पुस्तकालयों को आधुनिक बनाएं वीसी : राज्यपाल

0
18
file photo

राज्यपाल सह कुलाधिपति लाल जी टंडन ने राज्य के विविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में उच्च शिक्षा के विकास-प्रयासों को गति प्रदान करने के उद्देश्य से आधारभूत संरचना विकसित करने के मद्देनजर पुस्तकालयों के सुदृढ़ीकरण और आधुनिकीकरण-कार्य को तत्परतापूर्वक संचालित करने हेतु सभी कुलपतियों को निर्देशित किया है। राज्य के विविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में स्नातकोत्तर स्तर पर सीबीसीएस पाठ्यक्रम एवं सेमेस्टर लागू होने के बाद नये पाठ्यक्रमों के अनुरूप नयी पुस्तकों की जरूरत महसूस की जा रही है। पिछले दिनों सम्पन्न ‘‘कुलपतियों की बैठक’ एवं नव नियुक्त सहायक प्रायापकों के साथ हुए विमर्श के दौरान यह बात उभरकर सामने आयी है कि पुस्तकालयों में नयी पुस्तकों की खरीदारी के साथ-साथ, पुरानी पुस्तकों एवं पांडुलिपियों के डिजिटाइजेशन के कार्य भी बहुत जरूरी हैं। राज्यपाल ने उपयरुक्त पृष्ठभूमि में विविद्यालयों एवं महाविद्यालयों के पुस्तकालयों के सुदृढ़ीकरण एवं आधुनिकीकरण हेतु आवश्यक सुझाव देने के लिए एक समिति गठित करने का आदेश दिया है। आर्यभट्ट ज्ञान विविद्यालय, पटना के प्रतिकुलपति एसएम करीम इस समिति के अध्यक्ष बनाये गये हैं। इस समिति में बतौर सदस्य संजीव कुमार झा, सहायक प्राध्यापक एमएलटी कॉलेज, सहरसा, शीला यादव, सहायक प्राध्यापक एमआरएम कॉलेज, दरभंगा तथा पटना विविद्यालय, खुदा बख्श लाइब्रेरी, पटना एवं सिन्हा लाइब्रेरी, पटना के पुस्तकाल्याध्यक्षों को भी शामिल किया गया है। समिति से एक महीने के भीतर अपना तयपरक प्रतिवेदन समर्पित करने को कहा गया है। समिति से यह अपेक्षा की गई है कि वह पुस्तकों के समुचित रख-रखाव , नयी पुस्तकों की खरीदारी, पुस्तकालय में आलमारी, रेक, उपस्कारादि की व्यवस्था, डिजिटाइजेशन, समुचित स्थान एवं प्रकाश व्यवस्था आदि प्रासंगिक विन्दुओं पर व्यापक रूप से अपने सुझाव प्रदान करेगी। समिति के सुझावों के आलोक में सभी कुलपतियों से विमशरेपरांत राजभवन द्वारा विविद्यालयों/ महाविद्यालयों के पुस्तकालयों के आधुनिकीकरण-सुदुढ़ीकरण के संदर्भ में आवश्यक निर्देश प्रदान किया जायेगा।

यह भी पढ़े  लाठीचार्ज के बीच पुसू के पदाधिकारियों ने ली शपथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here