पुलवामा में CRPF कैंप पर फिदायीन हमले में पांच जवान शहीद

0
97

दक्षिण् दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों पर आतंकवादियों के फिदायीन हमले में 5 जवान शहीद हो गए और सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई में दो आतंकवादी मारे गए।  इस मामले में केन्‍द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंकियों ने कायरतापूर्ण काम किया है और हमें अपने बहादुर जवानों पर गर्व है. उन्‍होंने कहा कि उनका बलिदान खाली नहीं जाएगा और पूरा देश जवानों के परिवार के साथ है.

हमले में शहीद हुए एक सीआरपीएफ जवान तुफैल अहमद के बेटे अनीस ने कहा कि ‘आतंकवाद समाप्त नहीं हुआ है. हमारे जवान अपने जीवन का बलिदान दे रहे हैं. कृपया कुछ करें’. उन्‍होंने आगे कहा, ‘दुनिया ने पाकिस्तान से बदतर देश नहीं देखा है’. इस घटना में शहीद हुए तुफैल अहमद एवं अन्‍य सीआरपीएफ जवानों के यहां शोक का माहौल है.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है और यह हमला पुलवामा में इसी संगठन के शीर्ष कमांडर नूर मोहम्मद तांतरे के मारे जाने के पांच दिन बाद हुआ है। सूत्रों ने बताया कि दो से तीन आतंकवादियों के समूह ने पुलवामा में लाथपोरा स्थित सीआरपीएफ की 185 बटालियन के मुख्य गेट के समीप हथगोले फेंके और अंधाधुंध गोलीबारी की। द रायटर इसमें चार जवान घायल हो गए। यह हमला रात करीब दो बजे किया गया और इसके बाद आतंकवादी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। घटना के बाद इन जवानों को सैन्य अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गयी। सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए दो आतंकवादियों को मार गिराया है। इलाके में सुरक्षा बलों का अभियान अभी जारी है और यह माना जा रहा है कि यहां अभी भी दो से तीन आतंकवादी छिपे हैं। सूत्रों ने बताया कि आतंकवादियों के सफाया अभियान में राज्य पुलिस के विशेष अभियान दस्ते के अलावा, 50 राष्ट्रीय रायफल्स, और सीआरपीएफ के जवान लगाए गए हैं। इस क्षेत्र को चारों तरफ से घेर लिया गया है ताकि आतंकवादी बचकर न भाग जाएं और न ही दोबारा हमला कर सकें।द रायटर इसके अलावा अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए इंटरनेट सेवा को क्षेत्र में बंद कर दिया गया है।

यह भी पढ़े  अमरनाथ यात्रियों पर हमला करने वाले लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकी किए गए ढेर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here