प्रतिपक्ष के नेता के रुप में तेजस्वी का स्टैटस सही है : मांझी

0
118

पटना :बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की एनडीए के  हिस्सा हैं इसके बावजूद पिछले शुक्रवार को उन्होंने खुलकर बंगले की राजनीति पर प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव की तरफदारी की. उन्होंने साफ कहा कि प्रतिपक्ष के नेता के रुप में तेजस्वी का स्टैटस है लिहाजा 5, देशरत्न मार्ग उन्हें अलॉट किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रेम कुमार जब प्रतिपक्ष के नेता थे तो उन्हें भी वही बंगला अलॉट किया था जिसमें वो रह रहे थे. तेजस्वी की तरफदारी के कई मायने निकाले जा रहे हैं.

नीतीश मंत्रिमंडल में जगह नहीं

बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद जीतन राम मांझी खुद नीतीश कैबिनेट में मंत्री नहीं बने लेकिन वो चाहते थे कि मंत्रिमंडल में उनके बेटे को जगह दी जाए. हालांकि मांझी का बेटा फिलहाल किसी सदन का सदस्य है. वो इस संबंध में बीजेपी आलाकमान से गुहार लगाकर कह चुके हैं कि लोजपा के मंत्री पशुपति नाथ पारस की तरह उनके बेटे को भी MLC बनाकर मंत्री बनाया जाए लेकिन इस दिशा में अब तक बात आगे नहीं बढ़ सकी है.

यह भी पढ़े  समान काम-समान वेतन का निर्णय ऐतिहासिक : महाचंद्र

पूर्व सीएम जीतन राम मांझी चाहते हैं कि किसी राज्य का उन्हें राज्यपाल बना दिया जाए. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस संबंध में वे पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के सामने अपनी बात रख चुके हैं लेकिन अभी तक इसकी हरी झंडी नहीं मिली है.

पार्टी को बीजेपी में विलय करने का ऑफर

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बीजेपी आलाकमान पूर्व सीएम जीतन राम मांझी को बीजेपी में पार्टी को विलय करने का ऑफर मिल चुका है लेकिन मांझी इस ऑफर के राजनीतिक नफा नुकसान का आकलन नहीं कर पा रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here