प्रत्येक स्कूल में होंगे उर्दू शिक्षक : नीतीश

0
67
RAVINDRA BHAWAN ME URDU DIWAS PROGRAM CM NITISH KUMAR AND GHULAM GAUSH

सूबे के हर सरकारी स्कूल में उर्दू शिक्षक होंगे। फोकानिया और मौलवी की परीक्षा में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को भी सरकार पुरस्कार राशि देगी। 27 हजार उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति में फंसे पेच का हल भी जल्द निकाला जायेगा। सरकार की कोशिश है कि उर्दू शिक्षकों की बहाली की प्रक्रिया शुरू हो। यह घोषणा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को गुलाम सरवर जयंती समारोह में की। रवींद्र भवन में आयोजित इस कार्यक्रम को तकरीब यौम-ए-उर्दू (ऊदरू दिवस) के रूप में मनाया गया। मुख्यमंत्री ने 27 हजार उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति में पेंडिंग के मामले पर सलाह दी कि चार या पांच अप्रैल को आपलोग अपने कुछ प्रतिनिधि के साथ मिलें। मैं मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव एवं अन्य अधिकारियों के साथ बैठकर समस्या का समाधान करने का प्रयास करूंगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं बहाल होने वाले उर्दू शिक्षकों से उम्मीद करता हूं कि वो अपने छात्रों को ठीक ढंग से उर्दू सिखाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार बनने के बाद जब शिक्षा विभाग की हमने समीक्षा की तो पता चला कि 2,200 से 2,300 अल्पसंख्यक विद्यार्थी ही प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। इसके बाद हमने निर्णय लिया कि प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने को प्रेरित करने के लिए उन्हें पुरस्कार दिया जाये। अल्पसंख्यक वर्ग के प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने वाले छात्र-छात्राओं को दस हजार का पुरस्कार दिया गया, जिसके बाद सभी वगोर्ं को इसमें शामिल किया गया। इसका इतना असर पड़ा कि अल्पसंख्यक समुदाय के करीब 25 से 26 हजार विद्यार्थी प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने लगे। पुरस्कार राशि को मदरसा से प्रथम श्रेणी से पास करने वाले विद्यार्थियों को भी दिया जायेगा। अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थियों के लिए शिक्षण संस्थानों में आधारभूत संरचना के लिए भी काम किया गया। अल्पसंख्यक परित्यक्त महिलाओं को दी जाने वाली सहायता राशि 10 हजार रुपये को बढ़ाकर 25 हजार रुपये देने का फैसला किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यक युवाओं के रोजगार एवं उद्यमिता विकास के लिए सालाना 25 करोड़ रुपये की सीमा को बढ़ाकर 100 करोड़ रुपये किया गया।

यह भी पढ़े  सीबीआइ कोर्ट से सृजन घोटाले में चार और आरोपियों को आज मिली जमानत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here