पैसे के लिए मुखिया ने तीन बार बदला पति का नाम

0
114

कहा जाता है कि सूर्य, चन्द्रमा और सत्य ज्यादा समय तक छिप नहीं सकता। सिमरी प्रखण्ड के दुल्हपुर पंचायत के मुखिया द्वारा तीन पति बदलकर इंदिरा आवास की राशि का फर्जी तरीके से गबन के मामले में उप विकास आयुक्त अरविंद कुमार के द्वारा 13 अप्रैल 2018 को जारी पत्र के आलोक में सिमरी कि प्रखंड विकास पदाधिकारी अर्चना कुमारी ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। बताया जाता है वित्तीय वर्ष 2007-2008, 2013-2014, 2015-2016 में वर्तमान मुखिया रीता देवी, पति मुन्ना पासवान द्वारा तीन पुरु षों की पत्नी बनकर इंदिरा आवास का लाभ लिया है। इस कार्य में उनको सहयोग करने वाले तत्कालीन पंचायत सचिव राज किशोर सिंह, प्रखंड कल्याण पदाधिकारी अखिलेश कुमार सिंह, पंचायत सचिव हवलदार सिंह तथा इंदिरा आवास सहायक विनोद कुमार को भी दोषी पाया गया है। सरकारी नियम कानून का अवहेलना करते हुए फर्जी तरीके से धोखाधड़ी के आरोप में प्रखण्ड विकास पदाधिकारी अर्चना कुमारी ने सिमरी थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। इंदिरा आवास का लाभ लिया है। पत्रांक 346, 13 अप्रैल 2018 एवं पत्रांक 344 में उप विकास आयुक्त बक्सर व भूमि सुधार अपर समाहर्ता डुमराँव के जांच के आधार पर सिमरी बी.डी.ओ. द्वारा दुल्हपुर पंचायत के मुखिया समेत पांच लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। हालांकि एक बात यह भी सोचने वाली है कि 13 अप्रैल को निर्गत पत्र जिसमें स्पष्ट रुप से 24 घंटे के अंदर प्राथमिकी दर्ज की जाने की बात कही गई थी। उस पत्र के अवलोकन के बावजूद प्राथमिकी दर्ज होने में इतना विलंब क्यों हुआ? फायर ब्रिगेड की गाड़ी भी मौके पर पहुंच गई। हालांकि आक्रोशित लोग फायर ब्रिगेड की गाड़ी को भी नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़े  यशवंत सिन्हा का अरुण जेटली को करारा जवाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here