इमेज बनाई और ‘पिया का घर’, ‘अनामिका’, ‘परिचय’, ‘कोरा काग़ज’, ‘अभिमान’, ‘मिली’, ‘कोशिश’ जैसी कई उम्दा फ़िल्में कीं। जया की जब सशक्त अभिनेत्री की इमेज बन गई तो अस्सी के दशक के नामी नायक उनके साथ काम करने से घबराने लगे।

अमिताभ और जया

जया और अमिताभ का परिचय ऋषिकेश मुखर्जी ने अपनी फ़िल्म ‘गुड्डी’ के सेट पर कराया था। अभिमान फ़िल्म के बाद अमिताभ और जया ने ज़िंदगी भर साथ चलने का फैसला किया था और शोले फ़िल्म साइन करने के बाद दोनों ने शादी कर ली। अमिताभ और जया 3 जून 1973 को बंगाली रीति-रिवाज से शादी के बंधन में बंध गए। जया और अमिताभ पहली बार पुणेके फ़िल्म इंस्टीट्यूट में मिले थे। जया कहती हैं कि मैंने पहली बार अमित जी को इंस्टीट्यूट में देखा और पसंद करने लगी। मेरे दोस्तों ने कहा कि वो एक स्टिक की तरह लगते हैं। वो काफ़ी पतले थे और उनकी आंखें काफ़ी बड़ी-बड़ी थीं। मुझे याद है कि इस बात पर मैं अपने दोस्तों से काफ़ी लड़ी थी और कहा था कि वो काफ़ी अलग हैं। शायद ये पहली नजर का प्यार था। उसके बाद ये मुलाकात, कई और मुलाकातों का सबब बनी लेकिन दोनों कैसे क़रीब आए, इसे दोनों ने जमाने से छुपाए रखा। चुपके-चुपके, गुड्डी, बावर्ची, सिलसिला, अभिमान, मिली, कभी खुशी कभी गम में दोनों की ऑन स्क्रीन कैमिस्ट्री बेमिसाल रही है।[3] जया भादुड़ी ने अमिताभ के साथ आठ फ़िल्में की जो सभी काफ़ी सफल रहीं। अमिताभ बच्चन से 37 सालों से उनका साथ जुड़ा है। अभिमान फ़िल्म के बाद अमिताभ और जया ने ज़िंदगी भर साथ चलने का फैसला किया था और शोले फ़िल्म साइन करने के बाद दोनों ने शादी कर ली। अमिताभ-जया का 37 साल पुराना ये रिश्ता आज के नौजवानों के लिए मिसाल है। 1972 से 1981 तक जया ने अमिताभ बच्चन के साथ कुल आठ फ़िल्में की हैं। ये हैं-

यह भी पढ़े  अटर्नी जनरल आज सुप्रीम कोर्ट में एससी-एसटी एक्ट पुनर्विचार याचिका पर जल्द सुनवाई का आग्रह करेंगे

बंसी-बिरजू,एक नजर,जंजीर,अभिमान,चुपके-चुपके,मिली, शोले, सिलसिला। इसके बाद वे ‘कभी खुशी-कभी गम’ में भी वे साथ-साथ आए थे।

श्रीमती अमिताभ बच्चन बनने के बाद अपनी पृथक् पहचान बनाए रखना लगभग असंभव था, लेकिन जया ने इसे संभव कर दिखाया। इसे उनके व्यक्तित्व की विशिष्टता कहा जा सकता है। अपनी पहली हिन्दी फ़िल्म ‘गुड्डी’ में उन्होंने अभिनेता धर्मेन्द्र की दीवानी-लड़की की भूमिका की थी, जबकि दूसरी फ़िल्म राजश्री की ‘उपहार’ में ऐसी अल्हड़ लड़की का रोल किया था, जो प्रेम और शादी का अर्थ नहीं समझती है। इन दो फ़िल्मों के बाद ही उन्हें संजीदा अभिनेत्री के रूप में मान्यता मिल गई। महिला दर्शकों ने जया को सादगी की साक्षात मूर्ति के रूप में ज़्यादा सराहा, लेकिन ग्लैमरस भूमिकाओं में (दिल दीवाना) नकार दिया। अपने अपेक्षाकृत छोटे-से कैरियर में जया ने ‘गुड्डी’, ‘उपहार’ ‘जवानी दीवानी’, ‘अनामिका’, ‘कोरा काग़ज़’, ‘कोशिश’, ‘पिया का घर’, ‘बावर्ची’, ‘गाय और गौरी’, ‘मन का आँगन’, ‘नौकर’, ‘नया दिन-नई रात’, ‘परिचय’, ‘फागुन’, ‘समाधि’, ‘सिलसिला’, ‘शोर’, ‘शोले’, ‘जंजीर’, ‘फिज़ा’, ‘कभी खुशी कभी ग़म’ जैसी फ़िल्मों में काम किया।

पारिवारिक दायित्व

जया ने अपने दौर की नायिकाओं से अपने को अलग किया। शादी के बाद घरेलू ज़िन्दगी जीने और अमिताभ के ‘सुपरस्टार’ बन जाने की व्यस्तता के चलते उन्होंने फ़िल्मों में काम करना कम कर दिया। पुत्र अभिषेक का जन्म, बेटी का जन्म, दोनों की परवरिश, अमिताभ की बीमारी के समय अपने दायित्वों को पूरा करने में वह काफ़ी समय फ़िल्मों से दूर रहीं। उन्होंने बच्चों के साथ पति के कैरियर को भी संभाला। एक जुझारू स्त्री होने के नाते उन्होंने कई बार अग्नि परीक्षाएँ दीं और सबमें सफल रहीं। इसी बीच ‘माँ रिटायर होती है’ जैसे नाटक में काम कर उन्होंने देश – विदेश में लोकप्रियता के परचम फहराए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here