पुल का डिजाइन हो बाढ़ का प्रभाव कम करने वाला : मोदी

0
49
file photo

ज्ञानभवन में ‘‘मेजर ब्रिजेज इन बिहार : इनोवेशन एंड चैलेंजेज’ पर आयोजित वर्कशॉप को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार बाढ़ प्रभावित राज्य है। नदियों की धारा एवं दिशा को ध्यान में रखते हुए पुल का डिजाइन हो ताकि पानी का अप्रत्याशित तेज बहाव बाधित हुए बिना प्रवाहित हो और बाढ़ का प्रभाव भी कम हो सके। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद बिहार में गंगा पर राजेंद्र सेतु (मोकामा), सोन पर कोईलवर पुल और गंगा पर महात्मा गांधी सेतु जैसे मात्र 3-4 गिने-चुने पुल थे, वहीं एनडीए सरकार आज सोन नदी पर 3, गंडक पर 5 और कोशिश नदी पर 6 (जिसमें 1 का निर्माण हो चुका है) तथा गंगा नदी पर 12 नये मेगा पुलों का निर्माण कर रही है। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की एनडीए सरकार ने बिहार में दीघा-सोनपुर रेल पुल, मुंगेर रेल पुल तथा कोशी नदी पर मेगा पुल का निर्माण कराया। एनडीए सरकार के 15 वर्षो के कार्यकाल में बिहार राज्य पुल निर्माण निगम लिमिटेड ने 2200 से ज्यादा पुल-पुलियों का निर्माण कर राज्य की बदहाल व बदनाम परिवहन व्यवस्था का कायाकल्प किया। सड़कों के जाल और पुलों के निर्माण से बिहारवासी को सुगम-सुलभ और बेहतरीन यातायात सुविधा मिली है। ज्ञात हो कि इस दो दिवसीय वर्कशॉप का उद्घाटन मुख्यमंत्री ने किया। कार्यक्रम को पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव और पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा समेत वरिष्ठ पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया।

यह भी पढ़े  किसानों के प्रति घड़ियाली आंसू बहा रहा विपक्ष : मंगल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here