प्रथम प्रवासी सांसद सम्मेलन में बोले पीएम मोदी, ‘रिफार्म टू ट्रांसफार्म’ अब हमारी नीति

0
9

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पहले प्रवासी सांसद सम्मेलन का उद्घाटन किया. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि मैं विदेशों से आए भारतीय मूल के अपने नागरिकों का 125 करोड़ हिंदुस्‍तानियों की तरफ से स्‍वागत करता हूं. पीएम मोदी ने कहा कि अब हमारा भारत बदल रहा है. ‘रिफार्म टू ट्रांसफार्म’ अब हमारी नीति है. देश अपने प्रवासी भारतीय को स्‍वभाविक सहयोगी के तौर पर देखता है. यहां की आर्थिक तरक्‍की में भी प्रवासी भारतीयों का महत्‍वपूर्ण योगदान है. उन्‍होंने कहा कि प्रवासी भारतीय हमारे देश के स्‍थाई ब्रांड एंबेसडर है.

उन्‍होंने कहा कि भारत से जाकर दूसरे देशों में रह रहे भारतीयों के मन से भारत कभी नहीं गया. आज आपको यहां देखकर आपके पूर्वजों को जितनी प्रसन्‍नता हो रही होगी उसका अंदाज हम लगा सकते हैं. आज वो जहां भी होंगे आपको यहां देखकर प्रसन्‍न होंगे. यहां से जो भी बाहर गए उनके मन से भारत नहीं निकला. भारतीय मूल के लोग जहां भी गए उसे अपना बना लिया. वहां की संस्‍कृति में घुलमिल गए. वहां के खानपान, वहां के सिनेमा सब में रचबस गए लेकिन अपनी संस्‍कृति एवं अपनी भारतीयता को सदैव जीवित रखा. उन्‍होंने कहा कि हर काम की रफ्तार पहले से डबल है और जीएसटी से टैक्‍स का जंजाल खत्‍म किया है

भारत की ग्‍लोबल रैंकिंग सुधरी 
प्रथम प्रवासी सांसद सम्मेलन का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्‍ली में उद्घाटन किया. इस मौके पर उन्‍होंने कहा कि किसी को जबरदस्‍ती तो किसी को बहला फुसलाकर यहां से ले जाया गया था, लेकिन आपका एक अंश आज भी यहां है. पीएम मोदी ने कहा कि लोगों की उम्‍मीद बढ़ी है और भारत में कारोबारी माहौल सुधरा है. आज वर्ल्‍ड बैंक, मू‍डीज जैसी संस्‍थाएं भारत की और देख रही है. उन्‍होंने कहा कि भारत की ग्‍लोबल रैंकिंग सुधरी है.

यह भी पढ़े  हाफिज सईद की रैली में फिलिस्तीनी राजदूत की मौजूदगी पर भारत ने जताया कड़ा विरोध

लोगों की उम्‍मीद अपने उच्‍चतम स्‍तर पर है: पीएम मोदी 
पीएम मोदी भारतीय मूल के लोग कई देशों में महत्‍वपूर्ण राजनीतिक पदों पर रह चुके हैं और हैं भी. वे लोग वहां की राजनीति में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. यह सब हम भारतीयों के लिए गर्व की बात है. इससे जुड़ी खबरें जब छपती है तो उसे यहां के लोग बड़े चाव से पढ़ते हैं. आप लोग लंबे समय से दूसरे देश में रह रहे हैं. आप देख रहे होंगे कि पूरे विश्‍व का नजरिया हमारे प्रति बदल रहा है. उसका कारण यह है कि भारत खुद बदल रहा है. यह बदलाव आर्थिक, सामाजिक और वैचारिक स्‍तर पर हो रही है. पहले चलता है जैसा भाव था अब वह बदल गया है. लेकिन अभी लोगों की उम्‍मीद अपने उच्‍चतम स्‍तर पर है.

पीएम मोदी ने कहा कि विदेशी निवेश के मामले में काफी सुधार हुआ है. कई महत्‍वपूर्ण क्षेत्रों में काफी तेजी से सुधार हुआ है. वर्ल्‍ड बैंक से लेकर कई संस्‍थाएं भारत की ओर काफी उम्‍मीद से देख रही है. अब तक जो निवेश हुआ है उससे आधे से ज्‍यादा निवेश पिछले तीन वर्षों में हुआ है. यह सब इसलिए हुआ है कि हमारा उद्देश्‍य है पूरे सिस्‍टम को पारदर्शी बनाना और करप्‍शन को जड़ से समाप्‍त करना.

यह भी पढ़े  आसियान सम्मेलन में 'रामकथा' का डोनाल्ड ट्रंप- शिंजो आबे और पीएम मोदी सहित कई नेताओं ने लिया आनंद

भारत दुनिया का सबसे युवा देश
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने जीएसटी के माध्‍यम से पूरे देश का आर्थिक एकीकरण किया है. ऐसा कोई सेक्‍टर नहीं है जिसमें हमने रिफार्म न लाए हो. भारत दुनिया का सबसे युवा देश है इसलिए हमने मुद्रा योजना के जरिए युवाओं को मौका देने का काम किया. मुद्रा योजना के तहत लगभग 10 करोड़ लोन दिए गए हैं. सिर्फ एक योजना ने देश को लगभग 3 करोड़ उद्यमी दिया है. उन्‍होंने कहा कि ट्रांसपोटेशन सिस्‍टम को मजबूत करने पर हम लोग काफी ध्‍यान दे रहे हैं. कार्गो हैंडलिग की ग्रोथ नेगेटिव थी. वहीं इस सरकार के शासनकाल में इस क्षेत्र में काफी तेजी से सुधार हुआ है और अब यह बढ़कर 11 फीसदी हो गई है. उज्‍जवला योजना के बाद इस देश में नये डीलर बनाए गए हैं. घर-घर गैस सिलेंडर ले जाने वाले लोगों की संख्‍या बढ़ी है. यह सब सामाजिक बदलाव हो रहे हैं.

हमने योगा डे का प्रस्‍ताव रखा जो दुनिया ने माना
उन्‍होंने कहा कि हमने योगा डे का प्रस्‍ताव रखा जो कि सर्वसम्‍मति से पास हुआ. आज जिस तरीके से 21 जून को पूरे विश्‍व में योग दिवस बनाते हैं वह हम सब के लिए गर्व की बात है. हमने यमन में संकट के समय 4500 लोगों को सुरक्ष‍ित निकाला. विकट समय भी मानवीय मूल्‍यों को हमने नहीं भूला. पहले और दूसरे विश्‍व युद्ध में 1.5 लाख भारतीय सैनिकों ने जान गंवाई थी. यह उस समय किया जब कि भारत का इससे कुछ लेना देना नहीं था. भारतीय मूल्‍यों और शांति के लिए यह बलिदान इस विश्‍व को देन है.

यह भी पढ़े  अमेरिका पहुंचा कुलभूषण जाधव के परिवार के साथ बदसलूकी का मामला

पीएम मोदी ने कहा, 24 घंटे और सातों दिन काम करता है विदेश मंत्रालय 
सुषमा स्‍वराज की तारीफ करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमारी विदेश मंत्री 24 घंटे और सातों दिन सहायता के लिए उपलब्‍ध रहती है. भारत के विकास के लिए हमारे प्रयासों में प्रवासी भारतीय को हम अपना सहयोगी मानते हैं. नीति आयोग ने जो योजना बनाई है उसमें इन्‍हें खास स्‍थान दिया गया है. अर्थव्‍यवस्‍था, टूरिज्‍म जैसे मामले में प्रवासी भारतीय का काफी महत्‍वपूर्ण योगदान है. आज विदेश में बसे भारतीय इस भारत की तरक्‍की में अपना योगदान देना चाहता है. हमारी नजर किसी के अधिकार क्षेत्र पर नहीं अपनी तरक्‍की पर है. अपने लोगों की तरक्‍की पर है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here